bhagalpur

  • Jul 22 2019 8:42AM
Advertisement

हर-हर महादेव से गूंजा कांवरिया पथ, सात हजार से अधिक कांवरियों ने उठाया जल

हर-हर महादेव से गूंजा कांवरिया पथ, सात हजार से अधिक कांवरियों ने उठाया जल

 भागलपुर   : सावन की पहली  सोमवारी के लिए रविवार को शहर के विभिन्न घाटों हनुमान घाट, एसएम कॉलेज सीढ़ी घाट, बरारी सीढ़ी घाट, बरारी पुल घाट पर प्रात: से ही डाक बम व बोल बम आने लगे थे. दिनभर डाकबम के लिए जल भरने वालों का सिलसिला जारी रहा. पहली सोमवारी के लिए डाकबमों का कम रुझान रहा. फिर भी सात हजार से अधिक कांवरियों ने जल भरा और डाक बम व बोल बम के लिए निकले. 

 
विभिन्न जिलों के श्रद्धालुओं ने डाक बम के लिए भरा जल: जल भरने वाले डाकबम सोमवार को बासुकीनाथ समेत अन्य बाबा भोलेनाथ के मंदिर में जलाभिषेक करेंगे.  गोड्डा गांधी नगर के रामचंद्र प्रसाद ने बताया कि उनकी मनोकामना पूरी हुई, इसलिए पहली सोमवारी को ही डाकबम जा रहे हैं. बांका बाबू टोला के प्रीतम कुमार ने बताया कि हरेक सावन में किसी भी सोमवारी को बासुकीनाथ में भगवान शंकर को जल चढ़ाते हैं. इस बार पहली सोमवारी के लिए ही जल भरा.   
 
निगम ने पुल घाट पर कराया बैरिकेडिंग, स्नान करने वालों ने तोड़ा: श्रावणी मेले को लेकर नगर आयुक्त जे प्रियदर्शनी ने घाटों का निरीक्षण कर साफ-सफाई, बैरिकेडिंग, चूना-ब्लीचिंग व रोशनी करने का निर्देश दिया था.
 
 रविवार को पुल घाट में नगर निगम की ओर से पानी में किये गये बांस बैरिकेडिंग को स्नान करने वालों ने तोड़ दिया, जबकि घाटों पर निगम कर्मियों की तैनाती थी. घाट से  बरारी हाई स्कूल तक ब्लीचिंग-चूना का छिड़काव नहीं किया. 
 
शहर के शिवालय सजधज कर तैयार: शहर में विभिन्न मंदिरों बूढ़ानाथ मंदिर, आदमपुर स्थित  शिव शक्ति मंदिर, मनसकामना नाथ, दूग्धेश्वरनाथ महादेव, कूपेश्वर नाथ महादेव, भूतनाथ महादेव आदि शिवालयों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ेगी.  
 
विभिन्न स्थानों पर सेवा शिविर: डाकबम के लिए जगह-जगह सेवा शिविर लगाया गया. एसएम कॉलेज सीढ़ी घाट के समीप गायत्री छात्रावास की ओर से सेवा शिविर लगाया गया. इसमें प्रवीण झा एवं छात्राओं ने योगदान दिया. 
 
एसबीआइ मुख्य शाखा के सामने वाहनों से बोतल बंद पानी वितरण किया गया. भीखनपुर स्थित नेत्रहीन विद्यालय के सामने सेवा शिविर लगा कर कांवरियों को शरबत व फल का वितरण किया गया. जगदीशपुर मार्ग पर लोग कांवरियों की सेवा में तन-मन से जुटे हुए थे. 
 
मारवाड़ी युवा मंच भागलपुर शाखा की ओर से पिस्ता चौक पर सेवा शिविर लगाया गया. शिविर में अध्यक्ष नितिन भुवानिका, पूर्व प्रांतीय अध्यक्ष सुभाष वर्मा, मनोज चूड़ीवाला, रवि सराफ, करण शर्मा, रोशन सिंघानिया, अशीष सराफ, आलोक बजाज मोंटी का विशेष योगदान रहा. भारत स्काउट एंड गाइड की ओर से एसएम कॉलेज सीढ़ी घाट के समीप शिविर लगाया गया. 
 
आज सुबह 8 बजे तक बाइपास पर नो इंट्री: जिला प्रशासन और भागलपुर पुलिस द्वारा श्रावणी मेला में कांवरियाें की भीड़ को देखते हुए रविवार दोपहर 12 बजे से लेकर सोमवार सुबह 8 बजे तक बाइपास पर भारी वाहनों के लिए नो इंट्री लागू की गयी. 
 
जेएससी ममलखा ने लगाया डाक बम शिविर
सबौर. ज्वाइंट स्पोर्ट्स क्लब डाक बम सेवा समिति ममलखा के सदस्यों ने डाक बम की सेवा में शिविर लगाया. शिविर का आयोजन बांका जिले के रजौन में किया जाता है. मौके पर कमेटी के सदस्य राम कृष्ण, मनोज मंडल, उपेंद्र मंडल, विपिन, कृष्णा अभय गौतम अरविंद पप्पू सहित अन्य सदस्य शामिल थे.
 
कांवरिया पथ पर भक्ति
जिला प्रशासन की ओर से निर्देशित कलाकारों ने कांवरिया पथ धांधी बेलारी में भक्ति जागरण का कार्यक्रम किया. सुलतानगंज के एकेपी म्यूजिकल ग्रुप ने भगवान शिव के एक से एक भजन प्रस्तुत किये. मंच संचालन पवन पाठक ने किया. 
 
इधर, सुरक्षा मानक पर कांवरिया शिविर फेल
भागलपुर. श्रावणी मेले को लेकर जिला अग्निशमन विभाग की टीम ने सुलतानगंज में बने कांवरिया शिविरों और धर्मशाला में सुरक्षा मानकों की जांच की. तीन दिनों में अग्निशमन विभाग ने करीब दो दर्जन कांवरिया शिविरों और धर्मशाला की जांच की है. किसी भी शिविर में सुरक्षा मानकों का पालन नहीं पाया.
 
 मानकों का उल्लंघन करने वाले सभी शिविरों और धर्मशाला को विभाग ने नोटिस देकर एक सप्ताह में मानकों की पूर्ति करने की चेतावनी दी है. जिला अग्निशमन पदाधिकारी विनय प्रसाद सिंह ने बताया कि तीन दिनों में सुलतानगंज में करीब दो दर्जन शिविर, धर्मशाला और रेस्टोरेंट की जांच हुई. 
 
जांच में पाया गया कि शिविर, धर्मशाला और रेस्टोरेंट के संचालक व संगठन नियमों काे ताक पर रख उसे चला रहे हैं. ऐसे में संचालक व संगठन हजारों कांवरियों की जान को खतरे में डाल संचालन कर रहे हैं. उन्हें एक सप्ताह में अग्निशमन यंत्र, इंट्री और एग्जिट गेट आदि मानकों को पूरा करने के चेतावनी दी गयी है. एक सप्ताह में मानकों का पालन नहीं किया जाता है, तो जिला प्रशासन को रिपोर्ट सौंप कर उक्त शिविरों को बंद करा दिया जायेगा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement