Advertisement

patna

  • Aug 14 2019 4:32AM
Advertisement

275 में से 48 फ्लैट अवैध, पार्किंग की समस्या

  पटना   : दीघा-आशियाना रोड के पासपोर्ट कार्यालय की बगल वाली सड़क पर स्थित मुंडेश्वरी इन्क्लेव अपार्टमेंट की समस्या काफी गंभीर है. अपार्टमेंट के नौ ब्लॉकों में से एक पूरा ब्लॉक ही अवैध है. 

 
अन्य सभी ब्लॉक के ऊपरी फ्लोर पर अवैध निर्माण हुए हैं. इस सोसाइटी में बने 275 फ्लैटों में से 48 फ्लैट अवैध रूप से निर्मित हैं. बिल्डर ने पार्क की जगह पर एक ब्लॉक का निर्माण करा दिया है. 
 
वहीं, सभी ब्लॉक में पांच के बदले छह फ्लोर के निर्माण होने से वाहनों की संख्या बढ़ गयी है. इस कारण पार्किंग को लेकर भी हर दिन भारी समस्या होती है. सीवरेज सिस्टम की व्यवस्था भी काफी खराब है. बारिश के समय एक-एक सप्ताह तक अपार्टमेंट में पानी लगा रहता है. 
 
नगर अायुक्त कोर्ट से तोड़ने का फैसला: मुंडेश्वरी बिल्डर्स प्राइवेट लिमिटेड की ओर से इस अपार्टमेंट का निर्माण 2010-11 में पूरा किया गया था. सभी ब्लॉकों में जी प्लस पांच मंजिला भवन का निर्माण किया जाना था.
 
 लेकिन, बिल्डर ने सभी ब्लॉकों में अवैध रूप से एक फ्लोर का निर्माण कर दिया. जानकारी के अनुसार अवैध निर्माण पर नगर आयुक्त की कोर्ट से तोड़ने का आदेश भी हो चुका है. 
 
अब मामला ट्रिब्यूनल पर चल रहा है. बिल्डर की ओर से अपार्टमेंट के मुख्य गेट के पास ही एक अवैध निर्माण किया गया है.वहां अवैध रूप से मार्केट बनाने का प्रयास हो रहा है. इसका मामला भी कोर्ट में चल रहा है. अपार्टमेंट के सभी ब्लॉकों के चारों तरफ 20 फुट की चौड़ी सड़क नहीं है. इस कारण फायर बिग्रेड की गाड़ियों को आने में परेशानी होगी. 
 
बिल्डर ने नहीं दिया सीवरेज का नक्शा 
फ्लैट में रहने वाले लोगों ने बताया कि अपार्टमेंट को बिल्डर ने कानूनी रूप से सोसाइटी को नहीं सौंपा है. लोगों को सीवरेज व बिजली के केबल के आने-जाने का नक्शा भी नहीं मिला है. जब कभी खराबी होती है या जलजमाव की समस्या होती है, तो लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है.   
 
मुंडेश्वरी इंक्लेव अपार्टमेंट
पार्क की जगह पर निर्माण 
टूटी हुई सड़क
पार्किंग की सुविधा नहीं
 
बिल्डर का पक्ष
गेट पर हो रहे निर्माण को तोड़ दिया जायेगा.   जहां तक जी प्लस छह फ्लोर बनाने की बात है, तो सभी का नक्शा पास है. हां,  कुछ लोगों को वाहन पार्किंग की समस्या होती है, तो जब सामने निर्माण टूटेगा  तो वहां वाहन पार्किंग की व्यवस्था हो जायेगी. 
समरेंद्र सिंह, बिल्डर, मुंडेश्वरी बिल्डर्स प्राइवेट लिमिटेड 
 
क्या कहते हैं अपार्टमेंट में रहने वाले
जी ब्लॉक के फ्लैट संख्या 686 की रजिस्ट्री 2012 में हुई थी. मैंने वाहन पार्किंग के लिए बिल्डर को 80 हजार दिये थे. लेकिन, आज तक हमें पार्किंग की जगह नहीं मिली. 
 
मेरे ब्लॉक में पांच के बदले छह फ्लोर का निर्माण किया गया. पार्किंग की समस्या होती है. बिजली के सभी तार अंडरग्राउंड हैं. किसी को नहीं पता रूट क्या है.
  - भागीरथ प्रसाद सिंह, बी ब्लॉक 
 
भवन के अंदर पार्किंग स्थल पर ही जेनेरेटर लगा दिया गया. मेरी दो बार बाइपास सर्जरी भी हो चुकी है. लेकिन, जेनेरेटर बाहर करने का काम नहीं किया जा रहा है. 
- वीरेंद्र सिन्हा, वर्ण विहार अपार्टमेंट 
 
बारिश के समय सी, बी और इ ब्लॉक में काफी जलजमाव हो जाता है. पानी एक-एक सप्ताह तक नहीं निकलता. सीवरेज लाइन की समस्या है.  
- ब्रह्मदेव सिंह, बी ब्लॉक 
 
बिल्डर से सभी ब्लॉक से निकालने वाले सीवरेज लाइन को सिंचाई वाले पाइप लाइन में जोड़ दिया, गेट के पास अवैध मार्केट बनाने का प्रयास किया जा रहा है. 
- ओम प्रकाश सिंह, जी ब्लॉक 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement