Advertisement

Pathak Ka Patra

  • Sep 12 2017 6:48AM

मासूमियत की हत्या

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के मासूम छात्र की निर्मम हत्या ने पूरे देश को झकझोर दिया. यह भयावह घटना स्कूल-प्रशासन की सुरक्षा मामलों को लेकर गंभीर लापरवाही को दर्शाती है. 
 
सवाल यह भी है कि आखिर बच्चों के साथ स्कूल समय में स्कूल परिसर के भीतर या बाहर छेड़छाड़, यौन-शोषण सरीखे हादसे दिनोंदिन क्यों बढ़ते जा रहे हैं?
 
नौनिहालों की सुरक्षा को नजरअंदाज करना विद्यालय प्रबंधन की संवेदनहीनता, असामाजिकता व काहिली को भी उजागर करता है. भविष्य में ऐसे अमानवीय हादसों की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए शासन-प्रशासन को तमाम शिक्षण-संस्थानों खासकर निजी विद्यालयों में नियमन की व्यवस्था को दुरुस्त करना चाहिए.
नीरज मानिकटाहला, हरियाणा, इमेल से
 

Advertisement

Comments