Advertisement

Palamu

  • Aug 20 2019 2:18AM
Advertisement

दोहरी नीति अपना रही सरकार

मेदिनीनगर : सोमवार को आंगनबाड़ी सेविका व सहायिकाओं ने नौ सूत्री मांगों को लेकर उपायुक्त कार्यालय के समक्ष रोषपूर्ण प्रदर्शन किया. इसे लेकर जिला स्कूल के मैदान से झारखंड प्रदेश आंगनबाड़ी वर्कर्स यूनियन के बैनर तले सेविका व सहायिकाओं ने रैली निकाली. इसका नेतृत्व यूनियन की पलामू जिलाध्यक्ष मालती देवी कर रही थी. रैली में शामिल सेविका व सहायिकाओं ने अपने मांगों के समर्थन में नारेबाजी करते हुए उपायुक्त कार्यालय के समक्ष रोषपूर्ण प्रदर्शन किया. 

यूनियन की जिलाध्यक्ष मालती देवी ने कहा कि पांच जून 2018 को महिला बाल विकास व सामाजिक सुरक्षा विभाग के सचिव ने लिखित समझौता किया था. लेकिन राज्य सरकार ने अब तक उस समझौता को लागू नहीं किया. सरकार की वादाखिलाफी को लेकर आंगनबाड़ी सेविका व सहायिकाओं में रोष व्याप्त है. अपने नौ सूत्री मांगों को लेकर आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका व सहायिका 16 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गयी हैं. राज्य सरकार को चाहिए कि जो समझौता हुआ है, उसे लागू किया जाये और उनकी मांगों को पूरा किया जाये. 
 
 प्रदर्शन के दौरान अन्य वक्ताओं ने कहा कि राज्य सरकार आंगनबाड़ी केंद्र के सेविका व सहायिका के साथ दोहरी नीति अपना रही है. कम मानदेय पर अधिक काम लिया जा रहा है. ऐसी स्थिति में उनलोगों को आंदोलन के सिवाय कोई रास्ता नहीं है. प्रदर्शन के बाद मुख्यमंत्री के नाम उपायुक्त को मांग पत्र सौंपा गया. इसमें समान काम का समान वेतन देने,सेविका को तृतीय व सहायिका को चतुर्थवर्गीय कर्मचारी  को दर्जा देने, नियुक्ति नियमावली तैयार करने,यूनियन के साथ हुए समझौता को लागू करने, सेवानिवृत्ति के बाद पांच लाख रुपये पावना का भुगतान करने व पेंशन देने, योग्य सेविका को पर्यवेक्षिका के पद पर प्रोन्नति देने, हड़ताल अवधि का मानदेय भुगतान करने, पदाधिकारियों की मनमानी पर रोक लगाने आदि मांग शामिल है. 
 
 इस अवसर पर लालमुनी देवी, उमा देवी, मधु शर्मा, निर्मला देवी,कलावती देवी, मंजू देवी, अनराजो देवी, सुनीता देवी, सबिहा खातून, गीता, किरण, पार्वती कुंवर, शकुंतला विश्वकर्मा,किरण कुंवर, लिलावती कुंवर, मुनी देवी, गायत्री देवी, नीलम देवी, शांति देवी सहित अन्य लोगों का नाम शामिल है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement