Advertisement

khagaria

  • Sep 20 2019 8:09AM
Advertisement

गंगा-गंडक दोनों उफान पर, गोगरी के बौरना में रिंग बांध टूटा, गांवों में घुसा पानी

 खगड़िया/गोगरी : सितंबर महीने में बाढ़ की आहट से आमलोगों के साथ साथ अधिकारियों की नींद उड़ गयी है. गंगा व गंडक नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी के कारण गोगरी, परबत्ता सहित खगड़िया शहर तक बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. गुरुवार को गोगरी के बौरना में रिंग बांध टूट जाने के कारण कई गांवों में बाढ़ का पानी फैल गया है. जबकि विगत 23 अगस्त को बौरना के मुखिया यासमीन और प्रतिनिधि नासिर इकबाल के साथ ग्रामीणों ने श्रमदान कर खुद से रिंग बांध पर मिट्टी डालकर मरम्मत किया लेकिन पानी के तेज रफ्तार बांध को बहा ले गया. इधर, कोसी नदी अभी शांत है. जो राहत वाली बात है. 

 
गंगा के जलस्तर में बढ़ोतरी की आशंका : अधिकारियों के अनुमान के मुताबिक अभी जलस्तर और बढ़ने की संभावना है. ऐसे में कई गांवों में बाढ़ आने की आशंका से लोग परेशान हैं. गुरुवार को भी गंगा के जलस्तर में वृद्धि दर्ज की गयी है.
 
जलस्तर में वृद्धि व बारिश के कारण बाढ़ का संकट गहराने लगा है. खगड़िया में गंगा का जलस्तर बुधवार के शाम पांच बजे से गुरुवार के सुबह छह बजे तक काफी तेजी से बढ़ते देखा गया. सुबह 10 बजे से लेकर शाम के छह बजे तक में और भी जलस्तर में तीन सेमी वृद्धि दर्ज की गयी. विगत 8 घंटे में 3 सेंटीमीटर गंगा के जलस्तर में वृद्धि के साथ 38.84 मीटर दर्ज की गयी है. 
 
वहीं जलस्तर में और वृद्धि की संभावना को देखते हुए डीएम ने सभी अधिकारियों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया है. जलस्तर बढ़ने से गंगा और गंडक के बीच बसा गोगरी प्रखंड का बौरना पंचायत  में बाढ़ का पानी घर तक पहुंच गया है. स्थिति लगातार बिगड़ रही है. गुरुवार की सुबह गांव के चारों तरफ बनाया गया रिंग बांध टूट गया. जिससे बौरना के वार्ड 8, 9, और 10 सहित  नए इलाकों में पानी का फैलाव जारी है. 
 
हालांकि शुक्रवार की सुबह से गंगा के जलस्तर में फिर से वृद्धि की संभावना जताई जा रही है. पिछले 24 घंटों से खगड़िया और गोगरी में जलस्तर में हो रहे लगातार वृद्धि के बाद शुक्रवार की सुबह से तेजी से वृद्धि होने की आशंका है. 
 
एसडीओ और सीओ ने किया निरीक्षण
नदियों के जलस्तर में लगातार वृद्धि होने से लोगों में डर समाने लगा है कि पता नहीं कब नदी कहर बरपा दे. इस दौरान बढ़ने की रफ्तार एक सेमी प्रति तीन घंटा मापी गयी है. साथ ही जलस्तर में अभी लगातार वृद्धि होने का अनुमान किया जा रहा है.
 
बाढ़ से पीड़ित परिवार का जायजा लेने गुरुवार की सुबह से लेकर शाम तक गोगरी एसडीओ सुभाषचंद्र मंडल,डीएसपी पीके झा, सीओ कुमार रविन्द्रनाथ, सहित कई पदाधिकारी ने गोगरी प्रखंड के बन्नी, बौरना, गोगरी,मीरगंज,शारदा नगर, रामपुर आदि गांव का जायजा लिया और बाढ़ से पीड़ित परिवार से बात कर उनको हरसंभव मदद करने का भरोसा दिलाया.
 
दियारावासी में खौफ, पलायन की कर रहे तैयारी : जलस्तर में दोबारा वृद्धि को देखते हुए जिले के निचले इलाकों में रहने वाले ग्रामीणों के साथ दियारा वासियों में एक बार फिर से भय का माहौल बना हुआ है.
 
 लोग पलायन की तैयारी में हैं. प्रशासन दरवाजे पर भोजन पहुंचाने की तैयारी कर रहा है. बाढ़ पूर्व सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी है. गोगरी एसडीओ श्री मंडल ने बताया कि जहां कहीं भी मदद की जरूरत होगी प्रशासन पहले से हाजिर दिखाई देगा. लोगों को किसी भी तरह की परेशानी नहीं होने दी जायेगी.
 
इटहरी में मुखिया ने अधिकारियों से पहुंचने की अपील की : इधर, इटहरी पंचायत के मुखिया रजिया देवी का कहना है कि प्रशासनिक अधिकारी पंचायत का दौरा करना तक मुनासिब नहीं समझ रहे हैं.दूसरी तरफ जलस्तर में वृद्धि के कारण लगातार पानी ग्रामीण इलाकों में प्रवेश कर रहा है.वहीं सीओ कुमार रविन्द्रनाथ का कहना है कि प्रशासन वेट एण्ड वॉच की स्थिति में है.लगातार पूरी स्थिति पर नजर रखी जा रही है. राजस्व कर्मचारियों से स्थलीय जांच कर रिपोर्ट मांगी गयी हैं.
 
प्रभात खबर की खबर पर गांव पहुंचे अधिकारी
इस संबंध में प्रभात खबर ने पिछले कई दिनों से लगातार जलस्तर में वृद्धि होने की चेतावनी देता आ रहा है.प्रभात खबर द्वारा दो दिन पूर्व से दी जा रही चेतावनी को सच साबित करते गुरुवार से गंगा के जलस्तर में एक बार फिर वृद्धि जारी है.और खबर छपने के बाद पदाधिकारी ने संज्ञान लिया और बाढ़ग्रस्त इलाके का भ्रमण कर जायजा लिया. इस संबंध में गोगरी एसडीओ सुभाषचंद्र मंडल, सीओ कुमार रविन्द्रनाथ ने बताया कि गुरुवार की सुबह से लेकर शाम पांच बजे तक जलस्तर में तेजी आयी है.
 
नदियों का जलस्तर
स्थान        खतरे का निशान             जलस्तर
मुंगेर           39.33 मीटर              38.84 मीटर
भागलपुर  33.68 मीटर               33.33 मीटर
कहलगांव  31.09 मीटर               31.44 मीटर
हाथीदह       41.76 मीटर                42.45 मीटर
पटना         50.45 मीटर               50.69 मीटर
 
अलर्ट हैं अधिकारी 
गोगरी के बौरना गांव में रिंग बांध टूटने की सूचना मिली है. अधिकारियों को मौके पर जाकर निरीक्षण करने का निर्देश दिया गया है.  गंगा व गंडक के जलस्तर में बढ़ोतरी के कारण बाढ़ की संभावना को देखते हुए अधिकारियों को अलर्ट मोड में रखा गया है. 
अनिरुद्ध कुमार, जिलाधिकारी
 
एसडीआरएफ टीम ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा
खगड़िया. एसडीआरएफ के इंस्पेक्टर गणेश ओझा के नेतृत्व में 13 सदस्यीय टीम गंगा व कोसी के पानी से प्रभावित गांवों का दौरा किया. 
 
एसडीआरएफ की टीम ने दो गोताखोरों के साथ दो रेस्कयू मोटरवोट के साथ जिले के जंगली टोला, मथार, बरखंडी टोला, नन्हकू मंडल टोला, दुर्गापुर गांव का जायजा लिया. इंस्पेक्टर श्री ओझा ने बाढ प्रभावित क्षेत्र के लोगों को सतर्क करते हुए कहा कि वे लोग घबराये नहीं घटना होने पर सूचना दे. गहरे पानी में नहीं जाये, उंचे स्थान पर रहे. किसी भी परिस्थिति के लिये हमेशा तैयार रहे. मौके पर एसआइ रंजीत कुमार, सिपाही दिवाकर कुमार, रामानंद कुमार, अजय कुमार, सुग्रीव कुमार,  चंद्रशेखर कुमार, राजेश कुमार आदि मौजूद थे.
 
 
एसडीओ ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्र का लिया जायजा
गोगरी. गंगा और गंडक नदी का उफान परवान पर है. उफनाई नदियों के कारण कई गांव में जलमग्न की स्थिति उत्पन्न होने लगी है.  गोगरी अनुमंडल पदाधिकारी सुभाषचंद्र मंडल, डीएसपी पीके झा, सीओ कुमार रविन्द्रनाथ, स्वयं अपने टीम के साथ गुरुवार को बाढ़ प्रभावित रामपुर, गोगरी, मीरगंज सहित कई गांवों का दौरा किया. वहां की समस्याओं का आकलन किया.
 
Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement