jamshedpur

  • Jul 24 2019 7:31AM
Advertisement

सरायकेला मॉब लिंचिंग : पिटाई के बाद तनाव में था तबरेज, हार्ट अटैक से हुई मौत

सरायकेला मॉब लिंचिंग : पिटाई के बाद तनाव में था तबरेज, हार्ट अटैक से हुई मौत

जमशेदपुर : सरायकेला के धातकीडीह में तबरेज अंसारी की भीड़ द्वारा पिटाई (मॉब लिंचिंग) के बाद मौत मामले में स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को डीसी ए. दोड्डे को बिसरा रिपोर्ट सौंप दी है. रिपोर्ट निगेटिव आयी है. तबरेज की मौत का कारण तनाव के कारण हार्ट अटैक बताया गया है. जहर या अन्य किसी कारण से मौत की पुष्टि नहीं की गयी है. रिपोर्ट के मुताबिक, पोस्टमार्टम के बाद तबरेज का बिसरा सुरक्षित रख लिया गया था, जिसे जांच के लिए रांची भेजा गया था.

अंदेशा जताया जा रहा था कि जेल में जहर खाने या अन्य किसी कारण से तो उसकी मौत नहीं हुई है. रांची प्रयोगशाला में जांच के बाद रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को भेज दिया गया. इसके बाद रिपोर्ट डीसी को सौंपी गयी. हालांकि चिकित्सकों का मानना है कि तबरेज घटना के बाद तनाव में रहा होगा. अंदरूनी चोट के कारण भी हार्ट अटैक आया.

 
बिसरा रिपोर्ट निगेटिव, जहर या अन्य किसी कारण से मौत की पुष्टि नहीं
पोस्टमार्टम के बाद तबरेज अंसारी का बिसरा सुरक्षित रख लिया गया था, जिसे जांच के लिए रांची भेजा गया था.
 
जेल में हैं मारपीट में शामिल सभी 11 आरोपी 
11 आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया. इनमें प्रकाश मंडल, कमल महतो, सुमंत महतो, नामो प्रधान, भीमसेन मंडल, प्रेमचंद महली, महेश महली, कुशल महली, चामू नायक व सत्यनारायण नायक समेत 11 आरोपी शामिल हैं. सभी आरोपी इस समय जेल में हैं. विदित हो कि तबरेज की भीड़ ने पिटायी कर दी थी. इसके बाद पुलिस ने सभी को गिरफ्तार किया था.
 
डीसी ने दोषी पदाधिकारियों पर कार्रवाई का दिया निर्देश
डीसी ए. दोड्डे ने एसपी एस कार्तिक, सीएस डॉ हिमांशु भूषण बरवार को पत्र लिखकर तबरेज अंसारी मामले में दोषी पदाधिकारियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. डीसी द्वारा लिखे गये पत्र के मुताबिक, तबरेज अंसारी मामले में जिन अधिकारियों ने लापरवाही बरती है या एसआइटी की जांच में दोषी करार दिये गये हैं, उनके खिलाफ अविलंब कार्रवाई करें.
 
क्या था मामला 
18 जून को चोरी के आरोप में भीड़ द्वारा पिटाई के बाद तबरेज अंसारी को जेल भेजा गया था. 22 जून को जेल में ही उसकी अचानक तबीयत बिगड़ गयी. इसके बाद उसे  सरायकेला सदर अस्पताल लाया गया था, जहां चिकित्सकों ने परिजनों की मांग पर टीएमएच रेफर कर दिया. यहां चिकित्सकों ने उस मृत घोषित कर दिया. घटना के बाद सीनी ओपी प्रभारी विपिन बिहारी सिंह, खरसावां थाना प्रभारी चंद्रमोहन उरांव को कार्य में लापरवाही व सही समय पर वरीय अधिकारियों को सूचना नहीं देने के आरोप में निलंबित कर दिया गया था. 
 
तबरेज मामले में 11 लोगों के खिलाफ मंगलवार को कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी गयी. मामले की जांच की जा रही है. दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी.
आरएन सिंह,आइओ सह आरआइटी थाना प्रभारी
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement