Advertisement

jamshedpur

  • Mar 15 2019 2:07AM

भतीजे पर जुल्म बन कर टूटी बेरहम बुआ

फूआ ने कहा " चंडी का रूप आ गया था इसलिए मारा, फिर मारूंगी "

जमशेदपुर : कदमा के कुंडली रोड के क्वार्टर नंबर 57 में रहने वाली एक बुआ ने अपने ही भतीजे को पढ़ाने के लिए मुजफ्फरपुर से लायी और उसे घर में नौकर बना दिया. वह 11 वर्षीय भतीजे के साथ हर दिन मारपीट करती थी. शिकायत मिलने के बाद चाइल्ड लाइन व बाल कल्याण समिति ने गुरुवार को बच्चे को मुक्त कराया. 

मुक्त कराये गये किशोर के चेहरे व शरीर पर चोट के गहरे निशान पाये गये हैं. वहीं, बच्चे से मारपीट का कारण जब बुआ चंचला चौधरी से पूछा गया, तो उसने कहा कि मेरे ऊपर चंडी का रूप आ गया था, इसलिए मारा. और मारूंगी. शिकायत मिलने के बाद चाइल्ड लाइन व सीडब्ल्यूसी की टीम बच्चे का रेस्क्यू करने के लिए पहुंची, तो महिला का बेटा टीम से उलझ गया. इसके बाद पुलिस बच्चे और चंचला चौधरी को लेकर थाने चली गयी. बच्चे का एमजीएम अस्पताल में मेडिकल कराया गया.

बच्चे को फिलहाल चाइल्ड लाइन के संरक्षण में  रखा गया है और उसकी काउंसेलिंग की जा रही है. वहीं, सीडब्ल्यूसी की अध्यक्ष पुष्पा रानी तिर्की ने बच्चे के माता-पिता से फोन से संपर्क की और उन्हें घटना की जानकारी दी गयी, तो वे बोले कि वे बेटे को पढ़ने के लिए भेजे थे. मारपीट  होने की जानकारी नहीं है. बच्चे के पिता कन्हाई ओझा  किसान हैं और ऑटो चलाकर गुजारा करते हैं. 

मतदाता जागरूकता कार्यकर्ता बनकर गये थे टीम के सदस्य : शिकायत की पुष्टि के लिए गुरुवार की शाम सीडब्ल्यूसी की अध्यक्ष पुष्पा रानी तिर्की, सदस्य लक्खी दास, चाइल्ड लाइन की को-ऑर्डिनेटर जूली राउत कुंडली रोड पहुंचीं. वे लोग सच्चाई जानने के लिए पहले क्वार्टर में मतदाता जागरूकता कार्यकर्ता बनकर गयी. दरवाजा नॉक करने पर बच्चा घर से बाहर निकला. रेस्क्यू टीम ने देखा कि बच्चे के चेहरे व सिर पर चोट के निशान हैं. पूछने पर वह भागने लगा. शिकायत की पुष्टि होने पर रेस्क्यू टीम ने कदमा थाने से पुलिस बल को बुलाकर बच्चे को वहां से निकाला. 

पड़ोसियों ने दी थी बच्चे के साथ मारपीट होने की जानकारी : बच्चे को पीटने वाली चंचला चौधरी के पति जेएन चौधरी टाटा स्टील में कार्यरत हैं. दरअसल, पड़ोसी मारपीट सुनते थे, लेकिन कुछ नहीं कर पाते थे. कुछ पड़ोसियों ने इसकी जानकारी जदयू के प्रदेश संयोजक शैलेंद्र महतो को दी, तो उन्होंने चाइल्ड लाइन को जानकारी दी. गुरुवार को रेस्क्यू के दौरान कौशल कुमार, सावन मुखी, मानिक चंद्र महतो, मिथुन दत्त व अन्य लोगाें ने साथ दिया.

 

Advertisement

Comments

Advertisement