Advertisement

giridih

  • Apr 16 2019 7:03AM
Advertisement

गिरिडीह : भेलवाघाटी में मुठभेड़ में तीन नक्सली ढेर, एक जवान शहीद

गिरिडीह : भेलवाघाटी में मुठभेड़ में तीन नक्सली ढेर, एक जवान शहीद

लमकी पहाड़ी के पास सिद्धू कोड़ा दस्ते से भिड़ंत

रांची/देवरी (गिरिडीह). लोकसभा चुनाव के दौरान विध्वंसक कार्रवाई को अंजाम देने जुटे भाकपा माओवादियाें के सिद्धू कोड़ा दस्ते के साथ सोमवार की सुबह करीब पांच बजे पुलिस की मुठभेड़ हो गयी.

 गिरिडीह जिले के गुनियाथर की लमकी पहाड़ी के समीप हुई मुठभेड़ में जिला बल और सीआरपीएफ जवानों ने तीन माओवादियों को मार गिराया. वहीं मुठभेड़ में सीआरपीएफ जवान विश्वजीत चौहान शहीद हो गये. वे असम के रहनेवाले थे. जिस स्थान पर मुठभेड़ हुई वह झारखंड-बिहार की सीमा से सटा है. 

 मुठभेड़ सुबह 7:45 तक चली. पुलिस को भारी पड़ता देख करीब नौ नक्सली भागने में सफल रहे. मारे गये नक्सलियों में एक की पहचान मणिकांत मुर्मू के रूप में की गयी है. वह चकाई थाना क्षेत्र के पोझा पंचायत के बेहरा गांव का रहनेवाला था. उसके भाई जिला परिषद सदस्य रामलखन मुर्मू ने कहा कि मणिकांत आर्केष्ट्रा देखने गया था. नक्सली संगठन से उसका कोई वास्ता नहीं था. दो अन्य की पहचान नहीं हो पायी है. 

मोटरसाइकिल सवार माओवािदयों ने पहले चलायी गोली : एसपी सुरेंद्र कुमार झा व सीआरपीएफ कमांडेंट एके भारद्वाज को सूचना मिली थी कि सीमावर्ती इलाके में भाकपा माओवादियों की गतिविधि देखी जा रही है. ऐसे में रविवार की देर रात को ही अभियान की योजना बनायी गयी. एएसपी दीपक कुमार व सहायक कमांडेंट अजय कुमार के नेतृत्व में सीआरपीएफ व पुलिस के जवान भेलवाघाटी के जंगल में उतरे. 

जंगल में सर्च करते हुए सोमवार की सुबह पुलिस-सीआरपीएफ की टीम गुनियाथर व भदुआकुरा के पास पहुंची तो यह जानकारी मिली कि माओवादी दस्ता मोटरसाइकिल  से इसी इलाके से गुजरनेवाला है. ऐसे में पुलिस ने इलाके की घेराबंदी शुरू कर दी. इसी बीच पांच-छह मोटरसाइकिल पर सवार होकर करीब एक दर्जन नक्सली पहुंचे और लमकी पहाड़ी के पास पुलिस को देखकर अचानक फायरिंग शुरू दी. नक्सलियों की फायरिंग के जवाब में पुलिस-सीआरपीएफ ने भी जवाब दिया.

चुनाव में विध्वंसक कार्रवाई को अंजाम देने की थी योजना

एके-47 व सिलेंडर बम व अन्य सामान बरामद 

पुलिस ने मारे गये नक्सलियों व मौके से पकड़ी गयी दो बाइक से एक एके 47 राइफल, चार सिलेंडर बम, गोलियों से भरी तीन मैगजीन, बम बनाने के सामान, नक्सली साहित्य, पर्चा बरामद िकया.

चुनाव में दहशत फैलाने की थी योजना: एसपी

एसपी सुरेंद्र झा ने कहा लोकसभा चुनाव के मद्देनजर नक्सली क्षेत्र में दहशत फैलाने के प्रयास में थे. सिद्धू कोड़ा दस्ते में शामिल 10-12 नक्सली बम बनाने का सामान खरीदकर बाइक से मंझलाडीह जा रहे थे, तभी मुठभेड़ हो गयी.

असम के रहनेवाले थे शहीद सीआरपीएफ जवान

शहीद जवान विश्वजीत चौहान के पार्थिव शरीर को मुठभेड़ स्थल से रिम्स (रांची) लाया गया. यहां पर पोस्टमार्टम के बाद पार्थिव शरीर को धुर्वा स्थित 133वीं बटालियन ले जाया गया. वहां पर मुख्य सचिव डीके तिवारी, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव एसकेजी रहाटे, डीजीपी डीके पांडेय और झारखंड चैप्टर सीआरपीफ के आइजी संजय आनंद लाटकर सहित अन्य अधिकारियों ने वीर जवान को श्रद्धांजलि दी.

मारे गये नक्सलियों में एक चकाई का, भाई ने कहा : राशन दुकान चलाता था मणिकांत मुर्मू

सरौन (जमुई) : मुठभेड़ में तीन नक्सली मारे गये थे. इसमें एक चकाई भाग संख्या-1 के जिलापरिषद सदस्य रामलखन मुर्मू का छोटा भाई मणिकांत मुर्मू था. मणिकांत चकाई  के पोझा पंचायत के बेहरा गांव निवासी था. जिला परिषद सदस्य रामलखन तीन भाई हैं, जिसमें रामलखन दूसरे व मारा गयी भाई तीसरे नंबर पर था. रामलखन ने कहा कि उनका भाई कभी नक्सली संगठन में नहीं रहा है. वह अपने गांव बेहरा में राशन की दुकान चलाता है. वह रविवार की रात आर्केस्ट्रा देखने गया हुआ था.

 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement