Advertisement

devgarh

  • Sep 16 2019 8:36AM
Advertisement

बुढ़ैई जलाशय योजना में 10 गांव में जनसुुनवाई पूरी, जल्द होगा भुगतान

 देवघर :  पतरो नदी पर बनने वाला बुढ़ैई जलाशय योजना के लिए दस गांवों में जन सुनवाई पूरी हो गयी. 2200 करोड़ रुपये की इस परियोजना में कुल 42 गांवों की जमीन जायेगी. कुल 5657 एकड़ जमीन इस परियोजना में ली जानी है, इसमें 2276 एकड़, 1056 एकड़ गैर मजरुआ, 1883 एकड़ वन भूमि व 63 एकड़ गोचर भूमि है.

 
 बुढ़ाई जलाशय योजना का फोरेस्ट क्लीयरेंस सरकार ने पिछले दिनों दिया है. शेष गैर मजरुआ व गोचर भूमि को भी परियोजना में हस्तांतरित करने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है. जनसुनवाई नवादा, मधुपुर, ककली, ककलो, पुतरजोर, बुढ़ैई, पथरिया, कससियाडीह व बलथरवा गांव में पूरी हुई है. जल संसाधन विभाग के अनुसार अब आवंटन प्राप्त होते ही इन दस गांवों के रैयतों को भुगतान की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी.  
 
बुढ़ैय जलाशय योजना का कमांड एरिया 40 हजार 583 हेक्टेयर होगा. डैम की कुल लंबाई 5.747 किलोमीटर होगी. इसकी सबसे अधिक ऊंचाई 27.50 मीटर होगी. इसमें दो केनाल बनाये जायेंगे. बायें  केनाल से प्रति सेकेंड नौ क्यूसेक पानी छोड़ने की क्षमता होगी, जबकि दायें केनाल से 8.6 क्यूसेक पानी प्रति सेकेंड छोड़ा जा सकेगा.
 
इन गांवों में अधिघाेषणा की कार्यवाही पूरी 
बुढ़ैय जलाशय योजना में  ढाकाेडीह, लेड़वा, कर्णपुरा, हीराटांड़, केंदुवाडीह, भिखनाडीह, हरलाटीला, बलमपुर, बलमपुर टू, बहरबांक, मंझनाडीह, धानीटांड़, गुरमिसरगा,  अम्बाबाद, मोगलसार,  कलोहोड़िया, जोरासिमर, पिंडारी, नाडासिमर, मोहनाडीह, गांडो, लोदरा, महुआटांड, धोबनी, पुरनोली, मदनपुर, बाघमारा, गेाबरदाहा, तुम्बो, लांबा, राजपुरा, बेलमुका, कमरसाली, दरंगा, ढोपरीटांड, सेरी, जीतवाबहिया, पुंडाडीह,  आदि गांवों में अधिसूचना व अधिघोषणा की कार्यवाही विभाग ने पूरी कर ली है, रैयतों को नोटिस किया जा चुका है. अग इन गांवों में भी जन सुनवाई पूरी कर रैयतों को जमीन के मुआवजे की भुगतान की जायेगी. 
 
2200 करोड़ रुपये की बुढ़ई जलाशय योजना पूरी होने के बाद 40 हजार हेक्टेयर भूमि को सिंचाई का पानी मिलेगा. इसके साथ ही मधुपुर शहर को भी पीने का पानी मिलेगा. जल्द ही विभाग को आवंटन मुहैया कराने के बाद रैयतों को मुआवजा दिया जायेगा. जल्द ही बुढ़ई जलाशय योजना  का काम चालू भी होगा. 
- डॉ निशिकांत दुबे, सांसद, गोड्डा 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement