Delhi

  • Dec 14 2019 1:26PM
Advertisement

भारत बचाओ रैली में बोले राहुल, मेरा नाम सावरकर नहीं, गांधी है, माफी नहीं मानूंगा.

भारत बचाओ रैली में बोले राहुल, मेरा नाम सावरकर नहीं, गांधी है, माफी नहीं मानूंगा.

नयी दिल्ली  :  दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस ने भारत बचाओ रैली का आयोजन किया. इस रैली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और काग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर जमकर निशाना साधा.   कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा इस देश से प्रधानमंत्री को माफी मांगनी चाहिए. राहुल ने पुराने बयान का जिक्र करते हुए कहा, मुझसे कहा जा रहा है माफी मांगो मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं है, राहुल गांधी है. 

मैं किसी से नहीं डरता, कांग्रेस वाला बब्बर शेर होता है मैं नहीं डरता लेकिन मैं उन लोगों से कहना चाहता हूं जिसे डराया जा रहा है. कांग्रेस पार्टी आपके साथ है. आप डरिये मत, आप सरकारी दफ्तर में काम करते हों, मीडिया में हों कहीं भी हो आप अपनी आवाज उठाइये.  मैं सच बोलने के लिए माफी नहीं मांगूगा. राहुल ने अर्थव्यस्था का जिक्र करते हुए कहा,  भारत औऱ चीन दुनिया का भविष्य थे आज भारत प्याज हाथ में लिये खड़ा है. 

दुनिया के लोग भारत को सोने की चिड़िया बोलते थे प्रधानमंत्री ने देश की अर्थव्यस्था को नष्ट कर दिया है. गब्बर सिंह टैक्स से देश की अर्थव्यस्था नष्ट हो गयी. मोदी ने जीडीपी मांपने का तरीका बदल दिया.  इस देश की जीडीपी 9 फीसद थी आज 4 फीसद हो गयी है.  असल में इस देश की जीडीपी 2.5 है. मोदी ने आपके फोन का बिल बढ़ा दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मनरेगा का पैसा छिन लिया है.  काले धन को लेकर झूठ बोला. 
 
राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, इस देश की शक्ति अर्थव्यस्था थी. सभी धर्म के लोगों का विकास था. मोदी एक धर्म को दूसरे धर्म से बांट रहे हैं. समाज को बांटा है. किसान खुदकुशी कर रहे हैं. सरकार को शर्म आनी चाहिए. मोदी बस रोज टीवी पर आना चाहते हैं. 
 
हम संविधान की रक्षा के लिए किसी भी कुर्बानी के लिए तैयार-सोनिया गांधी 
 
सोनिया गांधी ने कहा, देश की जो स्थिति है ऐसी कभी नहीं हुई. युवा रोजगार के लिए भटक रहे हैं. किसान भाइयों को समय से बीज नहीं मिलता, खेती के लिए मदद नहीं मिलता. हमारे कामगार भाई मजदूरी में लगे रहते हैं फिर भी उन्हें समय से रोटी नहीं मिल रही है.  यह वक्त है कि इस पार या उस पार फैसला हो. गलत नितियों से धंधे तबाह हो गये. 
 
अब तो माहौल अधेर नहीं चौपट राजा वाला हाल है. अब तो बैंकों में भी पैसा सुरक्षित नहीं है, मोदी और शाह इसे अच्छे दिन बता देते हैं. अब तो ऐसा हो गया है कि कोई धारा लगा तो कोई धारा हटा दो. अब तो एक नया नागरिकता कानून बनाने की भी कोशिश है. शाह - मोदी को कोई परवाह नहीं है कि उनका सीएबी कानून भारत की आत्मा को तार- तार कर देगा. मोदी - शाह को लोकतंत्र की, संविधानिक ताकतों की कोई परवाह नहीं है. इनका एक ही लक्ष्य है राजनीति. एक ही एजेंडा है लोगों को लड़वाओ और असली मुद्दों को छुआपो. 
 
सोनिया गांधी ने पूछा कि सबका साथ, सबका विकास कहां है, रोजगार कहां चले गये. जिस कालाधन को बाहर लाने के लिए नोटबंदी हुई वह बाहर क्यों नहीं आया. कालाधन किसके पास है, इस बात की जांच होनी चाहिए. कंपनियां क्यों और किसको बेची गयी. मैं विश्वास दिलाती हूं कि जिस पर अन्याय होगा कांग्रेस उसके साथ खड़ी रहेगी. 
 
 
 
भारत बचाओ रैली में प्रियंका ने कहा- भाजपा है तो बेरोजगारी मुमकिन है
 
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने रैली में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि देश एक आंदोलन से उभरा है. ये देश प्रेम और भाईचारे का देश है. केंद्र सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा का नारा है मोदी है तो मुमकिन है लेकिन मैं कहना चाहती हूं कि भाजपा है तो प्याज 100 रुपये किलो मुमकिन है...भाजपा है तो बेरोजगारी मुमकिन है...भाजपा है तो महंगाई मुमकिन है...आज देश में बेराजगारी और महंगाई बढी है. जीडीपी पाताल में है. उन्होंने आगे कहा कि 15000 किसानों की आत्महत्या मुमकिन है. भाजपा है जो कानून देश के खिलाफ है मुमकिन है. भाजपा है तो हमारे पीएसयू का बिकना मुमकिन है. आज चार करोड़ नौकरियां नष्‍ट हुई.

उन्होंने कहा कि आज हर बस स्टॉप..हर अखबार में दिखता है 'मोदी है तो मुमकिन है'.

प्रियंका ने कहा कि कुछ साल पहले चीन की तरह हमारे देश की अर्थव्यवस्था बढ रही थी. उन्होंने कहा कि उन्नाव की बेटी हार गयी. इंसाफ मांग रही बेटी को जलाया गया. यूपी की बेटियां सुरक्षित नहीं हैं. न्याय हर इंसान का हक है. आज जो न्याय के लिए नहीं लड़ेगा वो भविष्‍य में कायर कहलाएगा. आप संविधान को नष्‍ट न होने दें. देश प्यारा है तो देश की आवाज बनो.

प्रियंका ने अपने भाषण में उन्नाव की घटना को याद दिलाया. पीड़ित परिवार का दुखड़ा सुनाया. उन्होंने कहा कि जब मैंने एक छोटी सी बच्ची से पूछा कि बड़ी होकर तुम क्या बनोगी तो पहले तो उसने कुछ नहीं किया लेकिन बाद में उसने कहा कि जो वकील से बड़ा होता है. यानी वह जज बनना चाहती है. उसके पिता को देख कर मुझे आपने पिता की याद आई है. इस देश मे जो हो रहा है उसे रोकने का हमार कर्तव्य है जो आज अन्याय के खिलाफ नहीं लड़ेंगे, वो इतिहास में कायर कहलाएंगे.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement