Advertisement

crime

  • Sep 15 2019 4:44AM
Advertisement

जवानों की हत्या व हथियार लूट में दो नक्सली गिरफ्तार

जवानों की हत्या व हथियार लूट में दो नक्सली गिरफ्तार

 भभुआ सदर (कैमूर) : वर्ष 2001 में अधौरा पहाड़ी पर स्थित मुसहरवा बाबा के समीप बारूदी सुरंग विस्फोट कर पुलिस जवानों की हत्या करने और उनके हथियार लूटने के मामले के आरोपित पीपुल्स वार ग्रुप (पीडब्ल्यूजी) के एरिया कमांडर सहित दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया है. दोनों पिछले 18 वर्षों से फरार चल रहे थे. इनकी गिरफ्तारी कैमूर पुलिस ने झारखंड के गढ़वा जिले के जंगलों से की है. 

 
एरिया कमांडर गढ़वा के भवनाथपुर थाना अंतर्गत रेपुरा गांव निवासी भरत सिंह खरवार उर्फ राजाजी व उसके साथी बरडिहा थाने के सेमरी के रहनेवाले जयनाथ यादव बताये जाते हैं. शनिवार को मीडिया को जानकारी देते हुए एसपी दिलनवाज अहमद ने बताया कि अधौरा पहाड़ी पर स्थित मुसहरवा बाबा के समीप जमुआ मोड़ पर सौ डेढ़ सौ की संख्या में रहे नक्सलियों ने बारूदी सुरंग विस्फोट कर जवानों के डीसीएम वाहन को उड़ा दिया था. 
 
इस दौरान नक्सलियों ने फायरिंग करते हुए एक हवलदार देवकी साह और दो सिपाहियों राजकुमार शर्मा और दिनेश कुमार पटेल की हत्या कर दी थी. कई अन्य जवानों को घायल कर उनकी 13 थ्री नॉट थ्री पुलिस राइफल, चार बैनेट और गोलियां लूट ली गयी थी. इस मामले में हवलदार ललन जी राम के फर्द बयान पर 26 दिसंबर 2001 को अधौरा थाने में केस दर्ज किया गया था. 
 
एसपी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि उक्त कांड के नक्सली झारखंड के गढ़वा जिले के जंगलों में शरण लिये हुए है. सूचना पर तत्काल अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल अभियान राजीव रंजन और अधौरा थानाध्यक्ष इंस्पेक्टर कुमार धर्मेंद्र सिंह के नेतृत्व में एक टीम का गठन कर नक्सलियों को गिरफ्तार करने गढ़वा भेजा गया, जहां नक्सली एरिया कमांडर और उसके साथी को गिरफ्तार किया गया.
 
 दोनों नक्सलियों ने मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है. उन्होंने यह भी स्वीकार किया है कि वे गढ़वा जिले के भवनाथपुर थाने में वर्ष 2002 में गिरफ्तार हुए थे और उनके पास रहे अधौरा में जवानों की हत्या कर लूटी गयी एक पुलिस राइफल भी पुलिस द्वारा जब्त की गयी थी. 
 
नक्सली एरिया कमांडर ने  स्वीकार किया है कि उसके और उसके साथियों पर गढ़वा जिले के भी तीन मामले चल रहे हैं और इन पर झारखंड में पोटा एक्ट भी लगा था. इस संबंध में एसपी दिलनवाज अहमद ने बताया कि गिरफ्तार नक्सलियों के झारखंड के गढ़वा और कैमूर में किये गये आपराधिक इतिहास को पुलिस खंगालेगी. इनके अन्य साथियों को भी जल्द गिरफ्तार किया जायेगा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement