Advertisement

crime

  • Sep 10 2019 4:15AM
Advertisement

पॉश इलाके में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़

पॉश इलाके में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़

 पटना : पाटलिपुत्र थाना पुलिस ने सोमवार की रात 10 बजे पाटलिपुत्र जैसे पॉश इलाके में चल रहे एक हाइ प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है. ये सेक्स रैकेट मोबाइल वाट्स ऐप के जरिये चलाया जा था. इस मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपित सहित कुल तीन लोगों को पकड़ा है. जानकारी के अनुसार पाटलिपुत्र के मशहूर ग्रांड अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर डी 8 में अश्लील तस्वीरें ग्राहकों को वाट्स ऐप पर भेजी जाती, और वाट्स ऐप पर ही डील फिक्स ग्राहक को फ्लैट में ही बुलाया जाता था.

 
 गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने जब छापेमारी की तो चौकाने वाला खुलासा हुआ. फ्लैट में लंबे समय से हाइ प्रोफाइल सेक्स रैकेट चलाया जा रहा था. पुलिस ने मुख्य आरोपित संजीत कुमार, उसकी पत्नी रानी थापा, और  सुनील कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. 
 
एक घंटे के पांच हजार से होती थी शुरुआत : सुजीत कुमार पिता रामेश्वर सिंह अशोक नगर पटना अशोक सिनेमा कमला नेहरू का रहने वाला है. जबकि सुनील वैशाली और रानी  बोकारो की रहने वाली है. 
 
पूछताछ के दौरान सुजीत ने बताया कि वह पिछले पांच साल से संबंधित अपार्टमेंट में ही सेक्स रैकेट चलाता था. ग्राहक को ग्रांड अपार्टमेंट बुलाता था और एक घंटे के बदले पांच व दो घंटे के बदले 10 हजार रुपये तक की वसूली करता था. फ्लैट को सील कर दिया है. कोलकाता की रहने वाली एक लड़की को मुक्त कराया गया. 
 
हवाई जहाज से आती थी विदेशी लड़कियां : सुजीत के इस रैकेट ग्रुप में कई विदेशी लड़कियां भी जुड़ी थी. ग्राहकों के ऑन डिमांड पर वह रसिया, बंग्लादेश, दिल्ली और कोलकाता से लड़कियां बुलाता था. विदेश व बिहार के बाहर से आने वाली लड़कियों को यह हवाई जहाज के माध्यम से पटना बुलाता था. प्लेन के आने-जाने का खर्च ग्राहकों से वसूला जाता था.  
 
अपना मोबाइल नंबर इंटरनेट पर किये थे फ्लैश : पुलिस के मुताबिक ग्राहकों को अपने जाल में फंसाने के लिए ये लोग अपना मोबाइल नंबर इंटरनेट पर फ्लैश करते थे. फिर वाट्स ऐप के जरिए चैट करते हुए कॉलगर्ल्स की फोटो शेयर करते थे. बाद में रेट तय किया जाता था. 
 
क्या कहते हैं थाना प्रभारी
गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने पाटलिपुत्र स्थित ग्रांड अपार्टमेंट में छापेमारी की जहां पता चला कि हाइ प्रोफाइल सेक्स रैकेट चलाया जा रहा है. एक लड़की को भी मुक्त कराया गया जो कोलकाता की रहने वाली है. 
कामेश्वर प्रसाद सिंह, थाना प्रभारी पाटलिपुत्र.
 
Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement