Advertisement

bollywood

  • Sep 12 2014 3:57PM

क्रिचर 3 डी, न रहस्य न ही रोमांच

क्रिचर 3 डी, न रहस्य न ही रोमांच

अनुप्रिया अनंत 

फिल्म : क्रिचर 3 डी

कलाकार : इमरान अब्बास, बिपाशा बसु

निर्देशक : विक्रम भट्ट

रेटिंग : 2 स्टार

क्रिचर 3 डी विक्रम भट्ट के माध्यम भारत में 3 डी की सोच को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं कि किस तरह 3 डी पर बनी फिल्में दर्शकों को लुभा सकती है. यह पूरी फिल्म 3 डी में है. लेकिन चूंकि फिल्म की कहानी बेहद कमजोर है. फिल्म आकर्षित नहीं करती. फिल्म की कहानी ब्रह्म राक्षस के इर्द गिर्द घूमती है. ब्रह्म राक्षस का जिक्र भारत के कई गंथ्रों में मिलता है. उसी के आधार पर निर्देशक ने इसे भुनाने की कोशिश की है. आहना अपनी जिंदगी से त्रस्त है और इसलिए वह दूर जंगल में एक रेसॉर्ट खोलती है. वहां लोग आते हैं, लेकिन  ब्रह्म राक्षस उन्हें खा जाता है.


वर्तमान दौर में इस तरह की बनावटी और दिखावटी चीजें दर्शकों को कितनी पसंद आयेगी यह तो बॉक्स ऑफिस की रिपोर्ट बतायेगी. लेकिन निर्देशक विक्रम भट्ट से यह उम्मीद नहीं थी कि वे इतनी कमजोर फिल्म बनायेंगे. उन्होंने सिनेमा में तकनीकी रूप से कई प्रयोग किया है. लेकिन इस बार उनका प्रयोग प्रयोग कम और किंवंतियों और अंध विश्वास का गुणगान ही अधिक नजर आया है. साथ ही साथ फिल्म की कास्टिंग बेहद बुरी है.

बिपाशा के अलावा किसी के भी किरदार में कोई खास बात नजर नहीं आती. बॉलीवुड में एंट्री कर रहे इमरान अब्बास की भाव भंगिमाएं एकरसता लाती है. निर्देशक मुकुल देव के रूप में इमरान की कमियों को छुपाने की कोशिश करते हैं. मुकुल स्क्रीन पर इमरान से अधिक नजर आये हैं. फिल्म का सेट, सोच, सबकुछ बनावटी है. फिल्म के एक दृश्य में सुरंग जाने के लिए सीढ़ी का इस्तेमाल किया जाता है. अगले ही दृश्य में इमरान वहां जीप लेकर आ जाते हैं और ऐसी ही कई चीजें हैं जो पुराने दौर में बनी कम लागत वाली फिल्मों की याद दिलाती है.

गाने बेवजह ठूसे गये हैं. बिपाशा भी फिल्म में नवीनता नहीं ला पायी हैं. फिल्म की कहानी, कास्टिंग, निर्देशन नहीं लुभाती. बाल दर्शकों को भी शायद ही फिल्म पसंद आये. चूंकि ऐसी फिल्मों में रोमांच, रहस्य की उम्मीद की जाती है. लेकिन फिल्म की शुरुआत में  ही यह स्पष्ट कर दिया गया है कि ब्रह्रराक्षस लोगों को खा जाता है.

 

Advertisement

Comments

Advertisement