1. home Hindi News
  2. national
  3. anil vij advices to sidhu do not spoil them by changing parties again and again navjot singh it would be better if they make own party vwt

सिद्धू को अनिल विज की नसीहत : बार-बार पार्टियां बदलकर उन्हें खराब न करें, खुद की पार्टी बना लें तो अच्छा होगा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज.
हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज.
फोटो : ट्विटर.

चंडीगढ़ : क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू को हरियाणा के गृह मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल विज ने मुफ्त में एक नायाब नसीहत दी है. गृह मंत्री विज ने कहा कि मेरी उनको राय है कि वो बार-बार अलग-अलग पार्टियों में जाकर पार्टियों को खराब ना करें. अच्छा ये है कि वो अलग से पार्टी बना लें.

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि सिद्धू कौन-सी पार्टी में जाएंगे और कौन-सी पार्टी में नहीं, ये उनका व्यक्तिगत मामला है. लेकिन, मेरी उनको राय है कि वो बार-बार अलग-अलग पार्टियों में जाकर पार्टियों को खराब ना करें. अच्छा ये है कि वो अलग से अपनी पार्टी बना लें.

दरअसल, पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच लंबे समय से जंग छिड़ी हुई है. इन दोनों नेताओं की जंग अब आलाकमान के पास पहुंच गई है. इसी का नतीजा है कि बीती 6 जुलाई 2021 को कांग्रेस आलाकमान ने अमरिंदर सिंह को दिल्ली तलब कर लिया. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की.

सोनिया गांधी के साथ मुलाकात के बाद अमरिंदर सिंह सिद्धू के मसले पर बात को भले ही टाल गए थे, लेकिन कांग्रेस आलाकमान की ओर से भाव नहीं मिलने से मंगलवार को सिद्धू ने अपने एक ट्वीट के जरिए आम आदमी पार्टी (आप) की प्रशंसा की थी. उनके इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया और सियासी गलियारे में इस अटकल ने जोर पकड़ लिया कि कांग्रेस के बाद सिद्धू अब आप में शामिल हो सकते हैं.

बता दें कि नवजोत सिंह सिद्धू ने 14 सितंबर 2016 को भाजपा में अपने सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था. इसके पहले उन्होंने 18 जुलाई 2016 को राज्यसभा से अपना इस्तीफा दिया था. उसी समय यह अटकलें लगाई जाने लगी थीं कि अब वे पार्टी से भी इस्तीफा दे देंगे. हालांकि, सिद्धू का भाजपा छोड़ने के बाद यह कहा जा रहा था कि वह अलग से अपनी कोई पार्टी बनाएंगे. हालांकि, जनवरी 2017 में उन्होंने कांग्रेस का हाथ थाम लिया था.

अब जबकि कांग्रेस में भी उनकी अपनी सरकार के मुखिया और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से ठन गई है, तो उन्होंने अब नई पार्टी की तलाश शुरू कर दी है. उनकी इस कवायद के बाद से ही सोशल मीडिया और सियासी हलकों में लोग चटकारे लगाकर चुटकी लेने लगे हैं.

Posted by : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें