17.1 C
Ranchi
Tuesday, March 5, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

eSoil : इस खेत की मिट्टी उगलेगी सोना, गांव क्या शहर में भी आसान होगा खेती करना

eSoil यह परीक्षण करनेवाले स्वीडन स्थित लिंकोपिंग विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर एलेनी स्टावरिनिडो ने कहा, दुनिया की आबादी बढ़ रही है और जलवायु परिवर्तन भी है. ऐसे में यह स्पष्ट है कि हम केवल पहले से मौजूद कृषि तरीकों से खाद्य मांगों को पूरा करने में सक्षम नहीं होंगे, लेकिन हाइड्रोपोनिक्स के साथ-

Electronic Soil : वैज्ञानिकों ने एक विद्युत प्रवाहकीय मिट्टी विकसित की है, जिसके बारे में उनका कहना है कि इससे 15 दिनों में औसतन जौ के पौधों की 50 प्रतिशत अधिक वृद्धि हो सकती है. यह मिट्टी रहित खेती विधि, जिसे हाइड्रोपोनिक्स के रूप में जाना जाता है, एक जड़ प्रणाली का उपयोग करती है जिसे एक नये खेती सब्सट्रेट के माध्यम से विद्युत रूप से उत्तेजित किया जाता है.

यह परीक्षण करनेवाले स्वीडन में लिंकोपिंग विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर एलेनी स्टावरिनिडो ने कहा, दुनिया की आबादी बढ़ रही है, और हमारे पास जलवायु परिवर्तन भी है. इसलिए यह स्पष्ट है कि हम केवल पहले से मौजूद कृषि तरीकों से ग्रह की खाद्य मांगों को पूरा करने में सक्षम नहीं होंगे. लेकिन हाइड्रोपोनिक्स के साथ हम शहरी वातावरण में भी बहुत नियंत्रित सेटिंग में भोजन उगा सकते हैं.

Also Read: boAT Smart Ring : अब अंगूठी से हो जाएगा स्मार्टवॉच वाला काम, आपकी नींद से लेकर दिल की धड़कन तक पर रखेगी नजर

स्टावरिनिडो की टीम ने हाइड्रोपोनिक खेती के अनुरूप एक विद्युत प्रवाहकीय खेती सब्सट्रेट विकसित किया, जिसे वे ईसॉइल कहते हैं. जर्नल प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज में प्रकाशित उनके शोध से पता चलता है कि प्रवाहकीय मिट्टी में उगाये गए जौ के पौधे 15 दिनों में 50 प्रतिशत अधिक बढ़ गए, जब उनकी जड़ों को विद्युतीय रूप से उत्तेजित किया गया.

हाइड्रोपोनिक खेती का मतलब है कि पौधे बिना मिट्टी के उगते हैं, उन्हें केवल पानी, पोषक तत्वों और किसी ऐसी चीज की आवश्यकता होती है जिससे उनकी जड़ें जुड़ सकें – एक सब्सट्रेट. यह एक बंद प्रणाली है जो पानी के पुनर्चक्रण को सक्षम बनाती है ताकि प्रत्येक अंकुर को ठीक वही पोषक तत्व मिलें जिनकी उसे आवश्यकता है. इसलिए, बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है और सभी पोषक तत्व प्रणाली में बने रहते हैं, जो पारंपरिक खेती में संभव नहीं है.

Also Read: New Technology : ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस ने लकवाग्रस्त लोगों को ‘आवाज’ देने की जगाई उम्मीद, जानें क्या है तकनीक

हाइड्रोपोनिक्स अंतरिक्ष दक्षता को अधिकतम करने के लिए बड़े टावरों में ऊर्ध्वाधर खेती को भी सक्षम बनाता है. इस तरीके से पहले से ही खेती की जा रही फसलों में सलाद, जड़ी-बूटियां और कुछ सब्जियां शामिल हैं. आमतौर पर अनाज को चारे के रूप में उपयोग के अलावा हाइड्रोपोनिक्स में नहीं उगाया जाता है.

नवीनतम अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने दिखाया है कि हाइड्रोपोनिक्स का उपयोग करके जौ के पौधों की खेती की जा सकती है और विद्युत उत्तेजना के कारण उनकी विकास दर बेहतर होती है.

Also Read: Motorola Bendable Phone कलाई पर पहना जा सकेगा यह फोन, देख कर हर कोई हैरान

स्टारवरिनिडौ ने कहा- इस तरह, हम कम संसाधनों के साथ तेजी से बढ़ने के लिए अंकुर प्राप्त कर सकते हैं. हम अभी तक नहीं जानते हैं कि यह वास्तव में कैसे काम करता है, इसमें कौन से जैविक तंत्र शामिल हैं. हमने पाया है कि अंकुर नाइट्रोजन को अधिक प्रभावी ढंग से संसाधित करते हैं, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है फिर भी विद्युत उत्तेजना इस प्रक्रिया को कैसे प्रभावित करती है.

खनिज ऊन का उपयोग अक्सर हाइड्रोपोनिक्स में खेती के सब्सट्रेट के रूप में किया जाता है. शोधकर्ताओं ने कहा कि यह न केवल गैर-बायोडिग्रेडेबल है, बल्कि इसे बहुत ऊर्जा-गहन प्रक्रिया से भी तैयार किया जाता है. उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक खेती सब्सट्रेट ईसॉइल सेलूलोज से बना है, जो सबसे प्रचुर मात्रा में बायोपॉलिमर है, जिसे PEDOT नामक प्रवाहकीय पॉलिमर के साथ मिलाया जाता है.

Also Read: WATCH: 90 डिग्री घूम जाते हैं इलेक्ट्रिक कार के चारों पहिये, Hyundai लायी गजब की तकनीक

शोधकर्ताओं के अनुसार, यह संयोजन नया नहीं है, लेकिन यह पहली बार है कि इसका उपयोग पौधों की खेती और पौधों के लिए इस तरह से एक इंटरफेस बनाने के लिए किया गया है. पिछले शोध में जड़ों को उत्तेजित करने के लिए उच्च वोल्टेज का उपयोग किया गया है. लिंकोपिंग शोधकर्ताओं की मिट्टी का लाभ यह है कि इसमें ऊर्जा की खपत बहुत कम है और उच्च वोल्टेज का कोई खतरा नहीं है.

स्टावरिनिडौ का मानना ​​है कि यह खोज हाइड्रोपोनिक खेती को विकसित करने के लिए नये अनुसंधान क्षेत्रों के लिए मार्ग खोलेगी. उन्होंने कहा, हम यह नहीं कह सकते कि हाइड्रोपोनिक्स खाद्य सुरक्षा की समस्या का समाधान करेगा. लेकिन यह निश्चित रूप से कम कृषि योग्य भूमि और कठोर पर्यावरणीय परिस्थितियों वाले क्षेत्रों में मदद कर सकता है.

Also Read: PM Kisan Status Check 2023: पीएम किसान योजना की 15वीं किस्त आपके खाते में आयेगी या नहीं, ऐसे चेक करें ऑनलाइन

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें