1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. 61 active cases of corona in bengal 12 new patients in last two days mamta banerjee

बंगाल में कोरोना के एक्टिव मामले 61, पिछले दो दिनों में 12 नये मरीज : ममता बनर्जी

By AmleshNandan Sinha
Updated Date
ममता बनर्जी
ममता बनर्जी

कोलकाता : राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय, नबान्न में संवाददाता सम्मेलन में बताया कि राज्य में कोरोना के एक्टिव मामलों की तादाद 61 हो गयी है. शनिवार को इसकी तादाद 49 थी. यानी पिछले दो दिनों में 12 नये मामले सामने आये हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि इनमें से 55 मरीज केवल सात परिवारों से ही हैं. इनमें से कलिंग्पोंग में एक ही परिवार के 11 लोग पीड़ित हुए हैं. इसके अलावा मिलिट्री अस्पताल के एक डॉक्टर के परिवार के पांच लोग, तेहट्टो में एक ही परिवार के पांच लोग, एगरा में एक ही परिवार के 12 लोग, हावड़ा में एक ही परिवार के आठ लोग, कोलकाता में एक ही परिवार के 12 लोग और हल्दिया में दो लोग शामिल हैं.

कोविड से राज्य में अब तक तीन लोगों की मौत हुई है. जबकि 13 लोगों को डिस्चार्ज कर दिया गया है. कलिंग्पोंग के परिवार के चार लोगों की रिपोर्ट सोमवार को नेगेटिव आयी है. बेलियाघाटा आइडी अस्पताल से अब तक 13 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है, जबकि 17 लोग अभी चिकित्साधीन हैं. इनमें से 12 मरीजों में खासा सुधार है.

मुख्यमंत्री ने बताया कि नोटबंदी के बाद हुई घरबंदी से आर्थिक नजरिए से भारी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है. हालात को सुधारने के लिए अर्थशास्त्र में नोबल पुरस्कार विजेता अभिजीत विनायक बनर्जी को लेकर उन्होंने एक टीम, ‘ग्लोबल एडवाइजरी बोर्ड फॉर कोविड रिस्पॉन्स पॉलिसी इन वेस्ट बंगाल’ बनायी है. वह खुद अभिजीत बनर्जी के साथ बातचीत करेंगी. टीम में विश्व स्वास्थ्य संगठन के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक डॉ स्वरूप सरकार भी रहेंगे. इनके अलावा डॉ अभिजीत चौधरी और डॉ सुकुमार बनर्जी भी सहयोग करेंगे.

मुख्यमंत्री ने आश्वस्त करते हुए कहा कि कभी मलेरिया से सैकड़ों लोगों की मौत होती थी. 2001 में एक लाख 45 हजार लोग पीड़ित हुए तो 53 लोग इससे मारे गये थे. 2019 में अक्तूबर तक मलेरिया से भले 18 हजार 528 लोग पीड़ित हुए लेकिन केवल तीन लोगों की ही मौत हुई. डेंगू से जहां 2005 में 34 लोग मरे तो 2019 में 27 लोगों की मौत हुई. इसकी वजह है कि हर वर्ष डेंगू का स्वरूप भी बदल जाता है. यानी बीमारियां आती रहती हैं लेकिन उसपर काबू भी पाया जाता है. लिहाजा आतंकित होने की जरूरत नहीं है.

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि कुछ राजनीतिक दलों के आइटी सेल द्वारा अभी भी अफवाहें फैलायी जा रही हैं. राज्य सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार किया जा रहा है. यह राजनीति करने का वक्त नहीं है. केंद्र से मदद न मिलने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि अब तक 11 लाख पीपीइ का उन्होंने ऑर्डर किया है. दो लाख सात हजार 100 पीपीइ उन्हें मिल चुका है. एन 95 मास्क 7.92 लाख ऑर्डर किये गये थे. इनमें से केवल 78 हजार 750 मास्क ही मिले हैं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें