सोनभद्र में 3350 टन नहीं, सिर्फ 160 किलो सोना होने की संभावना

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

कोलकाता :उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में 3350 टन सोने की मौजूदगी की खबर को जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआइ) ने खारिज कर दिया है. शनिवार को कोलकाता स्थित जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआइ) के मुख्यालय में जीएसआइ महानिदेशक एम श्रीधर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वहां (सोनभद्र) 3350 टन सोना नहीं, बल्कि लगभग 160 किलोग्राम सोना निकलने की संभावना है. मीडिया में चली खबरों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि साल 1998-99 व 1999-2000 में जीएसआइ ने सोनभद्र में अन्वेषण किया था.

उस दौरान मिले तथ्यों के आधार पर नवंबर 2019 में स्टेट डायरेक्टोरेट ऑफ जियोलॉजी एंड माइनिंग (डीजीएम) को एक रिपोर्ट दी गयी थी, लेकिन उसमें इतना सोना की मौजूदगी का जिक्र नहीं है. रिपोर्ट में हमारी ओर से 52806.25 टन सोने के अयस्क के बारे में जिक्र किया गया है. उसमें से प्रति टन सोने के अयस्क से 3.03 ग्राम सोना मिलने की संभावना जतायी गयी है. सोनभद्र जिले के सोन पहाड़ी व हरदी फील्ड में कुल मिलाकर 170 मीटर ऐसा क्षेत्र है.
  • जीएसआइ ने 3350 टन सोने की मौजूदगी की सनसनीखेज खबर को किया खारिज
  • 52806.25 टन सोने का अयस्क है, प्रति टन निकल सकता है 3.03 ग्राम सोना
  • कुल सोने के अयस्क से निकल सकता है 160 किलोग्राम सोना
  • प्रेस कॉन्फ्रेंस में जीएसआइ महानिदेशक ने दी जानकारी
पूरे रिसोर्स की माइनिंग कर सोने के अयस्क की पूरी प्रक्रिया के बाद 160 किलोग्राम सोना निकलने की संभावना है. जीएसआइ ने किसी से इस संबंध में बात भी नहीं की है और न ही हमारी तरफ से मीडिया में ऐसा कुछ कहा गया है. फिर इस तरह के सनसनीखेज गलत आंकड़े को लेकर यूपी के डीजीएम से भी बात की गयी है, वे भी परेशान हैं. इसलिए इसे लेकर गलत सूचना नहीं फैले, जिस कारण जीएसआइ ने स्पष्ट व सटीक सूचना जारी की.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें