कई राष्ट्रीय पार्टियों की मान्यता हो सकती है खारिज : मुख्तार अब्बास नकवी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

कोलकाता : केंद्रीय मंत्री तथा भाजपा प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने दावा किया है कि लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद कई राष्ट्रीय पार्टियों की मान्यता रद्द हो सकती है. संवाददाताओं से बातचीत में श्री नकवी ने कहा कि न केवल पश्चिम बंगाल बल्कि देशभर में चौंका देनेवाले नतीजे होंगे.

उन्होंने दावा किया कि एक बार फिर एनडीए की ही सरकार बनेगी. राज्य की तृणमूल पर सरकार पर उन्होंने आरोप लगाया कि बंगाल को तृणमूल नेताओं ने गुंडागर्दी की प्रयोगशाला में तब्दील कर दिया है.
हालांकि मुख्यमंत्री का अहम, 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजों के घोषित होने के बाद छूमंतर हो जायेगा. भाजपा और राज्य की जनता ने बावजूद तमाम विपरीत परिस्थितियों के लोकतांत्रिक मूल्यों को परास्त नहीं होने दिया है. समूचे देश में चुनाव हो रहे हैं लेकिन हिंसा की घटनाएं केवल बंगाल में ही हो रही हैं.
भाजपा के कार्यकर्ताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं और कई बार उनकी छवि को धूमिल करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है. इन सबका हिसाब तृणमूल से जनता लेगी. श्री नकवी ने आरोप लगाया कि छठे चरण के मतदान में कई स्थानों पर बूथ लूटे गये हैं और हिंसा की वारदात भी हुई है.
इस संबंध में वह चुनाव आयोग को सूचित करेंगे. विपक्षी दलों पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि महागठबंधन के घटक दल न तो चुनाव के पहले एक थे और न ही चुनाव के बाद एक होंगे. जनता जुगाड़ और जोड़तोड़ की सरकार नहीं चाहती बल्कि जनादेश की सरकार चाहती है. जनता को पार्टटाइम प्रधानमंत्री नहीं चाहिए.
भारत स्थायी प्रधानमंत्री चाहता है न कि ठेके पर : नकवी
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को कहा कि देश स्थायी और निर्णायक प्रधानमंत्री चाहता है न कि ठेके पर. विपक्षी गठबंधन में प्रधानमंत्री पद के कई उम्मीदवार होने की ओर इशारा करते हुए नकवी ने कहा : देश ठेके पर प्रधानमंत्री नहीं चाहता है, जहां छह महीने के लिए कोई व्यक्ति प्रधानमंत्री होगा और अगले छह महीने के लिए कोई और व्यक्ति प्रधानमंत्री बनेगा.
उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में जोर देकर कहा कि लोग एक मजबूत और निर्णय करने वाली सरकार चाहते हैं. केंद्रीय मंत्री ने कहा : देश जुगाड़ अथवा जोड़ तोड़ की सरकार नहीं चाहता है.
अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने कहा कि पिछले पांच साल में विकास के जो काम हुए हैं, लोग उसके लिए मतदान करेंगे. उन्होंने कहा कि विपक्षी गठबंधन अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है. नकवी ने दावा किया : अधिकतर विपक्षी दल निर्वाचन के बाद अपनी पहचान खो देंगे क्योंकि वे अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें