1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal election 2021 bjp bengal president dilip ghosh shares photos on twitter citing political terrorism of tmc abk

बरमूडा के बाद TMC में उलझे, अब BJP अध्यक्ष दिलीप घोष ने किसमें ‘पश्चिम बंगाल का आतंक’ देखा है?

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
पश्चिम बंगाल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष
पश्चिम बंगाल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष
फाइल फोटो.

Dilip Ghosh Controversy: बंगाल चुनाव में नेताओं के विवादित बोल से लेकर सोशल मीडिया पर भी आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. अब, पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने ममता बनर्जी पर नया हमला किया है. ट्वीटर पर दिलीप घोष ने एक पोस्ट करके ममता बनर्जी की सरकार को ‘पॉलिटिकल टेररिज्म ऑफ टीएमसी’ (टीएमसी का राजनीतिक आतंक) करार दिया है. दिलीप घोष ने ट्वीट से बुधवार को कूचबिहार के दिनहाटा मंडल अध्यक्ष अमित सरकार की हत्या का मामला उठाया है.

बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या का सवाल

बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने गुरुवार को ट्वीट किया. इसमें एक पैर पर बैंडेज है और उसमें से एक शव फंदे से लटका हुआ है. बीजेपी का कहना है कि बैंडेज वाला पैर ममता बनर्जी का है तो शव बीजेपी कार्यकर्ताओं का है. बंगाल में टीएमसी के राजनीतिक आतंक को दर्शाने के लिए बीजेपी ने फोटो बनाया है. इस फोटो के साथ दिलीप घोष ने ‘पॉलिटिकल टेररिज्म ऑफ टीएमसी’ (टीएमसी का राजनीतिक आतंक) भी लिखा है. बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के मुताबिक बंगाल में टीएमसी का आतंक जारी है.

मोदी से लेकर शाह तक उठा चुके हैं मुद्दा

दरअसल, बंगाल चुनाव प्रचार में पीएम नरेंद्र मोदी से लेकर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह तक राज्य में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं का मुद्दा उठा चुके हैं. बीजेपी हमेशा से आरोप लगाती रही है कि टीएमसी के गुंडे बीजेपी के कार्यकर्ताओं की हत्या कर रहे हैं. इन हत्याओं को रोकने में ममता बनर्जी कुछ नहीं कर रही हैं. दूसरी तरफ पहले चरण की वोटिंग के 48 घंटे पहले गुरुवार को दिलीप घोष ने ट्वीट करके ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा. दिलीप घोष के मुताबिक बंगाल में टीएमसी का आतंक दिख रहा है.

‘विवादित बोल’ के लिए मशहूर दिलीप घोष

बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ‘विवादित बोल’ के लिए जाने जाते हैं. बुधवार को दिलीप घोष के ममता बनर्जी पर विवादित बयान को लेकर खूब हंगामा हुआ था. दिलीप घोष ने एक चुनावी सभा में कहा था कि ममता बनर्जी को अपने पैर की चोट दिखाने में तकलीफ हो रही है. उन्हें साड़ी की जगह बरमूडा पहन लेना चाहिए. इस मुद्दे पर भी बीजेपी और टीएमसी के बीच खूब आरोप-प्रत्यारोप हुए थे. इस विवाद पर बाद में दिलीप घोष ने सफाई देते हुए कहा कि ममता का पैर दिखाना बंगाली संस्कृति के विरुद्ध है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें