1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. who praises up regarding corona management cm yogi said this coronavirus uttar pradesh news pwn

कोरोना प्रबंधन को लेकर WHO ने यूपी की तारीफ, सीएम योगी ने कही यह बात

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कोरोना प्रबंधन को लेकर WHO ने यूपी की तारीफ
कोरोना प्रबंधन को लेकर WHO ने यूपी की तारीफ
Twitter
  • यूपी विधानसभा में बोले सीएम योगी

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन ने की है राज्य की तारीफ

  • राज्य में बेहतर तरीके से हुए है कोरोना प्रबंधन

उत्तर प्रदेश विधानसभा में आज कोरोना वायरस कि स्थिति पर चर्चा हुई. विधानसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना पर नियत्रंण के लिए उठाये गये सकारात्मक प्रयासों के कारण WHO ने यूपी की प्रशंसा की है. उन्होंने कहा कि राज्य में सक्रिय मामले लगभग 2000 हैं, अस्पताल में 500 से कम सकारात्मक मामले हैं, वसूली दर देश में सबसे अच्छी है. हमारे निरंतर प्रयासों के कारण, WHO ने यूपी के COVID प्रबंधन की भी प्रशंसा की.

साथ ही योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश पहला राज्य है जिसने न केवल श्रमिकों, सड़क विक्रेताओं और रिक्शा चालकों के लिए रखरखाव भत्ता की घोषणा की है, बल्कि इसे आपातकाल के दौरान भी उपलब्ध कराया है. बता दें कि मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए यूपी सरकार ने भी अलर्ट जारी किया है

सरकार ने सभी जिलों डीएम व सीएमओ को भेजे निर्देश में कहा गया है कि कोरोना की रोकथाम के लिए पहले उठाए गए कदमों की समीक्षा कर फिर से कड़ी सतर्कता बरती जाए और इसके लिए निर्धारित प्रोटोकॉल का अनुपालन हर हाल में कराया जाए. साथ ही सरकार ने जीनोम सिक्वेंसिंग कराने का भी फैसला लिया है.

इससे पहले मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और इसके प्रबंधन को लेकर समीक्षा की थी. मुख्यमंत्री ने कहा था कोरोना का संकट अभी खत्म नहीं हुआ है इसलिए सभी प्रकार की सावधानी बरती जाये. साथ ही निर्देश दिया था कि कोरोना की रोकथाम के लिए कोरोना टेस्ट और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंह निरंतर ढंग से की जाये

मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों को इंटीग्रेटेड कमांड और कंट्रोल केंद्र में और कोविड अस्पतालों में पहले की तरह रोज सुबह शाम समीक्षा बैठक करने के निर्देश दिये हैं. साथ ही कहा कि सभी कार्यालयों में स्थापित कोविड हेल्प डेस्क के सुचारु रूप से संचालन जारी रखा जाए और इन डेस्क पर सैनिटाइजर की व्यवस्था की जाए.

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा था कि प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की पहचान के लिए जारी टेस्टिंग में कहीं कोई कमी नहीं है. फिर भी आरटीपीसीआर टेस्ट का 10 प्रतिशत हिस्से का जीनोम सिक्वेंसिंग (जीनोम अणुक्रमण) कराया जाएगा ताकि कोविड के दूसरे स्ट्रेन का पता चल सके. इस बीच संक्रमितों की संख्या बढ़ने पर तत्काल आपातकालीन उपाय शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं.

Posted By: Pawan Singh

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें