सिमडेगा में विद्युत पावर ग्रिड 18 माह में बनना था, पर सात वर्ष में भी नहीं बना

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
फोटो: 19 एसआइएम: 7- ग्रिड निर्माण स्थल पर लगा शिलापट्ट, 08- निर्माणाधीन विद्युत ग्रिडरविकांत साहूसिमडेगा: सिमडेगा में विद्युत पावर ग्रिड का निर्माण 18 माह में होना था, लेकिन सात वर्ष के बाद भी विद्युत पावर ग्रिड निर्माणाधीन है. इस कार्य से झारखंड में चल रही योजनाओं की रफ्तार तथा मंत्रियों एवं सरकार की सक्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है. जानकारी के मुताबिक 132/33 केवी ग्रिड सब-स्टेशन निर्माण की आधारशिला तत्कालीन मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, ग्रामीण विकास मंत्री एनोस एक्का तथा स्थानीय विधायक नियेल तिर्की ने बीरू में 16.09. 2007 को शिलान्यास किया था. शिलान्यास के मौके पर मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने मंच से घोषणा किया था कि उक्त ग्रिड 18 माह में बन कर तैयार हो जायेगा. इससे यहां के लोगों को रोजगार मिलेगा. साथ ही बिजली के क्षेत्र में जिले के लोग आत्मनिर्भर हो जायेंगे, लेकिन घोषणा को अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका. बॉक्स ग्रिड से उत्पादन शुरू होने से जिले में उद्योग के अवसर मिलेंगे बीरू में बन रहे विद्युत पावर ग्रिड से जिले के लोगों को काफी उम्मीद है, लेकिन झारखंड सरकार की कार्यशैली से लोगों में मायूसी तथा नाराजगी भी है. बीरू में निर्माणाधीन विद्युत पावर ग्रिड से उत्पादन शुरू होने से जिले के लोग विद्युत के क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो जायेंगे. जिले में विद्युत आधारित उद्योग लगेंगे. उद्योग विहीन जिला के कलंक से जिले को मुक्ति मिलेगी. जिले में वन उत्पाद से संबंधित उद्योग क ी असीम संभावनाएं हैं, जो विद्युत आपूर्ति दुरुस्त नहीं रहने के कारण संभव नहीं हो पा रहा है. उद्योग लगने से जिले में पलायन की समस्या कम होगी. क्षेत्र के लेागों को रोजगार मिलेगा. क्षेत्र के लोग आर्थिक रूप से मजबूत होंगे.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें