1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. saraikela kharsawan
  5. ration in jharkhand black marketing of ration in seraikela kharsawan even during the corona period dacoits are putting such money on poor millennials condolences to door step delivery agency and 2 ration dealers read how the ration scam was disclosed grj

Ration In Jharkhand : कोरोना काल में भी राशन की कालाबाजारी, गरीबों के निवाले पर ऐसे डाल रहे डाका, डोर स्टेप डिलीवरी एजेंसी व 2 राशन डीलरों को शोकॉज, पढ़िए राशन घोटाला का कैसे हुआ खुलासा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Ration In Jharkhand : राशन कालाबाजारी की जांच करते बीडीओ
Ration In Jharkhand : राशन कालाबाजारी की जांच करते बीडीओ
प्रभात खबर

Ration In Jharkhand, सरायकेला न्यूज (प्रताप मिश्रा) : कोरोना काल में लोग खुलकर गरीबों की मदद कर रहे हैं, वहीं सरायकेला प्रखंड में सरकारी राशन वितरण में गरीबों का ही हक मारा जा रहा है व उनके अनाज की कालाबाजारी की जा रही है. ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया है. डीलर के पास अनाज पहुंचा ही नहीं और राशन का उठाव हो गया है. प्रखड में डोर स्टेप डिलीवरी का संचालन करने वाली एजेंसी द्वारा गोदाम से डीलर तक अनाज का उठाव किया गया, लेकिन डीलर तक अनाज पहुंचा ही नहीं. इस मामले में दो राशन डीलरों को शो कॉज किया गया है.

सबसे आश्चर्य की बात ये है कि डीलर को पता ही नहीं है कि उसके राशन (माल) का उठाव हो गया है और उसकी कालाबाजारी भी हो गई है. मामले का खुलासा तब हुआ जब ग्रामीणों ने राशन डीलर से राशन रेगुलर नहीं मिलने की शिकायत कांग्रेस जिलाध्यक्ष छोटराय किस्कू से की तो उन्होंने इसकी जानकारी प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को दी. तहकीकात करने पर पता चला कि उक्त डीलर का आवंटन 6 मई को ही करीब 45 क्विंटल खाद्यान्न निर्गत किया जा चुका है.

जब कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने डीलर गणेश तिउ से जानाकरी हासिल की तो उन्होंने राशन के उठाव के संबंध में किसी तरह की जानकारी नहीं होने की बात कही. राशन की कालाबाजारी होने की आशंका पर जिलाध्यक्ष किस्कू ने एसडीओ रामकृष्ण कुमार को इसकी जानकारी दी और मामले की जांच करने का आग्रह किया. मामले पर एसडीओ ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सरायकेला बीडीओ को जांच का आदेश दिया, ताकि दोषियों पर कार्रवाई की जा सके.

अनाज की कालाबाजारी की सूचना पर बीडीओ मृत्युंजय कुमार प्रखंड के कृष्णपुर पहुंचे व डीलर गणेश तिउ से अनाज के उठाव के बारे में जानाकरी हासिल की. डीलर द्वारा बताया गया कि राशन के उठाव को लेकर किसी प्रकार की जानकारी नहीं है. आवंटन नहीं मिलने के कारण ग्रामीणों को अनाज का वितरण नहीं किया गया है.

सरकार द्वारा कालाबाजारी रोकने के लिए डोर स्टेप डिलीवरी के तहत डीलर तक अनाज पहुंचाना होता है. अनाज पहुंचाने वाले वाहन में जीपीएस सिस्टम लगा रहना अनिवार्य है. जीपीएस सिस्टम लगे वाहन में अनाज पहुंचाने से वाहन की मॉनिटरिंग होती है, ताकि राशन की कालाबाजारी पर अंकुश लगाया जा सके. गोदाम से उठाव होना व डीलर तक अनाज नहीं पहुचना कई सवाल खड़े करता है. इस संबंध में बीडीओ ने बताया कि एसडीओ के निर्देश पर जांच की गई. इसमें पाया गया कि अनाज डीलर के यहां नहीं पहुंचा है और दूसरे डीलर तक पहुंचा दिया गया है. पूरे मामले की जांच की जा रही है और एमओ को गोदाम के मिलान से लेकर रजिस्टर के जांच का निर्देश दिया गया है. जांच के बाद कार्रवाई की जायेगी.

सरायकेला के बीडीओ मृत्युंजय कुमार ने कहा कि मामले की जांच करते हुए डोर स्टेप डिलीवरी के एजेंसी व दोनों डीलर को शो कॉज किया गया है. साथ ही 24 घंटे के अंदर जबाब देने को कहा गया है. पूरे मामले की जांच की जिम्मेवारी एमओ को दी गयी है. जांच रिपोर्ट आने के बाद प्राथमिकी की कार्रवाई की जायेगी.

सरायकेला खरसावां के कांग्रेस जिलाध्यक्ष छोटराय किस्कू ने कहा कि कोरोना काल में गरीबो के अनाज की कालाबाजारी करना बहुत बड़ा अपराध है. मामले पर प्रथम दृष्टया डोर स्टेप डिलीवरी करने वाली एजेंसी दोषी है. उस पर प्राथमिकी व निलंबन की कार्रवाई की जाये. राशन कालाबाजारी मामले से विभागीय मंत्री को भी अवगत कराया जाएगा.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें