24.1 C
Ranchi
Monday, February 26, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeराज्यझारखण्डगुणात्मक शिक्षा को बाबा कार्तिक उरांव ने बताया था सामाजिक बदलाव का हथियार, इंदिरा गांधी भी उनसे लेतीं थीं...

लंदन के भारतीय एंबेसी में प्रवासी मुलाकात कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की इन पर नजर पड़ी. एक आदिवासी इंजीनियर की प्रतिभा ने पंडित नेहरू को अचंभित कर दिया. उन्होंने बाबा कार्तिक उरांव से कहा कि वे भारत लौटें और देश सेवा में जुटें.

गुणात्मक शिक्षा को बाबा कार्तिक उरांव ने बताया था सामाजिक बदलाव का हथियार, इंदिरा गांधी भी उनसे लेतीं थीं सलाह

कार्तिक बाबा का जन्म एक गरीब किसान परिवार में हुआ. उनके माता-पिता दोनों निरक्षर थे. बावजूद इसके, अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति की बदौलत उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में जो आयाम गढ़ा, आज भी बहुत कम पढ़े-लिखे परिवारों में देखने को मिलता है. सबसे पहले स्कूल में उनके गुरुओं ने उनकी प्रतिभा को पहचाना. शिक्षा के प्रति उनके लगाव और कुछ बड़ा कर गुजरने की लालसा को धार दिया. पटना साइंस कॉलेज से पढ़ाई करके वहीं के इंजीनियरिंग कॉलेज से सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री अच्छे अंकों से बाबा कार्तिक उरांव ने ली. कुछ दिन राज्य सरकार की नौकरी की. इसके बाद उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने की उनकी इच्छा हुई. तमाम दुश्वारियों के बावजूद, समाज के प्रबुद्धजनों की आर्थिक मदद से वह इंग्लैंड पहुंच ही गए. ब्रिटिश रेल में काम करते हुए वहां के नामचीन कॉलेज एवं विश्वविद्यालय से सिविल स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग की डिग्रियां हासिल की. उन्होंने जिन शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई की, उनमें ग्लासगो एवं अमेरिका के शिक्षण संस्थान भी शामिल थे. उनके साथ काम करने वाले विदेशी साथियों को बड़ी हैरानी होती थी कि मुश्किल से मुश्किल परीक्षा एक भारतीय कितनी आसानी से पास कर लेता है. उन्होंने कई ऐसी परीक्षाएं पास कीं, जिनमें पास होना अच्छे-अच्छों के लिए मुश्किल था. हिंकले प्वाइंट में बने इंग्लैंड के पहले न्यूक्लियर पावर स्टेशन का डिजाइन तैयार करने में बाबा की अहम भूमिका थी.

लंदन के भारतीय एंबेसी में प्रवासी मुलाकात कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की इन पर नजर पड़ी. एक आदिवासी इंजीनियर की प्रतिभा ने पंडित नेहरू को अचंभित कर दिया. उन्होंने बाबा कार्तिक उरांव से कहा कि वे भारत लौटें और देश सेवा में जुटें. प्रधानमंत्री के अनुरोध को बाबा कार्तिक उरांव ठुकरा न सके. कार्तिक उरांव जब स्वदेश लौटे, तो उन्हें रांची के हेवी इंजीनियरिंग कॉर्पोरेशन (एचइसी) डिप्टी चीफ इंजीनियर (डिजाइन) बनाया गया.

स्वदेश लौटने के बाद कार्तिक उरांव को नजदीक से गरीब आदिवासियों की दशा के बारे में देखने, जानने और समझने का अवसर मिला. आदिवासी समाज की दुर्दशा उनसे देखी नहीं गई. नौकरी छोड़कर लोहरदगा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ गए. पहले चुनाव में असफलता मिलने के बावजूद वे आदिवासियों को एकजुट और जागृत करने में जुटे रहे. अगले चुनाव में जीतकर संसद पहुंचे. लोकसभा में उन्होंने अपनी विद्वता और संवेदनशीलता का परिचय दिया. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भी उनकी प्रतिभा की कायल थीं. जरूरी मसलों पर बाबा से जरूर सलाह-मशविरा करतीं थीं. इंदिरा गांधी के मंत्रिमंडल में कार्तिक उरांव संचार मंत्री रहे.

Also Read: झारखंड के ‘काला हीरा’ बाबा कार्तिक उरांव के योगदान को क्यों भूल गया झारखंड

देश में आदिवासियों को एकजुट करके उनकी आवाज को बुलंद करने के लिए वर्ष 1967 में कार्तिक उरांव ने अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद की स्थापना की. बाबा ने आदिवासियों के हालात को समझते हुए उनकी व्यथा और समाधान को ‘बीस वर्ष की काली रात’ नामक पुस्तिका के माध्यम से देश के सामने प्रस्तुत किया. इसी के परिप्रेक्ष्य में समाज की बेहतरी एवं न्याय के लिए, संसद में एक प्राइवेट मेंबर बिल पेश किया, जिसमें तथ्यों के आधार पर धर्मांतरित आदिवासियों द्वारा मूल आदिवासी धर्म में आस्था और विश्वास रखने वाले आदिवासियों पर अन्याय और उनके संवैधानिक अधिकारों का हनन करने का दोषी ठहराया. ऐसे लोगों को आरक्षण से बाहर रखने की उन्होंने वकालत की.

संसद में इस बिल को करीब 300 सांसदों ने इस बिल का समर्थन किया. इसके बावजूद कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने सुनियोजित तरीके से इस बिल को संसद में पास नहीं होने दिया. कार्तिक बाबा ने अपनी पहचान एक बेहद ईमानदार, काबलियत से भरपूर और दबे-कुचले आदिवासी समाज के लिए जीने और मरने वाले इंसान की साबित की. मैं समझता हूं कि हर योग्य राजनीतिज्ञ के अंदर ये गुण होने ही चाहिए और जनता को भी इसी पैमाने पर अपने प्रतिनिधियों को चुनना चाहिए. काश! हम सभी ऐसा कर पाते! बाबा ने गुणात्मक शिक्षा को सामाजिक बदलाव का हथियार बताया था. परिषद के माध्यम से इसी उद्देश्य से झारखंड के रांची, गुमला एवं लोहरदगा जिले में 126 रात्रि पाठशालाएं ग्रामीण युवक-युवतियों के द्वारा आदिवासी समाज के सजग प्रहरियों की देख-रेख में चलाया जा रहा है. पाठशाला के यही शिक्षक, छात्र-छात्राएं एवं उनके अभिभावक समाज, राज्य और देश को भविष्य में मजबूती के साथ आगे ले जाएंगे.

Also Read: कार्तिक उरांव जयंती: कार्तिक बाबा का गांव लिटाटोली को विकास के रहनुमा का आज भी है इंतजार, नहीं लेता कोई सुध

बता दें कि बाबा कार्तिक उरांव ने एक सच्चे कर्मयोगी की तरह संसद में ही अपने प्राण त्यागे थे. आज (8 दिसंबर) को कार्तिक बाबा की पुण्यतिथि पर हम सभी उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं और उनके बताए हुए रास्ते पर चलते हुए उनके सपनों को पूरा करने का संकल्प लेते हैं.

डॉ अरुण उरांव, लेखक पूर्व आईपीएस अधिकारी, भाजपा नेता हैं. कार्तिक उरांव के दामाद डॉ अरुण उरांव के दिशा-निर्देश में समाज को शिक्षित करने के लिए झारखंड के तीन जिलों में 126 रात्रि पाठशालाएं संचालित हो रहीं हैं.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें