1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. descendants of jatra tana bhangat of gumla are in bad condition even today they are deprived of many basic facilities srn

गुमला के जतरा टाना भंगत के वंशजों का है बुरा हाल, आज भी कई बुनयादी सुविधाओं से है वंचित

आज दो अक्तूबर महात्मा गांधी की जयंती है. गांधी जयंती पर हम टाना भगतों के योगदानों को भुला नहीं सकते. जिन्होंने महात्मा गांधी से मिलकर देश की आजादी में अहम भूमिका निभायी.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
गुमला के जतरा टाना भंगत के वंशजों का है बुरा हाल
गुमला के जतरा टाना भंगत के वंशजों का है बुरा हाल
प्रभात खबर.

आज दो अक्तूबर महात्मा गांधी की जयंती है. गांधी जयंती पर हम टाना भगतों के योगदानों को भुला नहीं सकते. जिन्होंने महात्मा गांधी से मिलकर देश की आजादी में अहम भूमिका निभायी. इन्हें में गांधी के अनुयायी जतरा टाना भगत हैं. आज जतरा टाना भगत हमारे बीच नहीं हैं. लेकिन देश की आजादी की लड़ाई में उनका योगदान अहम रहा है.

परंतु झारखंड राज्य के लिए दुर्भाग्य की बात है. जिस जतरा टाना भगत ने देश के लिए जान दी. आज उसका परिवार गरीबी, तंगहाली व बेरोजगारी में जी रहा है. दो परपोते मजदूरी करने के लिए दूसरे राज्य पलायन कर गये हैं. शहीद आवास अधूरा है. खपड़ा के घर में परिवार के लोग रहते हैं. शौचालय नहीं है. खुले में शौच करने जाते हैं.

1914 ईस्वी में गांधी से मिले थे जतरा, समाधि स्थल अब तक नहीं बनी है

जतरा टाना भगत का जन्म 1888 ईस्वी में हुआ था. 12 दिसंबर 1912 को जमींदारी प्रथा, अंग्रेजी साम्राज्य के खिलाफ आवाज उठायी. 1914 ईस्वी में रामगढ़ में महात्मा गांधी से जतरा टाना भगत मिले थे. 1915 ईस्वी में अंग्रेजों ने जतरा टाना भगत को गिरफ्तार कर लिया था. छह माह तक वे जेल में रहे. जेल में उसे यातनाएं दी गयी. 1916 में वे जेल से छूटे. परंतु दो महीने के बाद निधन हो गया.

शव को गुमला शहर के जशपुर रोड स्थित काली मंदिर के समीप से बहने वाली नदी के किनारे दफनाया गया था. इसी नदी के किनारे जतरा टाना भगत के वंशज व अनुयायी लंबे समय से समाधि स्थल बनाने की मांग कर रहे हैं. परंतु नहीं बना. अंग्रेजों से हुए जतरा टाना भगत की युद्ध की कहानी शिलापट्ट में अंकित करने की भी मांग की है.

दो परपोते बाहर गये, दो गांव में करते हैं मजदूरी

जतरा टाना भगत के पोता विश्वा टाना भगत ने बताया कि मेरे चार पुत्र हैं. गांव में रोजगार नहीं है. सुरेश टाना भगत तमिलनाडु व रमेश टाना भगत बेंगलुरु में मजदूरी करता है. अन्य दो बेटा शिवचंद्र और मंत्री टाना भगत गांव में ही रह कर दूसरों के यहां धांगर का काम करते है.

विश्वा की पत्नी को नहीं मिलती पेंशन

विश्वा की पत्नी बुधमनिया टाना भगत की उम्र 65 वर्ष है. परंतु उसे पेंशन नहीं मिलती है. बुधमनिया ने बताया कि आधार कार्ड बनाने वालों ने मेरी उम्र कम कर दी. जिसके कारण मुझे पेंशन नहीं मिल रही है. आधार कार्ड सुधार के लिए भी कई बार प्रयास किये. परंतु सुधार नहीं हुआ.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें