माफियाओं ने देवघर को बना दिया है बालू का डंपिंग यार्ड

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

खबर छपने के बाद छापेमारी कर सो जाता है विभाग

ट्रक से जा रहा है बालू बिहार
देवघर : लाख पाबंदी के बाद भी देवघर जिला में बालू का खेल जारी है. बालू माफिया जिला में विभिन्न घाटाें से बालू का उठाव कर आस-पास के गांवों में डंप कर रहे हैं. उसे जिला से बाहर भेज का दिन दोगुनी, रात चोगुनी कमाई कर रहे हैं. बालू माफियाओं के आगे जिला खनन विभाग बेबश नजर आ रहा है. माफियाओं के मनोबल का पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि देवघर शहरी व सटे क्षेत्रों में आधा दर्जन से अधिक जगहों में अभी भी बालू का डंप किया जा रहा है.
यहां से बालू का बुकिंग कर संबंधित जगहों में पहुंचाया जा रहा है. इसकी भनक विभाग को नहीं लग पा रही है. प्रभात खबर में बालू डंप करने की खबर छपने के बाद एक बार विभाग सक्रिय हुआ. इसमें दो लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कर चुप बैठ गयी है. इसके बाद से अब तक विभाग की ओर से एक भी नया मामला का पर्दाफाश नहीं किया जा सका है.
ग्रामीण क्षेत्रों को
बनाया है सेफजोन
बालू माफियाओं ने शहर से सटे ग्रामीण क्षेत्रों को सेफजोन के रूप में बनाया है. इससे बालू छिपाने के अलावा ऑर्डर आने पर तुरंत गंतव्य स्थान पर पहुंचाया जा सकता है.
ट्रैक्टर से होता है डंप
पुलिस की आंखों में धूल झोंकने के लिए बालू माफिया ट्रेक्टरों का सहारा लेता है. ट्रेक्टर में ओवरलोड बालू का उठाव किया जाता है. ट्रक से बालू को देवघर जिला पार कर बिहार व बंगाल प्रांत भेजा जाता है.
कहां-कहां हो रहा है बालू डंप
प्रोफेसर कॉलोनी निकट नवाडीह बाइपास रोड, पुनसिया-रामपुर मुख्य रोड, सलौनाटांड़, कुसुमडीह, मधुवन, तेतरिया, करनकोल
क्या कहते हैं खनन पदाधिकारी
जिला सहायक खनन पदाधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि विभागीय कार्यों से लगातार बाहर आना-जाना पड़ रहा है. टास्क फोर्स में शामिल अंचलाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी को नियमित निरीक्षण कर खनन विभाग को सूचित करना है, ताकि अवैध डंप करनेवालों पर कानूनी कार्रवाई की जा सके.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें