1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. chief justice of sikkim high court reached itkhori in chatra prayed for happiness and prosperity after visiting maa bhadrakali smj

सिक्किम हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस पहुंचे इटखोरी, मां भद्रकाली का दर्शन कर सुख-समृद्धि की कामना की

मां भद्रकाली का दर्शन करने सिक्किम हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस विश्वनाथ सोमदेर इटखोरी पहुंचे. इस दौरान मां का दर्शन कर सुख-समृद्धि की कामना की. इस दौरान सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था थी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news: सिक्किम हाईकाेर्ट के चीफ जस्टिस विश्वनाथ सोमदेर पहुंचे इटखोरी.
Jharkhand news: सिक्किम हाईकाेर्ट के चीफ जस्टिस विश्वनाथ सोमदेर पहुंचे इटखोरी.
प्रभात खबर.

Jharkhand news: सिक्किम हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश विश्वनाथ सोमदेर बुधवार को चतरा के इटखोरी पहुंचे. यहां पहुंचने पर उन्होंने मां भद्रकाली मंदिर में पूजा-अर्चना कर बौद्ध स्तूप का दर्शन किये. इस दौरान सुख-समृद्धि की कामना की. इस मौके पर उन्होंने म्यूजियम में रखे पुरातात्विक अवशेषों को भी देखा तथा क्षेत्र के इतिहास को जाना.

सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था

इस मौके पर मंदिर परिसर की व्यवस्था को देखकर सिक्किम हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस काफी खुश हुए. पूजा-अर्चना के बाद उन्होंने वन विभाग के अतिथिगृह में रूके. सिक्किम के चीफ जस्टिस के आगमन को लेकर क्षेत्र में सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था थी.

डीसी-एसपी

इधर, मंदिर आगमन पर डीसी अंजली यादव एवं एसपी राकेश रंजन ने बुके देकर सिक्किम हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस का अभिवादन किया. इस दौरान मंदिर परिसर में सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था था. एसडीओ सह मंदिर के अध्यक्ष मुमताज अंसारी, सिमरिया के एसडीपीओ अशोक प्रियदर्शी, बीडीओ साकेत सिन्हा और सीओ रामविनय शर्मा विधि व्यवस्था में तैनात थे.

गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया

सिक्किम हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के इटखोरी पहुंचने पर डीसी अजंली यादव ने मां भद्रकाली के प्रतीक तस्वीर वाला मोमेंटम भेंट किया. इससे पूर्व मंदिर पहुंचने से पहले जिला परिषद के उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया.

जानें इसकी खासियत

चतरा जिला के इटखोरी में मां भद्रकाली मंदिर अवस्थित है. इसे भदुली धाम के नाम से भी जाना जाता है. यह महाने और बक्सा नदी के संगम पर स्थित है. यहां तीन धर्म हिंदू, बौद्ध और जैन धर्मों के ऐतिहासिक साक्ष्य मिले हैं. ऐतिहासिक दृष्टिकोण से यह स्थान प्रागैतिहासिक काल, महाकाव्य काल तथा पुराण काल से संबंधित है. यहां 14 से अधिक प्रतिमाएं स्थापित है. इसे भी प्रमुख शक्तिपीठों में से एक माना जाता है. यहां मां भद्रकाली के साथ-साथ अष्टभुजी मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित थी, लेकिन चोरी होने के बाद मां भद्रकाली की प्रतिमा ही वापस आ पायी.

रिपोर्ट : विजय शर्मा, इटखोरी, चतरा.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें