1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. saran
  5. now drain water not be made on the roads in chhapra sewerage treatment plant being built at a cost of 244 billion asj

छपरा में अब सड़कों पर नहीं बहेगा नाले का पानी, 2.44 अरब की लागत से तैयार हो रहा सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट

केंद्र सरकार के जल शक्ति मंत्रालय की नमामी गंगे योजना के तहत 2.44 अरब की लागत से छपरा नगर निगम क्षेत्र में एसटीपी प्लांट (सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) लगाने की योजना पर कार्य काफी प्रगति पर है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
ट्रीटमेंट प्लांट
ट्रीटमेंट प्लांट
फाइल

छपरा (सदर). अब छपरा नगर निगम क्षेत्र व आस-पास के क्षेत्रों में न सड़कों व नालियों में होगा गंदे जल का जमाव और न दक्षिण की ओर बहने वाली घाघरा नदी में जायेगा गंदा जल. केंद्र सरकार के जल शक्ति मंत्रालय की नमामी गंगे योजना के तहत 2.44 अरब की लागत से छपरा नगर निगम क्षेत्र में एसटीपी प्लांट (सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) लगाने की योजना पर कार्य काफी प्रगति पर है.

इस सिवरेज प्लांट की क्षमता प्रतिदिन 32 मिलियन लीटर गंदे जल को साफ करने की है. जिसे ट्रीटमेंट के बाद नदी में बहाने या शहर में आवश्यकता अनुसार उपयोग में लाये जाने का कार्य किया जायेगा. यह योजना जून 2022 तक पूरा हो जाने की संभावना है.

इस योजना के धरातल पर उतरने से छपरा शहर व आस-पास के पांच लाख की आबादी को गंदे जल के जमाव तथा उससे निकलने वाली बदबू से जहां निजात मिलेगी. वहीं शहर से सटे बहने वाली घाघरा नदी भी गंदा होने से बचेगी. इसे लेकर विभागीय तकनिकी पदाधिकारी एवं मजदूर लगातार विभिन्न स्थानों पर कार्य कर रहे है.

20 किलोमीटर लंबा पाइपलाइन

बूडकों के विशेष कार्यपालक अभियंता एसएस सिन्हा के अनुसार इस एसटीपी योजना का मुख्य पंपिंग स्टेशन छपरा सदर के शेरपुर गांव में बन रहा है. इसके अलावें सात इंटरमीडिएट पंपिंग स्टेशन बनाने है जिसमें से छ: के निर्माण का कार्य स्थल चयन के साथ-साथ चल रहा है. जबकि जगदम कॉलेज ढ़ाला के पास एक इंटरमीडिएट पंपिंग स्टेशन के लिए प्रस्ताव है.

कार्यपालक अभियंता के अनुसार इस योजना के तहत इनई से लेकर बड़ा तेलपा रोड, छपरा एनएच 19 पर ब्रहमपुर में, म्यूनिस्पल चौक आदि स्थानों पर 20 किलोमीटर पाइप लाइन बिछाया जायेगा. यह पाइप लाइन छपरा शहर के खनुआ नाला समेत 39 मुख्य नालों से जुड़ा रहेगा. जिन स्थानों पर इंटरमीडिएट पंपिंग स्टेशन बनाने का कार्य शुरू है या जगह का चयन कर लिया गया है.

उनमें इनई बड़ा तेलपा रोड में में दो, ब्रहमपुर में एक, खनुआ नाला में जिला उपभोक्ता फोरम से पश्चिम एक, सदर प्रखंड के निकट तेलपा में एक तथा जगदम कॉलेज रेलवे ढ़ाला के पास एक इंटमरमीडिएट पंपिंग स्टेशन बनाया जायेगा. इन सभी इंटरमीडिएट पंपिंग स्टेशन को नालों से जोड़ने के बाद शहर व आसपास के क्षेत्र का गंदा जल इन इंटरमीडिएट पंपिंग स्टेशन के माध्यम से पाइप लाइन द्वारा मुख्य पंपिंग स्टेशन शेरपुर में ले जाने की व्यवस्था रहेगी. जहां सिवरेज से जाने वाले जल को ट्रिटमेंट करने की सुविधा होगी.

अबतक 65 से 70 फीसदी कार्य पूरा

बूडकों के सहायक अभियंता अनंद सिंह के अनुसार जापान की तोसीबा वाटर सल्यूशन तथा जेबी सेवरक्श कंस्ट्रक्शन के द्वारा 2.44 अरब की एसटीपी योजना पर अबतक 65 से 70 फीसदी किया जा चुका है. यह कार्य जून 2022 तक पूरा कर लेना है.

पूर्व में इसे अगत 2021 तक पूरा कर लेना था परंतु, जमीन मिलने में विलंब के कारण योजना में जहां देरी हुई वहीं विभाग को पुन: योजना को पूरा करने के लिए 2022 जून तक का समय निर्धारित करना पड़ा. इस योजना के धरातल पर उतरने के बाद शहरवासियों को विभिन्न नालों से गंदा जल के सड़क पर बहने तथा उससे निकलने वाली बदबू से निजात मिलेगी.

क्या कहते है पदाधिकारी

बूडकों के विशेष कार्यपालक अभियंता शत्रुघ्न शरण सिन्हा ने कहा कि जल शक्ति मंत्रालय की नमामी गंगा योजना के तहत छपरा शहर में 2.44 अरब की लागत से एसटीपी प्लांट निर्माण का कार्य जून 2022 तक पूरा हो जायेगा. इसकी क्षमता 32 मिलियन लीटर प्रतिदिन होगी. इसके लिए इनई से लेकर बड़ा तेलपा व शहर के 39 नालों को जोड़ने के लिए 20 किलोमीटर लंबा पाइप लाइन बिछाने के लिए जापान की तोसीबा समेत दो कंपनियां कार्य कर रही है.

योजना पर एक नजर

  • -एसटीपी प्लांट की क्षमता 32 मिलीयन लीटर प्रतिदिन

  • -कुल खर्च 2.44 अरब

  • -कुल 20 किलोमीटर लंबाई में बिछेगी पाइपलाइन

  • -शहर के 39 नालों को सात सहायक पंपिंग स्टेशनों से जोड़ने का होगा काम

  • -जून 2022 तक पूरा करने के लिए जापान की तोसीबा समेत दो कंपनिया कर रही कार्य

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें