बीएयू के प्रोफेसर का भतीजा गंगा में डूबा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
बीएयू के प्रोफेसर का भतीजा गंगा में डूबा- समस्तीपुर निवासी दीपक कुमार राजस्थान में करता था बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाईबीएयू में कार्यरत सहायक प्रोफेसर (पौधा प्रजनन विभाग) चंदन किशोर का भतीजा है दीपक एक सप्ताह के दौरान तीन छात्र डूब चुके हैं गंगा मेंप्रतिनिधि, सबौरइंजीनियरिंग कॉलेज के पीछे मंगलवार को समस्तीपुर निवासी दीपक कुमार (20) स्नान करने के दौरान गंगा में डूब गया. वह अपने चाचा बिहार कृषि विश्वविद्यालय में कार्यरत सहायक प्रोफेसर (पौधा प्रजनन विभाग) चंदन किशोर और उनके आठ वर्षीय साला रिषभ राज के साथ स्नान करने आया था. मौके पर मौजूद चंदन किशोर ने बताया कि वे जब गंगा किनारे स्नान करने पानी में उतर रहे थे, तभी दोनों बच्चे किनारे पानी में खेल रहे थे़ इसी बीच दीपक का पैर फिसल गया और वह पानी के तेज बहाव में बह कर डूब गया. घटना की सूचना जैसे ही आस पास के क्षेत्र में पहुंची, बड़ी संख्या में लोग नदी किनारे पहुंच गये. आनन फानन में लोगों ने जीरोमाइल पुलिस को दी. पुलिस ने मौके पर पहुंच एसडीआरएफ की टीम को खबर किया, लेकिन टीम शाम को घटनास्थल पर पहुंची़. इसके पूर्व परिजनों ने नवगछिया गोपालपुर से गोताखोर को बुलवा कर खोजबीन करवायी, लेकिन सफलता नहीं मिली़ वहीं बरारी से एक बारह की तैराकी टीम ने मौके पर पहुंच कर खोज की. शाम में एसडीआरएफ की टीम ने भी मौके पर पहुंच कर खोजबीन की, पर सफलता नहीं मिली़ बता दें कि इंजीनियरिंग कॉलेज के पीछे कटाव स्थल के पास पिछले बुधवार को स्नान करने के दौरान फतेहपुर गांव के दो छात्र दाऊद उर्फ डीएम और मो माहताब उर्फ छोटू डूब गये थे. माहताब उर्फ छोटू का शव बरामद हो गया, लेकिन दाऊद का अब तक कोई पता नहीं चल पाया है़ परिवार में मचा कोहरामसमस्तीपुर निवासी बीएयू के सहायक प्रोफेसर डॉ चंदन किशोर सपरिवार सबौर में ही एक अपार्टमेंट में रहते हैं. दीपक तीन दिन पहले उनके यहां आया था़ घटना की सूचना पाकर बीएयू से भी बड़ी संख्या में कर्मचारी व पदाधिकारी मौके पर पहुंचे और श्री किशोर व परिजनों को ढाढ़स बंधाया़ चंदन किशोर के ससुर मिसरोलिया पूसा मुजफफरपुर निवासी राजू रजक ने बतया कि दीपक के पिता अरविंद रजक बिजनेस करते हैं. दीपक पहले भी भागलपुर आता था़ वह राजस्थान में बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई करता था़ दीपक की मां मंजू देवी को सूचना दी गयी है़ दीपक के डूबने से पूरे परिवार में कोहराम मच गया है.स्नान पर लगे राेक घटनास्थल पर पहुंचे फतेहपुर गांव के लोगों का कहना था कि प्रशासन को पिछली घटना से सबक लेकर यहां पर लोगों के स्नान करने पर रोक लगानी चाहिए़ आम लोगों को कटाव स्थल पर बोरी के बाद पानी में गहराई का पता नहीं होता है़ लोग जैसे ही पानी में उतरते हैं, वे अथाह गहराई में चले जाते है़ं यहां पर पानी में तेज घुरनी धार है, जिसकी चपेट में आने पर उससे निकलना मुश्किल होता है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें