1. home Home
  2. religion
  3. hartalika teej 2021 in bihar married women will keep a waterless fast of hartalika teej know the auspicious time worship method material and fasting rules rdy

आज सुहागिन महिलाएं बेहद शुभ योग में रखी हैं हरतालिका तीज का व्रत, इस Time पूजा करने पर मिलेगा शुभ फल

आज भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि है. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए हरतालिका तीज का निर्जला व्रत रखतीं हैं. हरतालिका तीज का व्रत इस साल 09 सितंबर यानि आज है. आइए जानते है इस व्रत से जुड़ी पूरी जानकारी...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Hartalika Teej Vrat 2021 Puja Vidhi
Hartalika Teej Vrat 2021 Puja Vidhi
prabhat khabar

Hartalika Teej Vrat 2021 Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Samagri: आज भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि है. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए हरतालिका तीज का निर्जला व्रत रखतीं हैं. हरतालिका तीज का व्रत इस साल 09 सितंबर यानि आज है. आइए जानते है इस व्रत से जुड़ी पूरी जानकारी...

email
TwitterFacebookemailemail

जानें कब करनी चाहिए पूजा

हरतालिका तीज व्रत की पूजा प्रदोषकाल में की जाती है. यह दिन और रात के मिलन का समय होता है. पूजा करने के लिए भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की मिट्टी (बालू रेत या काली मिट्टी) से प्रतिमा बनाई जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

ये वस्त्र करें माता पार्वती को अर्पित

हरतालिका तीज का व्रत में भगवान शिव और माता पार्वती को रेशम के वस्त्र अर्पित करने का विधान है. तीज की पूजा सूर्यास्त के बाद प्रदोष काल में करना सबसे शुभ माना जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

रात्रि जागरण का होता है विशेष महत्व

हरतालिका तीज व्रत में रात्रि जागरण का विशेष महत्व होता है. इस व्रत में आठों पहर पूजन करने का विधान है, रात्रि के समय शिव-पार्वती के मंत्रों का जाप या भजन करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

व्रती महिलाएं जरूर करें ये काम

व्रती महिलाएं सबसे पहले देवी पार्वती और श‍िवजी की पूजा करें. इसके बाद 11 नवविवाहिताओं को सुहाग की पिटारी भेंट करें. ध्‍यान रखें क‍ि इस प‍िटारी में पूरा 16 श्रृंगार होना चाहिए. साथ ही पांच बुजुर्ग सुहाग‍िनों को साड़ी और बिछिया दें. इसके बाद पति के साथ उनके पैर छुएं.

email
TwitterFacebookemailemail

अपने हाथ से खीर बनाकर लगाएं भोग

हरतालिका तीज के द‍िन भोलेनाथ और माता पार्वती की पूजा के बाद अपने हाथ से खीर बनाकर माता पार्वती को भोग लगाएं. इसके बाद प्रसाद रूप में वह खीर पति को खिलाएं. फिर दूसरे दिन उपवास खोलने के बाद आप भी वही खीर खाएं. इससे दांपत्य जीवन में प्रेम बढ़ता है और जीवन सुखमय होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

नवविवाहिताएं इन बातों का रखें ख्याल

मान्यता है कि नवविवाहिताएं जिस तरह व्रत रख लेंगी, उसी तरह से हमेशा इस व्रत को करना होगा. इसलिए इस बात का ध्यान रखना है कि पहले व्रत से जो नियम आप उठाएं उनका पालन करें. अगर निर्जला ही व्रत रखा था तो फिर हमेशा निर्जला ही व्रत रखें. आप इस व्रत में बीच में पानी नहीं पी सकते.

email
TwitterFacebookemailemail

चतुर्थी तिथि में किया जाता है व्रत पारण

चतुर्थी तिथि यानी अगले दिन व्रत को खोला जाता है. व्रत की पारण विधि के अनुसार ही व्रत का पारण करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

सभी व्रत से कठिन होता है हरतालिका तीज का व्रत

हरतालिका तीज का व्रत एक बार जो महिलाएं शुरू कर देतीं है तो उसे हर साल ही रखना होता है. अगर किसी साल बीमार हैं तो व्रत छोड़ नहीं सकतीं है. ऐसे में आपको उदयापन करना होगा या अपनी सास, देवरानी को देना होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

व्रती महिलाएं इन बातों का रखें ख्याल

हरतालिका व्रत के दौरान भूलकर भी सोना नहीं चाहिए. इस व्रत में सोने की मनाही है. व्रती महिलाओं को रातभर जागकर भगवान शिव का स्मरण करना चाहिए. इस दिन व्रती महिलाओं को सोलह श्रृंगार करना चाहिए और साथ ही सुहाग का सामान सुहागिन महिलाओं को दान करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

प्रेग्नेंट महिलाएं कैसे रखें व्रत

गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिलाएं निर्जला व्रत बिल्कुल भी न रखें. कुछ न कुछ पेय पदार्थ लेते रहें. नारियल पानी, दूध, जूस, लस्सी इत्यादि पेद पदार्थ लेते रहें. जिससे शरीर में जरूरी तत्वों की कमी न हो पाए. व्रत में भी हर दो घंटे में फलाहार लेती रहें. इस समय पानी अधिक से अधिक पिएं.

email
TwitterFacebookemailemail

हरतालिका तीज पर बना शुभ योग

इस बार हरतालिका तीज पर रवि योग बना है. ज्योतिष के अनुसार, ये योग 14 साल बाद इस दिन बन रहा है. हरतालिका व्रत की पूजा इस वर्ष रवि योग में की जाएगी.

email
TwitterFacebookemailemail

पूजन सामग्री

गीली काली मिट्टी या बालू, बेलपत्र, शमी पत्र, केले का पत्ता, धतूरे का फल एवं फूल, आंक का फूल, मंजरी, जनेऊ, वस्त्र, फल एवं फूल पत्ते, श्रीफल, कलश, अबीर,चंदन, घी-तेल, कपूर, कुमकुम, दीपक, फुलहरा, विशेष प्रकार की 16 पत्तियां और 2 सुहाग पिटारा जरूरी होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

ऐसे महिलाएं रखती है तीज व्रत

सुहागिन महिलाएं निर्जला व निराहार रखकर तीज व्रत करती हैं. शाम में भगवान शंकर व माता पार्वती की मिट्टी की प्रतिमाएं बनाकर पूजा-अर्चना की जाती हैं. नये-नये परिधानों व सोलह श्रृंगार कर सजी महिलाओं से घर-आंगन चहक उठता है. पूजन के बाद महिलाएं रात भर भजन-कीर्तन करती हैं. अहले सुबह में पारण के बाद महिलाएं अन्न-जल ग्रहण करती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

हरतालिका तीज व्रत नियम

हरतालिका तीज व्रत में भगवान शिव और माता पार्वती की विधि-विधान से पूजा की जाती है. कई जगहों पर महिलाएं भगवान शिव, माता पार्वती और श्रीगणेश की कच्ची मूर्ति से प्रतिमा बनाती हैं. ये व्रत निर्जला और निराहार रखा जाता है. इस व्रत में अन्न और जल ग्रहण करना मना होता है. व्रत का पारण अगले दिन यानी चतुर्थी तिथि में किया जाता है. व्रत रखने वाली महिलाओं को हरतालिका तीज व्रत कथा जरूर सुननी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

पूजा विधि

व्रत में भगवान शिव, माता पार्वती और गणेश जी की मिट्टी से प्रतिमाएं स्थापित कर पूजा की जाती है. माता पार्वती को सुहाग की वस्तुएं चढ़ाएं और शिव व गणेश भगवान को वस्त्र आदि भेंट करें. पूजन के समय हरतालिका तीज व्रत की कथा ब्राह्मणों द्वारा जरूर सुननी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

दान करने के लिए सामग्री

हरतालिका तीज व्रत में सुहाग का सामान चढ़ाया जाता है। जिसमें बिछिया, पायल, कुमकुम, मेहंदी, सिंदूर, चूड़ी, माहौर, कलश, घी-तेल, दीपक, कंघी, कुमकुम और अबीर आदि शामिल है

email
TwitterFacebookemailemail

शुभ मुहूर्त

हरतालिका तीज की पूजा के दो शुभ मुहूर्त बन रहे हैं. पहला शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 03 मिनट से 8 बजकर 33 मिनट तक और दूसरा शुभ मुहूर्त शाम को 6 बजकर 33 मिनट से रात 8 बजकर 51 मिनट तक है.

email
TwitterFacebookemailemail

हरतालिका तीज व्रत की पूजन सामग्री

गीली काली मिट्टी या बालू रेत,धतूरे का फल एवं फूल, अकांव का फूल, तुलसी, मंजरी, बेलपत्र, शमी पत्र, केले का पत्ता, जनैऊ, कलेवा/लच्छा या नाड़ा, वस्त्र, श्रीफल, कलश, अबीर, चंदन, घी-तेल, सभी प्रकार के फल एवं फूल पत्ते, कपूर, फुलहरा, कुमकुम, दीपक और विशेष प्रकार की पत्तियां, लकड़ी का पाटा, पूजा के लिए नारियल, लाल या पीले रंग का कपड़ा, पानी से भरा कलश, मेंहदी, काजल, माता के लिए चुनरी, सुहाग का सामान, सिंदूर, चूड़ियां, बिंदी और पंचामृत पूजा की इकटठा करें.

email
TwitterFacebookemailemail

हरतालिका तीज व्रत के नियम

इस व्रत में पूरे दिन अन्न और जल ग्रहण नहीं किया जाता

व्रत रखने वाली महिलाएं अगले दिन जल ग्रहण करती हैं

मान्यता है अगर एक बार ये व्रत शुरू कर दिया है तो फिर इसे छोड़ा नहीं जा सकता.

व्रत रखने वाली महिलाओं को इस दिन सोना नहीं चाहिए और रात्रि भर जागरण करना चाहिए.

इस व्रत को कुंवारी कन्या अच्छे वर की प्राप्ति के लिए तो शादीशुदा स्त्रियां पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

हरितालिका तीज पूजा विधि

  • हरितालिका तीज में श्रीगणेश, भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है.

  • आज सबसे पहले मिट्टी से तीनों की प्रतिमा बनाएं और भगवान गणेश को तिलक करके दूर्वा अर्पित करें.

  • इसके बाद भगवान शिव को फूल, बेलपत्र और शमिपत्री अर्पित करें और माता पार्वती को श्रृंगार का सामान अर्पित करें.

  • तीनों देवताओं को वस्त्र अर्पित करने के बाद हरितालिका तीज व्रत कथा सुनें या पढ़ें.

  • इसके बाद श्रीगणेश की आरती करें और भगवान शिव और माता पार्वती की आरती उतारने के बाद भोग लगाएं.

email
TwitterFacebookemailemail

हरतालिका तीज व्रत का शुभ मुहूर्त

इस बार हरतालिका तीज व्रत की पूजा के दो शुभ मुहूर्त बन रहे हैं. पहला शुभ मुहूर्त सुबह के समय और दूसरा प्रदोष काल यानी सूर्यास्त के बाद बन रहा है. सुबह का मुहूर्त- सुबह 06 बजकर 03 मिनट से सुबह 08 बजकर 33 मिनट तक हरतालिका तीज की पूजा का शुभ मुहूर्त है. प्रदोष काल पूजा मुहूर्त- शाम को 06 बजकर 33 मिनट से रात 08 बजकर 51 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. पूजा के लिए आपको कुल समय 02 घंटे 30 मिनट मिलेगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें