siliguri

  • Aug 14 2019 1:30AM
Advertisement

एसडीएफ के 10 विधायक भाजपा में हुए शामिल

एसडीएफ के 10 विधायक भाजपा में हुए शामिल

 सिक्किम में पूर्व मुख्यमंत्री चामलिंग को बड़ा झटका

बनी मुख्य विपक्षी दल 
 
हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नहीं जीती थी एक भी सीट
 
सिलीगुड़ी : सिक्किम के पूर्व मुख्यमंत्री पवन चामलिंग की पार्टी सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के 10 विधायक मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गये. एसडीएफ के 10 विधायकों के शामिल होने के बाद सिक्किम में भाजपा मुख्य विपक्षी दल बन गयी है. हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में भाजपा इस राज्य में एक भी सीट नहीं जीत पायी थी. 
 
एसडीएफ विधायकों ने भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की और पार्टी महासचिव राम माधव की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गये. राम माधव पूर्वोत्तर में पार्टी के मामलों के प्रभारी हैं. भाजपा में शामिल हुए एसडीएफ विधायकों में दोरजी शेरिंग लेप्चा, डीआर थापा, कर्मा सोनेम लेप्चा, केबी राय, टीटी भूटिया, फरमंती तमांग, पिंटो नामग्याल लेप्चा, राम कुमारी थापा आदि हैं.
 
सिक्किम के इन विधायकों का पार्टी में स्वागत करते हुए भाजपा महासचिव राम माधव ने संवाददाताओं से कहा कि एसडीएफ के 13 विधायक थे. इनमें से 10 विधायकों ने भाजपा में शामिल होने का निर्णय किया. उन्होंने कहा कि सिक्किम में भाजपा सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभायेगी. वहीं, लेप्चा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की ‘एक्ट ईस्ट नीति' काफी प्रभावी है और युवा इसे स्वीकार कर रहे हैं. 
 
गौरतलब है कि मई 2019 तक पवन चामलिंग के नेतृत्व में सिक्किम में एसडीएफ ही सत्ता में थी. एसडीएफ के पिछले 25 साल के शासनकाल में पवन चामलिंग ही मुख्यमंत्री पद संभाले हुए थे. इसी साल लोकसभा चुनाव के साथ राज्य में विधानसभा चुनाव कराये गये थे. सिक्किम विधानसभा में कुल  सीटों की संख्या 32 है. विधानसभा चुनाव में एसडीएफ बहुमत हासिल नहीं कर पायी थी.

बनी मुख्य विपक्षी दल 
 
हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नहीं जीती थी एक भी सीट
 
सिलीगुड़ी/ नयी दिल्ली. सिक्किम के पूर्व मुख्यमंत्री पवन चामलिंग की पार्टी सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के 10 विधायक मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गये. एसडीएफ के 10 विधायकों के शामिल होने के बाद सिक्किम में भाजपा मुख्य विपक्षी दल बन गयी है. 
हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में भाजपा इस राज्य में एक भी सीट नहीं जीत पायी थी. 
 
एसडीएफ विधायकों ने भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की और पार्टी महासचिव राम माधव की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गये. राम माधव पूर्वोत्तर में पार्टी के मामलों के प्रभारी हैं. भाजपा में शामिल हुए एसडीएफ विधायकों में दोरजी शेरिंग लेप्चा, डीआर थापा, कर्मा सोनेम लेप्चा, केबी राय, टीटी भूटिया, फरमंती तमांग, पिंटो नामग्याल लेप्चा, राम कुमारी थापा आदि हैं.
 
सिक्किम के इन विधायकों का पार्टी में स्वागत करते हुए भाजपा महासचिव राम माधव ने संवाददाताओं से कहा कि एसडीएफ के 13 विधायक थे. इनमें से 10 विधायकों ने भाजपा में शामिल होने का निर्णय किया. उन्होंने कहा कि सिक्किम में भाजपा सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभायेगी. वहीं, लेप्चा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की ‘एक्ट ईस्ट नीति' काफी प्रभावी है और युवा इसे स्वीकार कर रहे हैं. 
 
गौरतलब है कि मई 2019 तक पवन चामलिंग के नेतृत्व में सिक्किम में एसडीएफ ही सत्ता में थी. एसडीएफ के पिछले 25 साल के शासनकाल में पवन चामलिंग ही मुख्यमंत्री पद संभाले हुए थे. इसी साल लोकसभा चुनाव के साथ राज्य में विधानसभा चुनाव कराये गये थे. सिक्किम विधानसभा में कुल  सीटों की संख्या 32 है. विधानसभा चुनाव में एसडीएफ बहुमत हासिल नहीं कर पायी थी.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement