Advertisement

ranchi

  • Jun 13 2019 6:11AM
Advertisement

रांची में आधे घंटे ब्लैक आउट, पहले से ही बिजली की लोड शेडिंग झेल रहे लोगों पर पड़ी मौसम की मार

रांची में आधे घंटे ब्लैक आउट, पहले से ही बिजली की लोड शेडिंग झेल रहे लोगों पर पड़ी मौसम की मार
रांची : दिन भर लोड शेडिंग झेल रहे राजधानी के लोगों की मुश्किल बुधवार शाम आयी आंधी ने और बढ़ा दी. आंधी से पूरे शहर की बिजली आपूर्ति बुरी तरह चरमरा गयी. कई इलाकों में पेड़ गिरने और बिजली के तार टूटने के कारण शाम 6:00 बजे से 6:35 बजे तक राजधानी में ब्लैक आउट की स्थिति हो गयी. वहीं, शाम 6:17 बजे से 6:33 बजे तक रेलवे की बिजली आपूर्ति भी ठप हो गयी.
 
इधर, विभाग अपनी लाचारी बता रहा है कि संचरण लाइनें लोड बर्दास्त नहीं कर पा रहीं, जिसके चलते शटडाउन के अतिरिक्त एक दिन में 25 बार से ज्यादा बार बिजली ट्रिप कर जा रही है. उधर, जानकारी के अनुसार लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, लातेहार, गढ़वा के कई इलाकों में भी बुधवार को 10 घंटे तक बिजली गुल रही है.  
 
थंडरिंग से एक-एक कर ट्रिप होते चले गये ग्रिड
 
बुधवार  शाम हल्की बारिश के बाद थंडरिंग के चलते पीटीपीएस और हटिया-2 ग्रिड के बीच  15 किमी की दूरी एक बड़ा फॉल्ट उत्पन्न हो गया. इसके चलते हटिया-2 के  तीनों 50 एमवीए ट्रांसफार्मर ट्रिप कर गया. 
 
एक लाइन ट्रिप हाेते ही उसका  असर बाकी के ग्रिडों पर भी पड़ा और एक-एक कर के सभी ग्रिड ट्रिप करते चले गयी. शाम 6:17 बजे हटिया-2 ठप पड़ गया, जिसके चलते रेलवे को मिलने  वाली सप्लाई भी पूरी तरह से बंद हो गयी. गनीमत यह रही कि 10 से 15  मिनट के भीतर नामकुम पीजीसीआइएल ग्रिड से फौरन चुटिया को सप्लाई उपलब्ध   कराके ट्रेनों का आवागमन को पुन: बहाल कर दिया गया. 

शहर के बड़े इलाकों में बिजली बाधित रही
 
रांची के कोकर रूरल फीडर से शाम छह बजे से जो बिजली गायब हुई रात 11 बजे तक गुल थी. कोकर में दिन के समय भी लोड शेडिंग चल रही थी.
 
जगदीश एनक्लेव के पास 11 केवी तार टूट जाने की वजह से पिस्का मोड़ इलाके में दिन के तीन बजे जो बिजली कटी वह रात 8.30 बजे बहाल हुई. न्यू मधुकम इलाके में शाम पांच बजे से रात 10 बजे तक बिजली गुल थी.
 
रेडियम रोड, सर्कुलर रोड, लालपुर में भी दो से तीन घंटे तक बिजली बाधित रही. रेडियम रोड में तार पर पेड़ की डाली टूट कर गिर गयी. इस कारण इस इलाके में बिजली की समस्या थी. शाम छह बजे 33 केवी कांके सब स्टेशन से भी ब्रेकडाउन हो गया.
 
इस कारण कांके, पिठोरिया में बिजली शाम छह बजे से रात 8.50 बजे तक बिजली पूरी तरह गुल थी. इसका असर नामकुम, टाटीसिलवे, कोकर, रानी बागान, कांटाटोली चौक, पुरुलिया रोड, मेन रोड, लालपुर, बूटी मोड़, अपर बाजार, हरमू रोड, हरमू, अशोक नगर, एचइसी क्षेत्र, हिनू, बिरसा चौक, कटहल मोड़, पंडरा, इटकी रोड, बेड़ो, इटकी, नगड़ी, मांडर, रामपुर, तमाड़ और बुडू में भी पड़ा. वहीं, ओवरब्रिज के पास एचटी केबल पर होर्डिंग गिर जाने के कारण रात 9:30 बजे तक बिजली गुल रही. कडरू इलाके में भी एचटी केबल के पंक्चर सूचना है. 
 
लोड अधिक, क्षमता से ज्यादा काम कर रहे ग्रिड
 
सिकिदरी-नामकुम ग्रिड तक चालू 132 केवी लाइन में 130 मेगावाट बिजली का लोड लेने की क्षमता नहीं है, जिस कारण ग्रिड से निकले 33 केवी के कई फीडरों से दिन एवं रात में एक से चार घंटे की लोड शेडिंग की जा रही है. यही हाल कांके व हटिया वन और टू का भी है, इन दोनों ग्रिडों से भी 15 से 20 मेगावाट अतिरिक्त लोड डालकर चलाया जा रहा है.

सीएम से लगा रहे गुहार
 
गर्मी के मौसम में बिजली की किल्लत से आमलोग काफी परेशान हैं. लोग सब स्टेशन में फोन लगाते हैं, तो अधिकारी फोन नहीं उठाते. उठाते भी हैं रटा-रटाया जवाब मिलता है. लोगों ने बुधवार को भी बिजली की शिकायत दर्ज कराने के लिए एसडीओ-जेई के मोबाइल फोन  पर कॉल किया गया, लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया. पिस्का मोड़ इलाके  का रत्नेश कुमार ने विभागीय अधिकारियों के इसी रवैये को लेकर मुख्यमंत्री  से गुहार लगायी है.
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement