patna

  • Dec 15 2019 4:54AM
Advertisement

गैंगरेप का एक और आरोपित गिरफ्तार

  पटना  : पाटलिपुत्र थाना क्षेत्र के नेहरू पथ में छात्रा से गैंगरेप के मामले में तीसरे आरोपित अमन भूमि को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. शनिवार को बिहटा रेलवे स्टेशन से पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया. वहीं, चौथा आरोपित अश्विनी सिंह राजपूत पुलिस की गिरफ्त से अब भी फरार चल रहा है. 

 
उसकी गिरफ्तारी के लिए टीम अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. अश्विनी के गांव छपरा में पहले से ही टीम मौजूद है. आरोपित के साथ-साथ उसके परिवार वालों की हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है. 
 
विपुल के पिता शेखर सुमन ने छात्रा व विपुल के बीच गैंगरेप का विरोध कर रहे छात्रों पर फिर लाठीचार्ज  बातचीत का वायरल ऑडियो पुलिस को मुहैया करा कर जांच की मांग की है. 58 सेकेंड के ऑडियो में छात्रा व विपुल आपस में झगड़ा कर रहे हैं. 
पुलिस ने वायरल ऑडियो को एफएसएल में जांच के लिए भेज दिया है. बातचीत में आवाज लड़की की है या नहीं इसकी जांच की जा रही है. इधर, दूसरी ओर पीएमसीएच ने छात्रा की मेडिकल रिपोर्ट महिला थाने को सौंप दी है. रिपोर्ट में बलात्कार की पुष्टि कर दी गयी है. पुलिस ने रिपोर्ट एसएसपी कार्यालय को भेज दी है. . 
 
महिला थाना प्रभारी आरती कुमारी जायसवाल ने कहा कि 
 गिरफ्तार छात्र एफआइआर होने के समय तक नाबालिग था. उससे पूछताछ जारी है. वहीं, कोर्ट में सरेंडर करने वाले दो आरोपित मनीष व विपुल को एक दो दिन के अंदर पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी. इसमें और खुलासे किये जायेंगे.
 
बिहटा से दिल्ली भागने की तैयारी में था आरोपित 
पकड़े गये आरोपित अमन भूमि ने इसी साल 12वीं पास करने के बाद इंजीनियरिंग की तैयारी शुरू की थी. एफआइआर दर्ज होने के चार दिन बाद वह बालिग (18 साल) हुआ है.
 
 पुलिस को दिये बयान में उसने बताया कि बोरिंग रोड स्थित एक कोचिंग में विपुल से मुलाकात हुई. वहीं से दोस्ती हुई. पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए फुलवारीशरीफ स्टेशन से पैसेंजर ट्रेन पकड़ कर वह बिहटा स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर दिल्ली जाने वाली ट्रेन का इंतजार कर रहा था. 
 
दिल्ली भागने से पहले ही वह पुलिस की गिरफ्त में आ गया. पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपित को अपने कब्जे में लिया और महिला थाने को सुपुर्द किया. आरोपित के पास से एक मोबाइल नंबर और तीन कंपनियों के सिम बरामद किये गये हैं. गिरफ्तारी के दौरान पुलिस ने आरपीएफ व जीआरपी के जवानों से मदद ली.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement