lucknow

  • Dec 7 2019 1:34PM
Advertisement

उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद विपक्ष का सरकार पर हल्ला बोल

उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद विपक्ष का सरकार पर हल्ला बोल

लखनऊ :  जिंदा जला दी गई उन्नाव बलात्कार पीड़िता की दिल्ली के अस्पताल में मौत के बाद विपक्षी दलों सपा और कांग्रेस ने शनिवार को उत्तर प्रदेश सरकार पर हल्ला बोल दिया. पीड़िता की मौत की खबर मिलने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव विधानभवन के सामने धरने पर बैठ गये और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा आनन-फानन में लखनऊ से उन्नाव रवाना हो गयीं .  

 
घटना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सत्तारूढ़ भाजपा के राज्य मुख्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया, जिसके बाद पुलिस ने व्यवस्था बनाये रखने के लिये उन पर बल प्रयोग किया. अखिलेश यादव विधान भवन के मुख्य द्वार के सामने धरने पर बैठ गए. बाद में उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत में इसे काला दिन करार दिया और इस घटना के लिए प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने ऐलान किया कि इस घटना के खिलाफ रविवार को समाजवादी पार्टी प्रदेश के हर जिला मुख्यालय पर शोक सभा का आयोजन करेगी. सपा अध्यक्ष ने कहा कि योगी सरकार के कार्यकाल में यह कोई पहली घटना नहीं है.
 
उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद उसके परिजन से मुलाकात करने के लिए उन्नाव पहुंचीं. वहां उन्होंने पीड़िता के परिजन से मुलाकात कर उन्हें हिम्मत बंधायी और कहा कि कांग्रेस न्याय के लिये लड़ाई लड़ेगी. इससे पहले, प्रियंका ने ट्वीट किया, "मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि वह उन्नाव पीड़िता के परिवार को इस दुख की घड़ी में हिम्मत दे." 
 
उन्होंने कहा, ‘‘यह हम सबकी नाकामयाबी है कि हम उसे न्याय नहीं दे पाए. सामाजिक तौर पर हम सब दोषी हैं लेकिन यह उत्तर प्रदेश में खोखली हो चुकी कानून व्यवस्था को भी दिखाता है.'' बसपा मुखिया मायावती ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार पीड़िता के परिवार को न्याय दिलाने के लिए शीघ्र पहल करे. उन्होंने ट्वीट किया "जिस उन्नाव बलात्कार पीड़िता को जलाकर मारने की कोशिश की गई, उसकी कल रात दिल्ली में हुई दर्दनाक मौत अति-कष्टदायक. इस दुःख की घड़ी में बसपा पीड़ित परिवार के साथ है. 
 
उत्तर प्रदेश सरकार पीड़ित परिवार को समुचित न्याय दिलाने हेतु शीघ्र ही विशेष पहल करे, यही इंसाफ का तकाज़ा व जनता की मांग है." उन्होंने कहा, ''साथ ही, इस किस्म की दर्दनाक घटनाओं को उत्तर प्रदेश सहित पूरे देशभर में रोकने के लिये राज्य सरकारों को चाहिए कि वे लोगों में कानून का खौफ पैदा करें तथा केन्द्र भी ऐसी घटनाओं को मद्देनजर रखते हुये दोषियों को निर्धारित समय के भीतर ही फांसी की सख्त सजा दिलाने का कानून जरूर बनाए."
 
मालूम हो कि उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली करीब बलात्कार पीड़िता को गुरुवार तड़के पांच लोगों ने आग के हवाले कर दिया था. आरोपियों में से दो के खिलाफ पीड़िता ने बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराया था. करीब 90 प्रतिशत तक झुलस चुकी युवती को एअरलिफ्ट कराकर दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां शुक्रवार देर रात उसकी मौत हो गई. 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement