Advertisement

jamshedpur

  • May 20 2019 8:12AM
Advertisement

पीड़िता की बहन पहुंची थाना, कहा- मुझे नहीं बताया था कि पति ने किया है गलत

 जमशेदपुर : टेल्को मनीफीट की नाबालिग से दुष्कर्म व देह व्यापार मामले में रविवार को टेल्को पुलिस ने नामजद आरोपी सुखदेव गगराई, प्रतिमा देवी और रवि सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दी. गिरफ्तार सुखराम गगराई को तीन बच्चे हैं, जबकि प्रतिमा देवी को दो बच्चे हैं. इधरपुलिस की टीम ने रायपुर में छापेमारी की है, हालांकि कोई सफलता नही मिली. वहीं, दूसरी ओर पति के गिरफ्तार होने के बाद टेल्को थाना पहुंची पीड़िता की बहन ने बताया कि उसकी बहन ने कभी इसकी जानकारी नहीं दी कि पति ने उसके साथ गलत किया है. 

 
पहले पति की मौत के बाद उसने दूसरी शादी की है. मेरे तीन बच्चे हैं. बहन झूठ बोल रही है. मालूम हो कि टेल्को मनीफीट की नाबालिग के साथ दुष्कर्म हुआ था. पीड़िता के साथ उसके जीजा ने दुष्कर्म किया. इसके बाद पड़ोस में रहने वाली प्रतिमा देवी ने पीड़िता को नौकरी का झांसा देकर अपने जाल में फंसाया. प्रतिमा ने गोलमुरी सर्कस मैदान के पास रहने वाले रवि सिंह से पीड़िता को मिलाया. 
 
रवि ने भी पीड़िता को दुकान में काम लगाने का झांसा देकर दुष्कर्म किया और फिर पीड़िता से देह व्यापार कराया. रवि और प्रतिमा ने पीड़िता का शहर के अलावा रायपुर और झारसुगुड़ा में देह व्यापार कराया. इस दौरान रायपुर में शीतल देवी ने दो दिनों तक पीड़िता को नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म कराया. दो दिनों बाद शीतल देवी ने अपने बेटे करन कुमार के पास पीड़िता को झारसुगुड़ा भेज दिया
 
. जहां चार-पांच पुलिसकर्मियों समेत कई लोगों ने पीड़िता के साथ लगातार आठ दिनों तक दुष्कर्म किया. गत 7 मई को बागबेड़ा पुलिस ने पीड़िता को एक होटल से बरामद किया था. बागबेड़ा पुलिस ने पीड़िता को जिला बाल कल्याण कमेटी को सौंप दिया था. टेल्को पुलिस नेे पीड़िता का कोर्ट में 164 का बयान कराया है. इसके अलावा शनिवार को खासमहल स्थित सदर अस्पताल में मेडिकल जांच कराया.
 
रायपुर में 12 और राउरकेला में मिला तीन हजार रुपये: रवि
टेल्को मनीफीट की नाबालिग से दुष्कर्म व देह व्यापार मामले में गिरफ्तार गोलमुरी सर्कस मैदान के पास रहने वाले रवि सिंह ने पूछताछ में पुलिस को बताया है कि वह पिछले छह-सात माह से इस धंधे से जुड़ा है.
 
 पीड़िता को उसने करण के साथ रायपुर पहुंचाया था. वहां उन्हें 12 हजार रुपये मिले थे. दो दिन रहने के बाद उसे राउरकेला ले गये. वहां एक रात ठहरे थे. उसके एवज में तीन हजार रुपये मिले थे. इसके बाद वह वापस लौट गया. करण ने उसे झारसुगुड़ा भेजा था. वहां क्या हुआ इसकी जानकारी नही है. प्रतिमा ने उसे नाबालिग से मिलवाया था.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement