Advertisement

jamshedpur

  • Jan 12 2019 8:12AM

जमशेदपुर : टाटा वर्कर्स यूनियन के दो खाते फ्रीज, 28 कर्मियों का वेतन रुका

  • महासचिव सतीश कुमार के पत्र के बाद बैंक ने रोका भुगतान 
  • आइसीआइआइ बैंक और यूको बैंक में खोले गये करंट एकाउंट हुए हैं फ्रीज 
जमशेदपुर  : टाटा वर्कर्स यूनियन के 100 साल के इतिहास में पहली बार यूनियन के दो बैंक खाते फ्रीज कर दिये गये हैं. अध्यक्ष और महासचिव के बीच उत्पन्न विवाद के कारण बिष्टुपुर स्थित आइसीआइआइ बैंक और यूको बैंक की शाखा में खोले गये यूनियन के करंट अकाउंट फ्रीज किये गये हैं. इन्हीं दोनों बैंक खाते के माध्यम से यूनियन के कर्मचारियों को हर माह वेतन दिया जाता है. 
 
शुक्रवार को भी यूको बैंक में वेतन भुगतान के लिए चेक भेजा गया. लेकिन महासचिव सतीश कुमार सिंह की ओर से बैंक में आपत्ति जताये जाने से चेक से भुगतान नहीं हो पाया. पता चला कि आपत्ति के बाद खाता ही फ्रीज कर दिया गया है. इस कारण शुक्रवार को भी 28 कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल सका.
 
विवाद बना कारण
टाटा वर्कर्स यूनियन में अध्यक्ष आर रवि प्रसाद  व महासचिव सतीश कुमार सिंह के बीच चल रहे विवाद के कारण कर्मचारियों को  वेतन देने के लिए हर माह की तरह इस महीने भी अध्यक्ष आर रवि प्रसाद और कोषाध्यक्ष प्रभात लाल के हस्ताक्षर से यूको बैंक में  चेक भेजा गया था. लेकिन इससे पहले ही महासचिव सतीश कुमार सिंह ने खाते से किसी भी तरह का भुगतान नहीं करने संबंधी पत्र बैंक को दे दिया था.  इस पत्र के बाद बैंक ने खाते को फ्रीज कर दिया है. 
 
सात बैंकों में हैं  यूनियन के एकाउंट
टाटा  वर्कर्स यूनियन के कुल सात बैंकों में एकाउंट हैं. बिष्टुपुर स्थित आइसीआइआइ बैंक और यूको बैंक में करंट एकाउंट है. जबकि पांच बैंकों में एफडी  है. सात खातों में कुल 33 करोड़ की संपत्ति है. यूनियन के नियमों के तहत अध्यक्ष, महासचिव व कोषाध्यक्ष में से दो  अधिकारियों के हस्ताक्षर से पैसों का लेन-देन होता है. 
 
करंट अकाउंट : यूको बैंक, आइसीआइआइ बैंक  
एफडी : पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक, स्टेट बैंक ऑफ पर्सनल ब्रांच, यूनियन बैंक 
 
 
कर्मचारियों का वेतन रोकने की मेरी मंशा नहीं है. मामले को सुलझा लिया जायेगा. कर्मचारियों को उनका वेतन रिलीज कर दिया जायेगा.
 
सतीश कुमार सिंह, महासचिव 
मिल जुल  कर मामला सुलझा लेंगे. जो भी गतिरोध है, उसे आपस में मिल कर समाप्त किया  जायेगा. कर्मचारियों को उनका वेतन मिलेगा.
 
आर रवि प्रसाद, अध्यक्ष
हमें कुछ भी नहीं कहना है. अभी दूसरे काम में व्यस्त हैं. बाद में इस मामले में बात की जायेगी.
प्रभात लाल, कोषाध्यक्ष 
 

Advertisement

Comments

Advertisement