Delhi

  • Jan 26 2020 7:41AM
Advertisement

71वां गणतंत्र दिवस : पूरी दुनिया ने देखी भारत की ताकत, परेड में पहली बार दिखा चिनूक हेलिकॉप्टर्स

71वां गणतंत्र दिवस : पूरी दुनिया ने देखी भारत की ताकत, परेड में पहली बार दिखा चिनूक हेलिकॉप्टर्स

नयी दिल्ली : भारत के 71 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ पर आयोजित समारोह में देश की बढ़ती हुई सैन्य शक्ति, बहुमूल्य सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का भव्य नजारा दिखा. भारत के गणतंत्र के रूप में स्थापित होने की वर्षगांठ पर आयोजित नब्बे मिनट के समारोह में ब्राजील के राष्ट्रपति जायेर बोलसोनारो मुख्य अतिथि थे. इससे पहले गणतंत्र दिवस के अवसर पर पीएम मोदी ने देश को शुभकामनाएं दी. उन्होंने ट्वीट किया- सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई.. जय हिंद!
 

गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार दिखाई गयी धनुष तोप
राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह में रविवार को पहली बार ‘धनुष' तोप का प्रदर्शन किया गया. यह प्रदर्शन कैप्टन मृगांक भारद्वाज की कमान में किया गया. 155एमएम/45 कैलीबर धनुष तोप को होवित्जर तोप की तरह डिजाइन किया गया है. यह आयुध निर्माणी बोर्ड द्वारा स्वदेश निर्मित है. अधिकतम 36.5 किलोमीटर दूरी की मारक क्षमता वाली इस तोप में स्वचालित बंदूक अलाइनमेंट और पोजिशनिंग की क्षमता है. इस तोप को सेना की भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बनाया गया है.
 

ये रहा आकर्षण का केंद्र
इस साल परेड में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का महिला मोटरसाइकिल चालक दस्ता चुनौतीपूर्ण करतब दिखाया. दस्ते की कमान निरीक्षक सीमा नाग के हाथ में थी जो चलती हुई मोटरसाइकिल के ऊपर खड़ी होकर सलामी दे रहीं थीं. परेड के अंतिम चरण में बहुप्रतीक्षित फ्लाई पास्ट हुआ जिसमें तीन उन्नत हल्के हेलीकाप्टर “त्रिशूल” फार्मेशन में उड़ते दिखाई दिये. ऐसा पहली बार होगा जब गणतंत्र दिवस परेड में सशस्त्र सेनाओं के तीनों अंग एक साथ “ट्राई सर्विस” फार्मेशन में दिखा. इसके बाद चिनूक हेलीकाप्टर “विक” फार्मेशन में उड़ते दिखाई दिये. परेड में अपाचे हेलीकाप्टर, डोर्नियर विमान और सी-130 जे सुपर हरक्यूलीज विमान भी दिखाई दिये. पांच जगुआर विमान और पांच मिग-29 विमान “एरोहेड” फार्मेशन में वायुसेना के पराक्रम का प्रदर्शन किया गया. परेड का समापन सुखोई-30 एमकेआई जेट विमानों के हवाई करतब से हुआ.
 

झांकी में राफेल और तेजस युद्धक विमान
वायुसेना की झांकी में राफेल और तेजस युद्धक विमान, हल्के लड़ाकू हेलीकाप्टर, आकाश मिसाइल प्रणाली और अस्त्र मिसाइल के मॉडल प्रदर्शित किये गये. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के दस्ते में उपग्रह भेदी हथियार ‘मिशन शक्ति' का प्रदर्शन किया गया. भारत का पहला उपग्रह भेदी अभियान मिशन शक्ति, विरोधी उपग्रहों को मार गिराने की भारत की क्षमता का प्रदर्शन करता है. विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की भौगोलिक और सांस्कृतिक विविधता को 16 झांकियों के माध्यम से प्रदर्शित की गयी. विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की छह झांकियों में “स्टार्ट अप इंडिया” और “जल जीवन मिशन” जैसी सरकारी योजनाओं का प्रदर्शन किया गया.
 

आकाश मिसाइल प्रणाली मैकेनाइज्ड दस्ते का मुख्य आकर्षण
भारतीय सेना के स्वदेश में निर्मित मुख्य युद्धक टैंक टी-90 भीष्म, इन्फैंट्री युद्धक वाहन “बॉलवे मशीन पिकाटे”, के-9 वज्र और धनुष तोपें, चलित उपग्रह टर्मिनल और आकाश मिसाइल प्रणाली मैकेनाइज्ड दस्ते का मुख्य आकर्षण था. पैदल मार्च करने वाले दस्तों में भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट, ग्रेनेडियर्स रेजिमेंट, सिख लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट, कुमाऊँ रेजिमेंट और सिग्नल कोर के दस्ते सम्मिलित थे. भारतीय नौसेना के दस्ते में 144 जवान थे जिनकी कमान लेफ्टिनेंट जितिन मलकट के हाथ में थी. इसके बाद नौसेना की झांकी प्रदर्शित की गयी जिसका शीर्षक था “भारतीय नौसेना- शांत, शक्तिशाली और तीव्र.” भारतीय वायुसेना के दस्ते में वायुसेना के 144 जवान थे जिसकी कमान फ्लाइट लेफ्टिनेंट श्रीकांत शर्मा के हाथ में थी.

21 तोपों की सलामी के साथ राष्ट्र गान
परंपरा के अनुसार राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया जिसके बाद 21 तोपों की सलामी के साथ राष्ट्र गान की धुन बजाई गयी. परेड की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा परेड की सलामी लेने से हुई. परेड की कमान परेड कमांडर दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री के हाथों में थी. दिल्ली क्षेत्र के चीफ ऑफ स्टाफ मेजर जनरल आलोक कक्कड़ परेड के सेकंड-इन-कमांड थे. परेड में पहला दस्ता सेना की 61वीं घुड़सवार टुकड़ी का था. छह टुकड़ियों को मिलाकर एक अगस्त 1953 को स्थापित यह टुकड़ी विश्व की एकमात्र सक्रिय सैन्य घुड़सवार टुकड़ी है. भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व 61वीं घुड़सवार टुकड़ी का दस्ता, आठ मैकेनाइज्ड दस्ते, छह पैदल दस्ते तथा रूद्र और फ्लाई पास्ट करते ध्रुव उन्नत हल्के हेलीकाप्टर ने की.

यह पहली बार हुआ जब प्रधानमंत्री...
गणतंत्र दिवस परेड समारोह की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडिया गेट के समीप स्थित राष्ट्रीय समर स्मारक पर जाकर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की. यह पहली बार हुआ जब प्रधानमंत्री अमर जवान ज्योति की बजाय राष्ट्रीय समर स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की. इसके बाद प्रधानमंत्री तथा अन्य गणमान्य लोग राजपथ पर परेड का अवलोकन करने के लिए सलामी मंच की ओर प्रस्थान हुए.
 

22 झांकियों में से 16 झांकियां राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की
उपग्रह भेदी हथियार ‘शक्ति', थलसेना का युद्धक टैंक भीष्म, इन्फैंट्री युद्धक वाहन और हाल ही में भारतीय वायु सेना में शामिल किये गये चिनूक और अपाचे युद्धक हेलीकाप्टर भव्य सैन्य परेड का हिस्सा थे. राष्ट्रीय राजधानी को वृहद् स्तर पर आकाशीय सुरक्षा घेरे में रखा गया. इसके साथ ही हजारों पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों के जवान सतर्क होकर निगरानी कर रहे थे. राजपथ पर राष्ट्र की बहुमूल्य सांस्कृतिक धरोहर और आर्थिक प्रगति को दर्शाने वाली 22 झांकियों में से 16 झांकियां राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की थी और छह विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की थी. स्कूली बच्चे नृत्य और संगीत के माध्यम से युगों पुरानी योग परंपरा और आध्यात्मिक मूल्यों का संदेश देते नजर आये.


सुरक्षा के पुख्‍ता इंतजाम

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 71वें गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गयी, जिसके तहत हजारों सशस्त्र कर्मी कड़ी निगरानी कर रहे थे. दिल्ली पुलिस द्वारा गणतंत्र दिवस समारोह के लिए किये गये इंतजामों में चेहरा पहचान प्रणाली और ड्रोन का इस्तेमाल शामिल था. साथ ही 10 हजार से अधिक सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गयी थी. ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो की सुरक्षा के लिए विशेष इंतजाम किये गये थे जो गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि थे. राजपथ से लालकिले तक के आठ किलोमीटर लंबे परेड मार्ग पर नजर रखने के लिए ऊंची इमारतों पर शार्पशूटर और स्नाइपर तैनात किये गये थे. सुरक्षा व्यवस्था के तहत सैकड़ों सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गये. इसमें से कम से कम 150 कैमरे लालकिला, चांदनी चौक और यमुना खादर में लगाये गये.

नब्बे मिनट का समारोह, ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो मुख्य अतिथि

भारत के 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ पर समारोह में देश की बढ़ती हुई सैन्य शक्ति, बहुमूल्य सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का भव्य प्रदर्शन किया गया. भारत के गणतंत्र के रूप में स्थापित होने की वर्षगांठ पर नब्बे मिनट के इस समारोह में इस बार ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो मुख्य अतिथि हैं.

प्रधानमंत्री मोदी, केंद्रीय मंत्रियों ने देशवासियों को दीं गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को 71वें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दीं. मोदी ने ट्वीट किया- सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई...जय हिंद! ' प्रधानमंत्री के अलावा केंद्रीय मंत्रियों ने भी सुबह-सुबह देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी। गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया कि सभी देशवासियों को 71वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.' मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक' ने ट्वीट किया- गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर मैं सभी विद्यार्थियों, अभिभावकों और शिक्षा जगत से जुड़े समस्त लोगों को हार्दिक बधाई देता हूं. सूचना एंव प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया- देशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. जय हिंद. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट किया- सभी देशवासियों को 71वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. #गणतंत्रदिवस.

 

-गणतंत्र दिवस परेड समाप्त होने के बाद लोगों का अभिवादन स्वीकारते पीएम मोदी.


-गणतंत्र दिवस परेड समाप्त होने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो राजपथ से रवाना हुए. 90 मिनट के परेड में 22 झाकियां, 16 मार्चिग दस्ते और 21 बैंड नजर आये.


-भारतीय वायुसेना के सुखोई विमान Su-30 MKIs ने आसमान में त्रिशूल का आकार शक्ति प्रदर्शन किया.



भारतीय वायुसेना के सुखोई विमान Su-30 MKI ने दिल्ली के आसमान में 900 किमी प्रति घंटे के रफ्तार से उड़ान भरी.


-‘एरोहेड’ के फॉर्मेशन में 5 जगुआर डीप पेनेट्रेशन स्ट्राइक विमानों ने 780 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरी. इस समूह का नेतृत्व ग्रुप कैप्टन पारिजात सौरभ ने किया.


-विंग कमांडर एसके चौहान के नेतृत्व में तीन डोर्नियर विमानों का 'विक' फॉर्मेशन. अन्य दो विमानों के कैप्टन स्क्वॉड्रन लीडर विकास कुमार और स्क्वॉड्रन लीडर अभिषेक वशिष्ठ हैं.



-गणतंत्र दिवस परेड के दौरान ग्रुप कैप्टन मन्नारथ शीलू वीएम, कमांडिंग ऑफिसर 125 हेलिकॉप्टर स्क्वाड्रन के नेतृत्व में 5 अपाचे हेलिकॉप्टर्स उड़ान भरते हुए.


-गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार चिनूक हेलिकॉप्टर्स.


-करतब दिखाते भारतीय सेना के जाबांज जवान


-गणतंत्र दिवस परेड में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2020 के विजेता. 18 लड़कियों और 31 लड़कों समेत 49 बच्चों को यह पुरस्कार मिला है. गौर हो कि यह पुरस्कार बहादुरी, नवीनता, विद्वता, खेल, कला, संस्कृति, समाज सेवा, संगीत के क्षेत्र में दिए जाते हैं.

-ओडिशा की झांकी में भगवान लिंगराज मंदिर की सुंदर प्रस्तुति की गई है. 


-गणतंत्र दिवस समारोह में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद,भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा और अन्य मंत्री राजपथ पर उपस्थित.


-जम्मू-कश्मीर की झांकी: जम्मू और कश्मीर सरकार का 'बैक टू विलेज' कार्यक्रम इस साल केंद्र शासित प्रदेश की झांकी का विषय है.


-गणतंत्र दिवस परेड में कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश की झांकी


-गुजरात की संस्कृति की झलक दिखाती झांकी.


-मेघालय की खूबसूरत झांकी.


-छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विरासत को दर्शाती झांकी.


-दुनिया के सामने भारत की सैन्य शक्ति का नमूना रखता भीष्म टैंक.



-दिल्ली: गणतंत्र दिवस परेड में नौसेना ब्रास बैंड का प्रदर्शन



-दिल्ली: राजपथ पर  के-9 वज्र-टी (K-9 VAJRA-T )की कमांड 269 मीडियम रेजिमेंट के कैप्टन अभिनव साहू कर रहे हैं.



-राजपथ पर सेना की परेड शुरू हो चुकी है. देश और दुनिया भारत की अदम्य सैन्य शक्ति का नमूना देख रही है.

-राजपथ पर भारतीय सेना के युद्धक टैंक T-90 भीष्म की  कमांड 86 आर्मर्ड रेजिमेंट के कैप्टन सनी चाहर कर रहे हैं.




-गणतंत्र दिवस समारोह के लिए पीएम मोदी राजपथ पहुंचे. जहां रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उनका स्वागत किया. इसके बाद पीएम मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की पत्नी सविता कोविंद, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का राजपथ में स्वागत किया. राष्ट्रपति रामानाथ कोविंद ने राजपथ पर तिरंगा फहराया और राष्ट्रध्वज को सलामी दी. इस दौरान पीएम मोदी और ब्राजील के राष्ट्रपति जायेर बोलसोनारो भी मौजूद रहे.



-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गणतंत्र दिवस समारोह के लिए राजपथ की ओर रवाना हो चुके हैं. उनके साथ ब्राजील के राष्ट्रपति जायेर बोलसोनारो भी हैं.



-शहीदों को श्रद्धांजलि देने के बाद पीएम मोदी राजपथ के लिए रवाना हुए. प्रधानमंत्री तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति राजपथ पर परेड का अवलोकन करने के लिए सलामी मंच की ओर प्रस्थान कर चुके हैं. 

-गणतंत्र दिवस परेड समारोह की शुरुआत हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडिया गेट के समीप स्थित राष्ट्रीय समर स्मारक पहुंचे और कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की. यह पहली बार है जब प्रधानमंत्री ने अमर जवान ज्योति की बजाय राष्ट्रीय समर स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की.



--समारोह स्थल पर पहुंचे पीएम मोदी का स्वागत रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया.


 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement