Advertisement

Delhi

  • May 22 2019 4:50PM
Advertisement

कांग्रेस का आरोप ईवीएम भाजपा के लिए बन गयी है 'इलेक्ट्रॉनिक विक्ट्री मशीन'

कांग्रेस का आरोप ईवीएम भाजपा के लिए बन गयी है  'इलेक्ट्रॉनिक विक्ट्री मशीन'

नयी दिल्ली : कांग्रेस ने मतगणना से पहले कुछ चुनिंदा मतदान केंद्रों पर वीवीपीएटी (वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) पर्चियों की गिनती की विपक्ष की मांग चुनाव आयोग द्वारा खारिज किये जाने के फैसले पर सवाल खड़े करते हुए बुधवार को आरोप लगाया है कि अब ईवीएम भाजपा के लिए 'इलेक्ट्रॉनिक विक्ट्री मशीन' बन गयी है.

पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने संवाददाताओ से कहा, 'मीडिया के जरिये पता चला है कि चुनाव आयोग ने हमारी दो मांगे निरस्त कर दी. पहली मांग की थी कि पर्चियों का मिलान मतगणना से पहले होनी चाहिए. इस मांग को खारिज करने का क्या औचित्य हो सकता है? इसका क्या आधार है?" उन्होंने कहा, 'हमने यह भी कहा था कि पर्चियों के मिलान में कमी पायी जाती है तो पूरे विधानसभा क्षेत्र में 100 फीसदी पर्चियों का मिलान किया जाये. इस मांग को भी नहीं माना गया.

इसमें भी आयोग को क्या दिक्कत हो सकती है?' सिंघवी ने आरोप लगाया, 'अब चुनाव आचार संहिता बन गयी है चुनाव प्रचार संहिता. ऐसा लगता है कि ईवीएम भाजपा इलेक्ट्रॉनिक विक्ट्री मशीन बना गयी है.' उन्होंने दावा किया, ' यह संवैधानिक संस्था के लिए काला दिन है. अगर सिर्फ एक ही पक्ष लेना है तो फिर संस्था की स्वतंत्रता का क्या मतलब रह जाता है?" खबरों के मुताबिक चुनाव आयोग ने अपनी बैठक के बाद 22 विपक्षी पार्टियों की उस मांग को ठुकरा दिया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि मतगणना से पहले वीवीपीएटी की पर्चियों को गिना जाए.

दरअसल, मंगलवार को देश की 22 प्रमुख विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने चुनाव आयोग के सामने ये मांग रखी थी कि मतगणना से पहले वीवीपीएटी पर्चियों की गिनती हो तथा समानता ना होने पर संबंधित विधानसभा क्षेत्र के वीवीपीएटी की पर्चियों को गिना जाए. 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement