Advertisement

asansol

  • Aug 14 2019 1:46AM
Advertisement

अपराध. चेलीडंगाल से लापता हुई स्कूली छात्रा अमरप्रीत का शव मिला अपकारगार्डेन इलाके में

परिजनों ने जिला अस्पताल परिसर में किया हंगामा

हत्या के लिए जिम्मेवार ठहराया पुलिस अधिकारियों की लापरवाही को
 
गंभीरता से होती रहती जांच तो अपराधियों को नहीं मिलता इसका मौका
 
दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर रोका पोस्टमार्टम
 
मेयर परिषद सदस्य अभिजीत घटक के हस्तक्षेप के बाद स्थिति हुई सामान्य

सिख संगत, परिजनों के साथ एडीसीपी (सेंट्रल) ने की बैठक, तीन दिन का समय

चेलीडंगाल से तीन संदेहियों को हिरासत में लेकर अधिकारी कर रहे पूछताछ

हत्या के विभिन्न पहलुओं की जांच में जुटे अधिकारी, शीघ्र खुलासे का दावा 
 
आसनसोल : आसनसोल दक्षिण थाना अंतर्गत धेमोमेन न्यू कॉलानी निवासी सह इसीएल कर्मी बलकार सिंह की तीन दिनों से लापता बेटी अमरप्रीत कौर (16)  का शव सोमवार की देर रात दो बजे पुलिस ने अपकार गार्डेन इलाके से बरामद किया तथा पोस्टमार्टम के लिए आसनसोल जिला अस्पताल भेज दिया. इसकी सूचना मिलने के बाद आक्रोशित परिजनों ने मंगलवार को अस्पताल परिसर में भारी हंगामा किया. उनका आरोप था कि पहले तो पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से ही नहीं लिया.
 
पिता के मोबाइल फोन पर फिरोती में 15 लाख रुपये मांगे जाने पर पुलिस रेस हुई और रात में ही शव बरामद कर लिया. परिजनों को कोई सूचना नहीं दी गई. उन्होंने दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने तथा हत्यारों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की. अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (सेंट्रल) शायक दास ने तीन दिनों के अंदर हत्यारों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया. इसके बाद परिजन पोस्टमार्टम के बाद शव अपने साथ ले गये. पुलिस इस मामले में तीन संदेही युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.
 
क्या है पूरा मामला
 
मृतका के पिता बलकार सिंह ने बताया कि अमरप्रीत उनकी इकलौती बेटी थी. उसने संत एंथनी स्कूल से दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण की थी. 11वीं कक्षा में नामांकन होना था. इसके लिए वह चेलीडंगाल में ट्यूशन पढ़ने आती थी. बीते 10 अगस्त को वह तीन बजे घर से ट्यूशन पढ़ने के लिए आयी थी.
 
ट्यूशन से लौटने के क्रम में बलतोडिया के पास वह बस से उतर गयी. वहां से वह न्यू टाउन स्थित तीन नंबर रोड गयी थी. इसके बाद उसका मोबाइल पोन ‘आउट ऑफ रीच’ हो गया. देर शाम तक जब वह घर नहीं पहुंची तो उन्होंने उसकी तलाश शुरू की. कोई सुराग नहीं मिलने पर उन्होंने आसनसोल साउथ थाना पीपी में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई.
 
पुलिस के स्तर से लगातार हुई लापरवाही
 
उन्होंने कहा कि बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करने के बाद भी पुलिस अधिकारियों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया. वे अपने स्तर से लगातार खोज-खबर लगाते रहे तथा पुलिस अधिकारियों के भी संपर्क में रहे. लेकिन उन्हें हमेशा निराशा ही मिली. बीते 12 अगस्त को अमरप्रीत के मोबाइल फोन से उनके मोबाइल फोन पर मैसेज आया कि यदि उन्होंने फिरौती में 15 लाख रूपये का भुगतान नहीं किया तो उनकी बेटी की हत्या कर दी जायेगी. इसके बाद वे परेशान हो गये.
 
उन्होने तत्काल फोन संदेश लेकर पुलिस अधिकारियों को सूचित किया. लेकिन ड्यूटी अधिकारी टाल-बहाना बनाते रहे. उन्हें कहा गया कि जो अधिकारी उनकी शिकायत की जांच कर रहे हैं. वे छुट्टी पर हैं. उनके लौटने पर ही अगली कार्रवाई होगी. उन्होंने कहा कि कुछ समय बाद सूचना मिली कि पुलिस ने चेलीडंगाल के कुछ लड़कों को हिरासत में लेकर पूछताछ की. इसके बाद ही अपराधियों ने उनकी बेटी की हत्या कर दी. 
 
यदि पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लिया होता तो उनकी बेटी जीवित होती तथा उनके पास होती.
 
अस्पताल परिसर में दिखा भारी आक्रोश
 
मंगलवार की सुबह शव की शिनाख्त होने के बाद ही परिजन तथा बड़ी संख्या में रिश्तेदार तथा जानकार अस्पताल परिसर में जमा हो गये. उनका कहना था कि यदि पुलिस चाहती तो मृतका के मोबाइल फोन को ट्रेस कर अपराधियों तक पहुंच सकती थी. दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई हो तथा हत्यारों की शीघ्र गिरफ्तारी हो. दोपहर 12 बजे तक आसनसोल गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी, बर्नपुर गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी, ध्रुवडंगाल गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी की सिख संगत अस्पताल परिसर में जमा हो गई.
 
उन्होंने शव का पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया. मेयर परिषद सदस्य (क्रीड़ा व संस्कृति) अभिजीत घटक भी अस्पताल पहुंचे तथा परिजनों को समझाया. इसके बाद पोस्टमार्टम कराने पर सहमति बनी. पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर परिजन तथा सिख संगत अड़ गई. मामले की गंभीरता को देखते हुये अस्पताल परिसर में अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती कर दी गई.
एडीसीपी (सेंट्रल) के साथ हुई वार्ता
 
सूचना मिलने पर एडीसीपी (सेंट्रल) सायक दास, आसनसोल साउथ थाना प्रभारी सुदीप प्रमाणिक, आसनसोल पीपी प्रभारी अमित हलदर, आसनसोल नॉर्थ थाना प्रभारी शांतनु अधिकारी आदि अस्पताल पहुंचे. अपराह्न तीन बजे एडीसीपी (सेंट्रल) श्री दास ने परिजनो तथा सिंख संगत प्रतिनिधियों के साथ बैठक की. बैठक में कुलदीप सिंह सालूजा, हरपाल सिंह जोहल, तजेन्द्र सिंह बल, सुरेन्द्र सिंह अत्तु आदि शामिल थे. श्री दास ने तीन दिनों में मामले की जांच कर अपडेट कुलदीप सिंह सालूजा को देने का आश्वासन दिया.
 
उन्होने कहा कि पुलिस आयुक्त देवेन्द्र प्रसाद सिंह ने इस मामले को गंभीरता से जांच करने के निर्देश दिया है. पुलिस अपराधी के करीब पहुंच चुकी है. अपराधियो की शीघ्र गिरफ्तार किया जायेगा. परिजनो ने शव को आसनसोल जिला अस्पताल के शवगृह से निकालकर बर्नपुर अस्पताल के शवगृह में रखा गया. गुरूवार को उसका अंतिक संस्कार किया जायेगा.  
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement