1. home Hindi News
  2. national
  3. tiktok ban in india chinese apps chinese foreign ministry spokesperson says china is strongly concerned verifying the situation

भारत में 59 चाइनीज ऐप बैन, चीन बोला- बेहद चिंतित हैं, स्थिति की कर रहे पुष्टि

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता  झाओ लिजियान
चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान
Twitter

Tiktok ban in india, chinese apps ban in india, india china tension: लद्दाख में जारी तनाव के बीच भारत सरकार के एक फैसले से चीन को बड़ा झटका लगा है. केंद्र सरकार ने सोमवार रात सुरक्षा कारणों से टिकटोक सहित 59 मोबाइल ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया. इस मामले में चीन सरकार की ओर से मंगलवार को बयान आय़ा. चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि इस पूरे मसले पर चीन बहुत चिंतित है और पूरे मामले की जानकारी ली जा रही है.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, झाओ लिजियान ने कहा कि चीन की सरकार हमेशा चीन के व्यपारियों से कहती है कि राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय नियम और कानून का पालन करें. भारत सरकार इस बात के लिए जिम्मेदार है कि चीन सहित अंतराष्ट्रीय निवेशकों के कानूनी अधिकारों के रक्षा करे. बता दें कि सोमवार देर रात भारत सरकार ने 59 स्मार्टफोन ऐप्स पर पाबंदी लगाने का फैसला किया है.

भारत सरकार ने यह फैसला उस समय लिया है जब पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की जान जाने के बाद भारत में चीनी सामान, सॉफ्टवेयर्स और ऐप्स आदि के बहिष्कार की आवाजें उठ रही हैं. आईटी मंत्रालय ने ने आईटी एक्ट के सेक्शन 69 ए के तहत यह क़दम उठाया है. ये ऐप्स ऐंड्रॉयड और आईओएस,दोनों प्लैटफॉर्म्स पर प्रतिबंधित होंगे.

आईटी मंत्रालय की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि 'भारत के करोड़ों मोबाइल और इंटरनेट यूजर्स के हितों को ध्यान में रखते हुए लिया गया है ताकि इंडिया साइबरस्पेस की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके. इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के मुताबिक, इन ऐप्स को 'भारत की संप्रभुता एवं एकता, सुरक्षा और व्यवस्था के लिए नुक़सानदेह' होने के कारण प्रतिबंधित किया गया है. इस तरह से प्रतिबंध लगाए जाने के बाद अब ऐंड्रॉयड और आईओएस, दोनों प्लैटफॉर्म्स को अपने स्टोर्स ने इन ऐप्स को हटाना होगा.

आंकड़ों के मुताबिक़ भारत में टिकटॉक (म्यूजिकली के साथ) के तकरीबन 30 करोड़, लाइकी के तकरीबन 18 करोड़, हेलो के 13 करोड़, शेयर-इट, यूसी ब्राउजर के 12 करोड़ के आसपास यूजर्स हैं. ये आंकड़े 2019 के हैं. ट्विवटर पर इन आंकड़ो को भारतीय विदेश मंत्रालय के पूर्व प्रवक्ता और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के पूर्व राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने ट्विटर पर साझा किया है.

Posted By: Utpal kant

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें