1. home Hindi News
  2. national
  3. hydrabad a fake major arrested by hydrabad police this ninth pass man cheated 6 crores targeted 17 women pwn

फर्जी 'मेजर' बनकर इस नौवीं पास शख्स ने की 6 करोड़ की ठगी, 17 महिलाओं को बनाया निशाना

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
फर्जी 'मेजर' बनकर इस नौवीं पास शख्स ने की 6 करोड़ की ठगी, 17 महिलाओं को बनाया निशाना
फर्जी 'मेजर' बनकर इस नौवीं पास शख्स ने की 6 करोड़ की ठगी, 17 महिलाओं को बनाया निशाना
Twitter

हैदराबाद पुलिस ने खुद को सेना का फर्जी अफसर बताकर लोगों को ठगने के आरोप में एक शख्स को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार शख्स का नाम आरोपी मधुवथ श्रीनु नायक उर्फ श्रीनिवास चौहान है जो आंध्र प्रदेश के प्रकाशम जिले के केल्लरमपल्लीध गांव का रहने वाला है. उसके पास से पुलिसे ने सेना का फर्जी पहचानपत्र, वर्दी और नकली बंदूक बरामद किया है.

शादी के नाम पर करता था ठगी

इस बारे में हैदराबाद पुलिस ने बताया की खुद को सेना का मेजर बतानेवाल फर्जी व्यक्ति शादी के नाम पैसे ठगने का काम करता था. वह सेना का अफसर बताकर शादी की बात चलाता था और उनसे पैसों की ठगी करता था. अब तक वह करीब 17 महिलाओं और उनके परिवारों को ठगकर 6.61 करोड़ रुपये का चूना चुका है. गिरफ्तार शख्स की उम्र 42 वर्ष बतायी गयी है.

जीता था शाही जिंदगी

पुलिस ने फर्जी सेना के अफसर के पास तीन नकली पिस्टल, सेना की तीन जोड़ी वर्दी, एक फर्जी आर्मी आईडी के साथ कुछ फर्ज दस्तीवेज जब्त किया है.साथ ही उसके पास के 85 हजरा रुपया और तीन कारें भी पुलिस ने जब्त की है. ठगी के पैसों से वह शानों शौकत की जिंदगी जीता था. उसने अपना मकान भी बनाया था.

नौवीं कक्षा तक पढ़ा है आरोपी

हैदराबाद पुलिस ने बताया सेना का फर्जी अधिकारी बनकर ठगी करने वाला शख्स मात्र नौवीं क्लास तक पढ़ा हुआ है. लेकिन उसके पास से पोस्‍टग्रैजुएशन की फर्जी डिग्री भी मिली है. उसकी पत्‍नी का नाम अमृता देवी है. एक बेटा भी है जो इंटरमीडिएट फाइनल ईयर का छात्र है. इस समय उसका परिवार इस समय आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में रहता है लेकिन वह हैदराबाद आकर सैनिकपुरी, जवाहर नगर में रह रहा था और उसनेघर में बताया था कि उसे सेना में नौकरी लग गयी है और वह मेजर बन गया है.

खुद के बताता था नैशनल डिफेंस अकैडमी पुणे का ग्रेजुएट

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति ने श्रीनिवास चौहान नाम से फर्जी आधार कार्ड बनाया जिसमें उसने अपनी जन्‍मतिथि 12-7-1979 की जगह 27-7-1986 बताया था. उससे पूछताछ में पता चला की वह मैरिज ब्यूरो और अपने परिचितों के जरिये ऐसे परिवारों को खोजता था जिन्हें अपनी लड़की की शादी करनी होती थी. इसके बाद वह अपनी नकली आईडी कार्ड, खिलौना पिस्टल और फोटो के जरिये परिवार को अपने जाल में फंसाता था. वह लोगों को बताता था कि वह पुणे के नैशनल डिफेंस अकैडमी से ग्रैजुएट है. और हैदराबाद रेंज में मेजर है.

Posted By: Pawan Singh

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें