1. home Hindi News
  2. national
  3. give priority to those taking the second dose of vaccine know what more instructions the central government gave to the state governments aml

वैक्सीन की दूसरी डोज लेने वालों को दें प्राथमिकता, जानें केंद्र सरकार ने राज्यों को और क्या दिये निर्देश

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
जानकारी देती केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव आरजी आहूजा.
जानकारी देती केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव आरजी आहूजा.
ANI

नयी दिल्ली : कोरोना (Corona) के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों से कहा है कि टीके (Corona Vaccine) की दूसरी डोज लेने वाले लोगों को प्राथमिकता दें. इससे वैक्सीनेशन कार्यक्रम का उद्देश्य पूरा होगा. राज्यों को इस बात का ध्यान रखना है कि केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से जितने भी वैक्सीन मिल रहे हैं उसे 70:30 के अनुपात में दूसरे और पहले डोज के लिए इस्तेमाल करें. मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव आरती आहूजा ने यह जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि अब तक 18 से 44 आयु वर्ग के 11.81 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है. सभी श्रेणियों में अब तक कुल 16.50 लोगों को वैक्सीन लगायी गयी है. उन्होंने कहा कि केंद्र का राज्यों से अनुरोध है कि टीके की बर्बादी पर विशेष ध्यान दें और समय पर वैक्सीनेशन कार्यक्रम को पूरा करने का प्रयास करें. तभी प्रयास सफल होगा.

देश में कोरोना के मामलों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि 12 राज्यों में कोविड-19 के एक लाख से अधिक उपचाराधीन मरीज हैं, सात राज्यों में 50 हजार से एक लाख मरीज अब भी संक्रमण की चपेट में हैं. जिन राज्यों में मामले अभी भी ऊपर की ओर हैं वे राज्य कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, हरियाणा, ओडिशा और उत्तराखंड हैं.

दैनिक नये मामलों में बढ़ती प्रवृत्ति वाले अन्य राज्य पंजाब, जम्मू और कश्मीर, असम, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी, मेघालय, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड हैं. महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और झारखंड ऐसे राज्य या केंद्र शासित प्रदेश हैं जहां पहले मामले बढ़ रहे थे, लेकिन अब धीरे-धीरे मामले कम आ रहे हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बताया गया कि देश के 24 राज्यों में कोरोना वायरस से संक्रमण की दर 15 प्रतिशत से अधिक है, जबकि नौ राज्यों में यह दर पांच से 15 प्रतिशत के बीच है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें