1. home Hindi News
  2. national
  3. captain amarinder singh government completely fails to deal with corona shortage of vaccine in the state aap charges aml

कैप्टन सरकार कोरोना से निपटने में पूरी तरह विफल, राज्य में वैक्सीन की किल्लत, 'आप' का आरोप

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा
पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा
File Photo

चंडीगढ़ : राज्य में कोरोना के बढ़ते प्रकोप और कोरोना से निपटने में पंजाब सरकार के खराब प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया देते हुए आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने इसे सरकार की अक्षमता करार दिया. पार्टी मुख्यालय से मीडिया को दिये एक बयान में हरपाल चीमा ने कहा कि वर्तमान कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार ने पंजाब में स्वास्थ्य सुविधाओं और बुनियादी ढांचे को ठीक करने के लिए पिछले एक साल में कुछ नहीं किया है.

उन्होंने कहा कि सरकार की विफलता का ही परिणाम है कि कोरोना मामलों की संख्या फिर से बढ़ रही है. चीमा ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए पंजाब सरकार पिछले एक साल से ढीला-ढाला कदम उठा रही है जिसके कारण आज भी पंजाब के लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं. चीमा ने कहा कि राज्य में सबसे अधिक मामले होने के बावजूद, कैप्टन अमरिंदर सिंह इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं. वे अपने फॉर्म हाउस में आराम कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि राज्य के अस्पतालों में वैक्सीन की भारी कमी है, जिसके कारण डॉक्टरों को इलाज करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना पीड़ितों को एक जगह से दूसरी जगह भटकने के लिए मजबूर किया जा रहा है लेकिन पंजाब सरकार अभी भी इसकी उपेक्षा कर रही है.

उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया कि राज्य में मामलों की संख्या में वृद्धि के बावजूद, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अभी तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ इस मामले को नहीं उठाया और न ही उन्होंने अपने अधिकारियों को कोई विशेष निर्देश जारी किया है. उन्होंने मांग की कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को अपने शाही फार्म हाउस से बाहर आना चाहिए और तुरंत प्रधानमंत्री से बात करनी चाहिए और इस संबंध में आवश्यक कदम उठाने चाहिए.

चीमा ने कहा कि कोरोना से निपटने की बजाय, पंजाब सरकार केवल आधी-अधूरी तैयारी के साथ जश्न मनाने में व्यस्त है. पंजाब सरकार द्वारा शुरू किए गए कार्यक्रम 'मिशन फतेह' के तहत, सरकार डींग हांक रही है, लेकिन जमीन पर कुछ भी करने में विफल रही. उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने विज्ञापनों में खुद को महिमामंडित करने के बजाय कर्मचारियों की कमी को दूर किया होता तो कोरोना से युद्ध जीता जा सकता था. चीमा ने मांग की कि स्वास्थ्य विभाग के कोरोना वारियर्स, जिनकी हाल ही में सरकार द्वारा सेवाएं रद्द कर दी गई थी, को फिर से बहाल किया जाए.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें