1. home Home
  2. life and style
  3. loose weight quickly ayurvedic methods to lose weight follow these tvi

Loose Weight Quickly : वजन कम करने के लिए इन आयुर्वेदिक तरीकों को अपनाएं

बिना किसी परेशानी के जल्दी वजन कम करना चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर हैं. हम आज आपको यहां बता रहे हैं आयुर्वेदिक तरीके से कैसे आप अपना वजन आसानी से कम कर सकते हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
weight loss
weight loss
Instagram

बढ़ते वजन से परेशान हैं तो अपना वजन कम करने के लिए आयुर्वेद के इन आसान तरीकों को अपनाएं. ये कोई दवा या मेडिसीन नहीं ये बस आपके रूटीन में कुछ चीजों को शामिल करने और कुछ चीजों को बाय-बाय बोलने से संबंधित है. आयुर्वेद के इन तरीकों को अपना कर आप आसानी से अपना वजन तो कम कर ही सकते हैं साथ ही इसके अन्य कई फायदें भी हैं जो हर किसी के लिए जरूरी हैं.

गर्म पानी : सुबह उठते ही नींबू के साथ एक बड़ा गिलास गर्म पानी पिएं. यह पूरे पाचन तंत्र को बूस्ट करता है और आपको अपने दिन की एक नई शुरुआत देता है.

व्यायाम : स्वस्थ वजन घटाने के लिए हर रोज सुबह पर्याप्त व्यायाम करना महत्वपूर्ण है. हर दिन व्यायाम के लिए कम से कम 45-60 मिनट निकालें.

पीस रिलैक्सेशन : हर दिन सुबह 5 से 10 मिनट शांति वाला रिलैक्सेशन खोजें. योग, ध्यान जैसे अभ्यास मन/शरीर के लिए महत्वपूर्ण हैं. यह तनाव को कम करने में मदद करता है, जो वजन बढ़ने के मुख्य कारणों में से एक है. जैसे-जैसे हमारा दिन बढ़ता है यह आदत बेहतर निर्णय लेने वालों की भी मदद करती है.

भोजन समय पर करें : भोजन का सबसे बड़ा हिस्सा दिन के समय खा लेना जरूरी हो होता है क्योंकि आधी रात को आपका लीवर आपके भोजन को पचा लेता है और यदि आप रात में बहुत सारा खाना खाते-पीते हैं तो यह पचने में मुश्किल हो जाता है. आयुर्वेद के अनुसार दिन का अंतिम भोजन सूर्य ढलने से पहले कर लेना चाहिए. भोजन का सेवन बिना किसी डिस्ट्रेक्शन के धीरे-धीरे करना चाहिए. जैसे ही आप रात में बहुत ज्यादा खाना बंद करते हैं आपको कुछ समय में ही समझ में आ जाएगा कि आपका वजन कम हो रहा है.

इस भोजन नीति को अपनाएं : दिन में तीन बार भोजन करें. सुबह 7:30 से 9:00 बजे के बीच नाश्ता करें. दोपहर का भोजन सुबह 11:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे के बीच करें. रात का खाना 5:30 बजे से 8:00 बजे के बीच करें. रात का अंतिम भोजन सबसे छोटा भोजन होना चाहिए.

मौसम के अनुसार खाएं : गर्मी के मौसम में, ठंडा और ऊर्जावान बने रहने के लिए हाई कार्बोहाइड्रेट वाले फलों और ताजी सब्जियों का सेवन करें. पतझड़ और सर्दियों में, ठंड से बचाने के लिए जड़ वाली सब्जियां, भंडारित मेवा, बीज और फल, अनाज का सेवन करना चाहिए. वसंत ऋतु में, भारी और अम्लीय सर्दियों के आहार से हमें शुद्ध करने के लिए बहुत सारे जामुन, हरी पत्तेदार सब्जियां और अंकुरित होते हैं. जब हम अधिक से अधिक जैविक और स्थानीय भोजन करते हैं, तो हमारा शरीर स्वाभाविक रूप से पोषक तत्वों को पचाता है.

भोजन में सभी 6 प्रकार के स्वाद शामिल करें : आयुर्वेद में, छह स्वाद हैं: मीठा, खट्टा, नमकीन, तीखा, कड़वा और कसैला. सभी को अपने दैनिक आहार में शामिल करें. मीठा, खट्टा और नमकीन स्वाद अनाबोलिक प्रकृति का होता है और उन्हें संतुलित करने के लिए तीखे, कड़वे और कसैले स्वाद की आवश्यकता होती है, जो कैटोबोलिक प्रकृति के होते हैं. याद रखें कि अति किसी भी चीज की बुरी होती है.

भोजन के बाद टहलें : प्रत्येक भोजन के बाद थोड़ी देर टहलना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह पाचन को ठीक करता है. दोपहर के भोजन के बाद टहलने जाना सबसे महत्वपूर्ण है, मध्यम गति से 10 से 20 मिनट टहलें. जब आप उसके बाद लेटना चाहें, तो पाचन में और सहायता के लिए 10 मिनट चलने के बाद अपनी बाईं करवट लेकर सोएं.

सूर्य के साथ उठें और सोएं : सूर्य के साथ बिस्तर पर जाएं, और एक प्रमुख हार्मोन-संतुलन प्रभाव पैदा करने के लिए सूर्य के साथ उठें. देर रात को हम जिन स्क्रीनों को देखते हैं, वे हमें जगाए रखती हैं और हमारे शरीर के स्वाभाविक रूप से धीमा होने के बाद तार-तार हो जाती हैं. सोने से दो घंटे पहले, अपने स्क्रीन समय को सीमित करना शुरू करें. रात 10:00 बजे से पहले बिस्तर पर जाएं. आपके लिए सात से नौ घंटे ठीक से सोना जरूरी है क्योंकि यह शरीर को डिटॉक्सीफाई करने और अगले दिन के लिए रीसेट करने का समय देता है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें