1. home Hindi News
  2. election
  3. up assembly elections
  4. varanasi news sp candidate kishan dixit arrives to file nomination in mahant getup acy

Varanasi News: महंत के गेटअप में नामांकन करने पहुंचे किशन दीक्षित, नीलकंठ तिवारी को देंगे कड़ी टक्कर?

वाराणसी शहर दक्षिणी सीट से सपा प्रत्याशी किशन दीक्षित सोमवार को महंत के गेटअप में नामांकन दाखिल करने पहुंचे. इस दौरान वह चर्चा का विषय बने रहे.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
Varanasi News: महंत के गेटअप में नामांकन करने पहुंचे किशन दीक्षित
Varanasi News: महंत के गेटअप में नामांकन करने पहुंचे किशन दीक्षित
प्रभात खबर

Varanasi News: वाराणसी में नामांकन का दौर शुरू हो चुका है. नामांकन के तीसरे दिन सोमवार को अलग-अलग दलों के सभी बड़े पुराने नेता समेत नए प्रत्याशियों के भी चेहरे देखने को मिले. इसमें समाजवादी पार्टी के शहर दक्षिणी विधानसभा से प्रत्याशी कामेश्वर दीक्षित उर्फ किशन का नाम चर्चा का विषय बना हुआ है. सपा के शहर दक्षिणी के प्रत्याशी महंत का हिंदुत्ववादी चेहरा का मुकाबला सीधे बीजेपी के शहर दक्षिणी विधानसभा के वर्तमान विधायक और योगी सरकार में पर्यटन और धर्मार्थ कार्य मंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी से माना जा रहा है.

वाराणसी शहर दक्षिणी सीट पर मुकाबला हुआ रोचक 

दो बड़े ब्राह्मण चेहरों की टक्कर को काफी रोचक मुकाबला के तौर पर देखा जा रहा है. पूरे महंत के गेटअप में नामांकन कराने पहुंचे किशन दीक्षित ने अपने हिंदुत्ववादी स्वरूप का सीधे परिचय दिया है.

2017 में टिकट नहीं पा सके थे किशन दीक्षित

किशन दीक्षित पेशे से वकील होने के साथ ही बनारस के प्रसिद्ध महामृत्युंजय मंदिर के महंत भी हैं. किशन वाराणसी की शहर दक्षिणी विधानसभा से काफी लंबे वक्त से समाजवादी पार्टी से टिकट मांग रहे थे. 2017 के विधानसभा चुनावों में भी किशन दिक्षित का नाम सबसे आगे था, लेकिन गठबंधन की वजह से किशन पिछले साल पीछे रह गए. इस बार काफी जद्दोजहद के बाद किशन को टिकट मिल गया.

चुनाव प्रचार में पुजारी के रूप में नजर आ रहे किशन दीक्षित

किशन दीक्षित महामृत्युंजय मंदिर के महंत होने की वजह से अपने चुनाव प्रचार में भी पूरी तरह से पुजारी के रूप में नजर आ रहे हैं. सोमवार को नामांकन करने पहुंचे किशन दीक्षित पुजारी के रूप में ही दिखाई दिए. पीले रंग की धोती दुपट्टा और बनियान में किशन दीक्षित का यह रूप निश्चित तौर पर बीजेपी के हिंदुत्ववादी चेहरे के आगे सपा के एक अलग चेहरे को पेश करने के लिए काफी है.

रिपोर्ट: विपिन सिंह, वाराणसी

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें