Advertisement

muzaffarpur

  • Oct 25 2015 12:09AM

अमित शाह ने दिया सभी 11 सीट जीतने का टास्क

मुजफ्फरपुर: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मुजफ्फरपुर के सभी 11 विधान सभा सीट पर गंठबंधन के प्रत्याशी की जीत के लिए शुक्रवार को करीब ढाई बजे रात तक मंथन में लगे रहे. शाम साढ़े सात बजे से बैठकों का दौर शुरू हुआ. संघ व पार्टी के जिला अधिकारियों, विधान सभा प्रभारियों, समन्वयकों के साथ बैठक में काफी मंथन चला. एक-एक विधान सभा सीट की स्थिति के बारे में जानकारी ली.

किस विधान सभा सीट से कौन दल के किस प्रत्याशी से सीधा मुकाबला है, किस विधान सभा की जातीय गणित क्या है, वहां पर कौन सा प्रत्याशी-पार्टी का वोट काटकर नुकसान पहुंचा रहा है, इन हर मुद्दों पर गहन मंत्रणा हुई. मंथन में यह मामला सामने आया कि छह सीटों पर पार्टी व गंठबंधन के उम्मीदवार जीत की स्थिति में है.

शेष पांच सीटों पर सीधा मुकाबला है. वर्तमान स्थिति में इन पांच सीटों पर जीत किसकी होगी, यह संशय बना हुआ है. शाह ने सभी 11 सीटों पर जीत को लेकर रणनीति तैयार की. किस सीट पर किस वोट बैंक को ठीक करने से जीत सुनिश्चित होगी, उस पर भी चर्चा की. साथ ही उस हिसाब से सभी सीटों के लिए उपयोगी कार्यकर्ताओं, पार्टी अधिकारी व संघ परिवार से जुड़े सदस्यों को काम करने का निर्देश दिया. एक विधान सभा क्षेत्र की समीक्षा के दौरान एक कार्यकर्ता की बोलचाल की शैली से श्री शाह काफी नाराज हुए और पार्टी के एक जिम्मेदार अधिकारी को कार्यकर्ता की शैली के लिए जमकर क्लास ली.

पार्टी के विभिन्न विंगों के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के बाद उन्हें अपने-अपने प्रभाव वाले क्षेत्र में मतदाताओं के बीच जाने का निर्देश दिया. शाह ने सात घंटे तक पिछड़ी, अति पिछड़ी, दलित, महादलित, बुद्धिजीवी व विभिन्न संगठनों के साथ ही पार्टी अधिकारियों के साथ बैठक में एक ही सूत्र दिए कि किसी भी शर्त पर यहां के सभी 11 सीटों पर विजय पाना है. बैठकों के बाद कोर कमेटी की बैठक आयोजित की गई जिसमें केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, लालबाबू प्रसाद, सांसद अजय निषाद, पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष रवींद्र सिंह, मध्य प्रदेश से आए पार्टी नेता अरविंद मेनन व विनोद गोसिया तथा दिल्ली के पवन शर्मा आदि उपस्थित थे.

Advertisement

Comments

Advertisement