1. home Hindi News
  2. world
  3. mixed covid vaccine two different vaccine dose coronavirus vaccine germany vaccination prt

इस देश ने दी दो अलग-अलग वैक्सीन लगाने की इजाजत, जानिए क्या हैं इसके फायदे, क्या कहते हैं जानकर

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Corona Vaccination
Corona Vaccination
प्रतीकात्मक तस्वीर
  • कोरोना की दो अलग-अलग वैक्सीन

  • जर्मनी ने आधिकारिक रुप से दी मान्यता

  • अलग-अलग वैक्सीन के क्य हैं फायदे

Covid 19 Vaccine, Two Different Dose: कोरोना वायरस के खिलाफ पूरी दुनिया में जोर शोर से वैक्सीनेशन का काम चल रहा है. इधर कई जानकारों का मानना है कि वैक्सीन की दो अलग अलग डोज या मिक्स डोज दी जा रही है. जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्कल ने भी कोरोना वैक्सीन की दो अलग अलग डोज लगवाई है. इसी के साथ जर्मनी में वैक्सीन की दो अलग-अलग डोज लगवाने की इजाजत भी दे दी गई है. अब वो दुनिया का पहला सा देश बन गया है जहां इसकी आधिकारिक इजाजत मिल गई है.

गौरतलब है कि जर्मनी में मुख्य रुप से एस्ट्राजेनेका, फाइजर या मॉडर्ना की वैक्सीन दी जा रही है. एसे में सरकार ने कहा है कि अगर कोई एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का पहला डोज ले लिया है, को वो दूसरी डोज में फाइजर या मॉडर्ना या फिर बायोएनटेक की वैक्सीन लगवा सकता है. एसा करने वाला जर्मनी पूरी दुनिया में पहला देश बन गया है. गौरतलब है कि कई जानकारों का कहना है कि वैक्सीन की दो अलग-अलग डोज कोरोना के लिए ज्यादा कारगर होगी.

दो अलग डोज क्या हैं फायदे: बता दें, कोरोना के खिलाफ वैक्सीन की दो अलग अलग डोज लेना कोई बात नहीं है. कई लोगों ने दो अलग अलग डोज लिया हैं. कई जानकारों का कहना है कि, दो अलग-अलग डोजों से प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है. बता बता तक करीब करीब पूरी दुनिया में एक शख्स को एक ही वैक्सीन की दो डोज दी जा रही है. लेकिन अब दो अलग अलग डोज धडल्ले से कई देशों में दिया जा रहा है.

अमेरिका समेत कई और देशों में वैक्सीन की अलग अलग डोज लेने की इजाजत दी गई है. लेकिन जर्मनी में आदिकारिक रुप से अलग-अलग वैक्सीन की इजाजत मिल गई है. जर्मनी में टीकाकरण रिसर्च टीम का कहना है कि मिक्स डोज वैक्सीनेशन से कोई नुकसान नहीं है. कई मायनों में बेहतर ही है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें