1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. water all around in east medinipur district of west bengal after cyclone yaas mtj

Cyclone Yaas 2021: दीघा सहित पूर्वी मेदिनीपुर के अधिकांश इलाकों में चारों ओर दिख रहा था पानी ही पानी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मेदिनीपुर के अधिकांश इलाकों में पानी ही पानी
मेदिनीपुर के अधिकांश इलाकों में पानी ही पानी
PTI

हल्दिया: चक्रवात 'यश' का सर्वाधिक कहर पूर्व मेदिनीपुर में विशेषकर जिले के दीघा में देखने को मिला. दीघा समेत कमोबेश समूचे पूर्वी मेदिनीपुर में ही पानी भर गया. जिला के लोगों ने बताया कि अम्फान से हुए नुकसान से अधिक क्षति इस बार हुई है.

एनडीआरएफ की टीम ने लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया
एनडीआरएफ की टीम ने लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया
PTI

बुधवार सुबह से समुद्र का रौद्र रूप देखने को मिला. समुद्र का पानी गार्ड रेल पार कर आसपास के इलाके व गांवों में प्रवेश करने लगा. हालांकि, प्रशासन की ओर से पहले ही बड़ी तादाद में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया था.

ऐसा था दीघा में समुद्र का रौद्र रूप
ऐसा था दीघा में समुद्र का रौद्र रूप
PTI

बिगड़ती स्थिति के मद्देनजर सेना के जवानों को उतारा गया. नावों के जरिये जवानों ने गांवों में फंसे लोगों को बचाकर उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया. एनडीआरएफ की ओर से भी बड़ी तादाद में कर्मियों को बचाव कार्य में उतारा गया.

राहत एवं बचाव के लिए सेना को उतारना पड़ा
राहत एवं बचाव के लिए सेना को उतारना पड़ा
PTI

बुधवार सुबह से चक्रवात यश तथा पूर्णिमा के डबल इफेक्ट की वजह से दीघा के आसपास का इलाका समुद्र के विस्तृत रूप के तौर पर दिखने लगा. दीघा मेन रोड पूरी तरह से जलमग्न हो गया. स्टेट जनरल अस्पताल भी पानी में डूब गया.

संकराईल में हुगली में जलक्रीड़ा करते युवा
संकराईल में हुगली में जलक्रीड़ा करते युवा
PTI

मरीजों को किसी तरह दूसरे स्थानों पर ले जाया गया. दीघा मेन रोड पर खड़ी गाड़ियां पूरी तरह से पानी में डूब गयीं थीं. दीघा के अलावा ताजपुर, मंदारमनी, शंकरपुर सहित विभिन्न गांवों में पानी भर गया. एनडीआरएफ के लोग व सेना के जवान नावों के जरिये लोगों को बचाने के लिए उतर गये थे.

मेदिनीपुर में समुद्र में उठी ऊंची-ऊंची लहरें
मेदिनीपुर में समुद्र में उठी ऊंची-ऊंची लहरें
PTI

कई लोगों को तैरकर अपनी जान बचाते देखा गया. जिले के डीएम पुर्णेंदु कुमार माझी ने कंट्रोल रूम से समूचे हालात पर नजर रखी और जरूरी दिशा-निर्देश दिये. पूर्वी मेदिनीपुर के अन्य स्थानों, नंदीग्राम, खेजुरी, कांथी, हल्दिया, महिषादल व तमलूक के करीब 51 तटबंध टूट जाने से इलाकों में पानी भर गया. तटबंधों की मरम्मत में स्थानीय लोगों ने हाथ बंटाया.

दीघा में उठी ऊंची लहरें, तो जान बचाने के लिए भागे लोग
दीघा में उठी ऊंची लहरें, तो जान बचाने के लिए भागे लोग
PTI

पूर्वी मेदिनीपुर के चार लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया. डीएम पुर्णेंदु कुमार माझी ने कहा कि लोगों की जान बचाना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता थी. कच्चे और जर्जर घरों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया. जब तक स्थिति सुधर नहीं जाती, लोगों को वहीं रखा जायेगा. उनके लिए सूखे भोजन की भी व्यवस्था की गयी है.

यश चक्रवात की वजह से फंसे लोगों के लिए की गयी भोजन की व्यवस्था
यश चक्रवात की वजह से फंसे लोगों के लिए की गयी भोजन की व्यवस्था
PTI

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें