1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. 150 years of mahatma gandhi iit kharagpur to conduct international e symposium on gandhian thoughts and philosophy

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोह : आईआईटी खड़गपुर ने ‘गांधीवादी विचार और दर्शन’ पर शुरू की अंतरराष्ट्रीय ई-संगोष्ठी

By Mithilesh Jha
Updated Date
अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया समेत कई देशों के 1000 से अधिक लोग वेबिनार में भाग लेंगे.
अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया समेत कई देशों के 1000 से अधिक लोग वेबिनार में भाग लेंगे.

कोलकाता : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) खड़गपुर महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोहों के पूरे होने के उपलक्ष्य में शीर्ष वैश्विक विश्वविद्यालयों के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय ई-संगोष्ठी का आयोजन कर रहा है.

संस्थान के एक प्रवक्ता ने बताया कि अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड के विश्वविद्यालयों के शिक्षाविद् और आईआईटी खड़गपुर के प्राध्यापकों समेत भारत से गांधीवादी विशेषज्ञ अगस्त के कुछ चुनिंदा दिनों में ‘गांधीवादी विचार और दर्शन’ पर वेबिनार के माध्यम से चर्चा करेंगे.

संस्थान के निदेशक प्रोफेसर वीरेंद्र कुमार तिवारी ने कहा, ‘सभी अनिश्चितताओं एवं एकाकीपन के बीच, हम अपनी प्रेरणा महात्मा गांधी से लेते हैं, जो न सिर्फ भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सबसे बड़े नेता थे, बल्कि मौलिक अधिकारों, आत्मनिर्भरता और करुणा के मामलों में कई वैश्विक नेताओं के लिए आदर्श हैं.’

अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई देशों के 10 विश्वविद्यालय होंगे शामिल

ये वेबिनार अमेरिका की मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) और भारत के गांधी फोरम के साथ 8 अगस्त को, टफ्ट्स यूनिवर्सिटी के साथ 15 अगस्त को, ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी, अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास अर्लिंगटन के साथ 20 अगस्त को, ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स, ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न, न्यूजीलैंड की मासे यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ ऑकलैंड के साथ 27 अगस्त को तथा यूनिवर्सिटी ऑफ एलबर्टा और कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के साथ 28 अगस्त को होंगे.

इन विषयों पर होगी चर्चा, 1000 से ज्यादा प्रतिभागी शामिल होंगे

वेबिनार के विषयों में ‘सर्वोदय (सार्वभौमिक उत्थान या सबके लिए प्रगति और स्वावलंबन) आत्मनिर्भरता की तलाश', ‘आज के विश्व में गांधीवादी विरासत’, ‘ब्रांडिंग गांधी, भारत में विकास के लिए गांधीवादी अर्थशास्त्र’, ‘आत्मनिर्भर भारत से सर्वोदय तक’ शामिल होंगे. इनमें दुनिया भर से 1,000 से ज्यादा प्रतिभागी हिस्सा लेंगे. श्री तिवारी ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि यह बहुत सफल होगा और लोगों को प्रेरित करेगा.’

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें