केंद्र को हमेशा गाली देना, फिर अपेक्षा करना, यह कैसा दोहरा चरित्र : कैलाश विजयवर्गीय

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

- भाजपा महासचिव ने ममता की आलोचना पर पूछा सवाल

कोलकाता : भाजपा के महासचिव व पश्चिम बंगाल के केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आमंत्रित नहीं किये जाने पर आलोचना किये जाने पर पलटवार करते हुए पूछा : केंद्र को हमेशा गाली देना, फिर अपेक्षा करना, यह कैसा दोहरा चरित्र है?

उल्लेखनीय है कि सुश्री बनर्जी ने शुक्रवार को विधानसभा में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में आमंत्रित नहीं किये जाने पर एतराज जताते हुए कहा : जब मैं रेल मंत्री थी, तब मेरी टीम को इस परियोजना को मंजूरी दिलाने के लिए ‘बहुत पापड़ बेलने’ पड़े थे. जब मुझे इस उद्घाटन के बारे में भी नहीं बताया गया तो मुझे बहुत बुरा लगा.

सुश्री बनर्जी की आलोचना पर श्री विजयवर्गीय ने कहा : केंद्र और राज्य के बीच कुछ मर्यादाएं होती हैं. उस मर्यादाओं का दीदी ने हमेशा उल्लंघन किया है. जितनी भी केंद्र सरकार की योजनाएं हैं. प्रधानमंत्री सड़क योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय बनाने की योजना, सभी योजनाओं को अपने नाम से कर लिया. केंद्र की उपेक्षा करना, केंद्र की अवहेलना करना, केंद्र को हमेशा गाली देना और उसके बाद केंद्र से अपेक्षा करना यह दोहरा चरित्र कैसा है?

उन्‍होंने कहा कि पहले अपना स्टैंड ममता जी बतायें? क्या उन्हें केंद्र और राज्य के संबंध की मर्यादा का ध्यान है? क्या वह उसका पालन करती हैं? उसके बाद वह केंद्र से अपेक्षा करें. जैसा ममता जी का तरीका है काम करने का, उसका यही जवाब होगा. उन्होंने कहा : पश्चिम बंगाल में सांसदों के एमपी लैड की राशि से बनी परियोजनाओं का भी उद्घाटन कर देते हैं. सांसदों को जिला समिति योजना की बैठक में तृणमूल सरकार बुलाती ही नहीं हैं. केंद्र आपकी चिंता करे और आप केंद्र की चिंता न करें. ऐसा अनंत काल तक नहीं चल सकता है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें