खुली सिलीगुड़ी नगर निगम की नींद, नयी टीम गठित

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
सिलीगुड़ी:दुर्घटना के बाद सिलीगुड़ी नगर निगम का ध्यान शहर के पुराने व जर्जर मकानों पर पड़ा है. जर्जर अवस्था में पड़ी बहुमंजिली इमारतों को चिह्नित करने के लिए नगर निगम ने एक टीम गठित किया है. इस टीम द्वारा सौंपी गयी रिपोर्ट के आधार पर निगम जर्जर मकान तोड़ने के लिए उनके मालिकों को नोटिस देगा. मकान तोड़ने के लिए मालिकों को एक महीने का समय भी दिया जायेगा. इसके बाद निगम अपने स्तर पर कार्रवाई करेगा.

उल्लेखनीय है कि सिलीगुड़ी शहर व्यवसाय के दृष्टिकोण से उत्तर-पूर्वी भारत का प्रवेशद्वार माना जाता है. वर्षों पहले यहां नगर बसना शुरू हुआ जो आज भी जारी है. सिलीगुड़ी को एक उन्नत शहर की श्रेणी में रखा जाता है. लेकिन जर्जर बहुमंजिला इमारतें इस पर सवालिया निशान खड़ा कर रही हैं. हाल ही में शहर के 9 नंबर वार्ड में स्थित करीब सौ वर्ष पुराना मकान ढह गया. एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया है, लेकिन सिलीगुड़ी नगर निगम को एक सीख भी मिली है.
पिछले काफी समय से जर्जर व अवैध निर्माण को तोड़ने की मांग किया जा रही है. अवैध निर्माण को हटाने के लिए विरोधी दल तृणमूल कांग्रेस लगातार हल्ला बोल कर रही है. लेकिन निगम का माकपा बोर्ड नोटिस देने के आगे नहीं बढ़ पा रहा है. पिछली बोर्ड बैठक में भी अवैध निर्माण के मुद्दे ने काफी जोर पकड़ा था. विभागीय मेयर परिषद सदस्य नूरूल इस्लाम ने पुलिस प्रशासन की असहयोगिता को मुख्य कारण बताया और अंतिम नोटिस के बाद पुलिस प्रशासन के साथ चिह्नित अवैध निर्माण को तोड़ने का आश्वासन दिया था. सिलीगुड़ी के खालपाड़ा, महाबीर स्थान, विधान मार्केट, हाकिम पाड़ा. पंजाबी पाड़ा, बाबू पाड़ा आदि इलाकों में सौ से अधिक जर्जर मकान हैं.
शनिवार की घटना के बाद सिलीगुड़ी नगर निगम अवैध निर्माण व जर्जर मकानों को तोड़ने के लिये तत्पर हो गया है. निगम से मिली जानकारी के अनुसार, इंजीनियरों व अधिकारियों को लेकर विभागीय मेयर परिषद के नेतृत्व में एक टीम गठित की गयी है. यह टीम निगम क्षेत्र के अंतर्गत वर्षों पुरानी जर्जर मकानों व अवैध निर्माण को चिह्नित कर एक रिपोर्ट मेयर को सौंपेगी. इस रिपोर्ट के बाद सिलीगुड़ी नगर निगम की ओर से मालिकों को जर्जर स्थिति में खडी मकानों को एक माह के भीतर तोड़ने का नोटिस जारी करेगी.

अवैध निर्माण को तोड़ने के लिए भी नोटिस जारी किया जायेगा. एक महीने के भीतर मकान ना तोड़ने पर सिलीगुड़ी नगर निगम अपने स्तर पर कार्यवाही करेगा.
इस संबंध में सिलीगुड़ी नगर निगम के मेयर अशोक भट्टाचार्य ने कहा कि जर्जर मकानों को चिह्नित करने के लिए एक टीम गठित की गयी है. एक महीने के भीतर जर्जर मकानों को न तोड़ने पर निगम खुद कार्रवाई करेगा.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें